0
गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागू पाए !
बलिहारी गुरु आपने गोविंद दिये बताए !!

यह कबीरदास का लोकप्रिय दोहा है ! इसमे कहा गया है की गोविंद की पहचान करना गुरु ही बताते है !!
इंसान स्वय की शक्तियों से परिचित हो ! इसके लिये गुरु की ज़रूरत पड़ती है ! स्वयं कबीर एक रात जब गँगा तट की सीढ़ीयों पर पड़े थे तो उनके शरीर रामानंद जी के पैर पड़ गये ! तब रामानंद जी के मुख से राम राम शब्द निकल पड़े ! उसी राम नाम को कबीर ने अपना दीक्षा मंत्र मान लिया और रामानंद को अपना गुरु स्वीकार कर लिया ! कहते है की यह रामानंद जी के ही विचार थे ! जिन्होने  कबीर को धर्म से ऊपर उठकर देखने की शक्ति प्रदान की !

ऊर्जा से लबालब थे स्वामी विवेकानंद ! उनकी ऊर्जा को सही दिशा देने का काम उनके गुरु स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने किया ! गुरु के बताए मार्ग पर चलने के कारण ही ही विवेकानंद ने मानव और राष्ट्रधर्म के बारे मे जन - जन को बताया कर्मयोग के माह्यम से सम्पूर्ण विश्व को वेदांत दर्शन से परिचित कराया !

गुप्त काल मे चंद्रगुप्त के शासन मे भारत एक संप्रभु और शक्तिसम्पन्न देश बना ! यह तभी हो पाया जब आचार्य चाडक्य ने चंद्रगुप्त के मन मे अखंड भारत के प्रति प्रेम के बीज बोए ! इनके आलावा और भी कई महान लोग है ! जिनका जीवन गुरु के दिशानिर्देश से बदल गया ! हम भले ही स्वयं के अनुभवो से सीख लेकर आगे बढ़ते रहे पर हमारे जीवन मे गुरु की महत्वता सदेव बनी रहेगी !

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment