0
kahani ram ravan laksman !! 
राम-रावण युध्द के बाद जब युध्दभूमि मे रावण मरणासन्न अवस्था मे था ! उस समय भगवान श्रीराम ने लक्ष्मण से कहाँ की रावण नीति" राजनीति और शक्ति का महान पंडित है ! वह संसार से विदा ले रहा है ! यदि किसी भी विषय पर अपने विचार प्रस्तुत करता है ! तो वह बड़ा ही महत्पूर्ण है ! तुम उसके पास जाकर जीवन की शिक्षा ग्रहण करो ! लक्ष्मण रावण के सिर के नज़दीक जाकर खड़े हो गये ! रावण ने कुछ नही बताया ! तब राम ने लक्ष्मण से कहाँ की यदि किसी से ज्ञान प्राप्त करना है तो उसके चरणों के पास खड़े होना चहिये ना की सिर की और ! जब लक्ष्मण ने ऐसा किया तो महापण्डित रावण ने उन्हे तीन बाते बताई जो जीवन मे सफलता की कुंजी है :-

Ram And Ravan


1:- जितनी जल्दी हो अच्छे कार्यों को पूरा कर ले ! बुरे कार्य को यथासंभव टालते रहे ! मैं राम को पहचान नही सका और उनकी शरण मे आने मे देरी कर दी ! इसी से मेरी हालत हुई !

2:- अपने प्रतिद्वंदी को कभी कमतर नही समझना चहिए ! मैने जिसे सधारण वानर और भालू समझने की कोशिश की" उन्होने मेरी पूरी सेना को नष्ट कर दिया !


3:- अपने जीवन का कोई राज़ किसी दूसरे के साथ कभी साँझा ना करे ! मैने अपने मृत्यु का राज़ विभूषण को बताया था " जो जीवन की सबसे बड़ी गलती साबित हुई !
इन तीनो बातो को लक्ष्मण ने सदा के लिये गाँठ बाँध लिया !

प्रतिक्रिया या सुझाव के लिए कमेन्ट करे !

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment