3

jin jinnat bhoot ko marna aur jism se nikalne ka ek tareeqa:- 


जिन्न भूत को भगाना और जिन्न को मारना पीटना एक बड़े आलिम ए दिन इब्ने ताइमीया रह. के मुतबिक मजलूम भाई की मदद करना एक ईमान वाले भाई की मदद करना एक ईमान वाले का फर्ज है ! Asebzadah ( जिसे जिन्न के असरात हो ऐसा ) इंसान भी मजलूम है लेकिन अल्लाह के हुकुम के मतबीक इंसाफ के साथ मदद करना होगा ! अगर जिन्न समझाने के बाद भी ना माने तो उसे डाटडपट करना गाली गलौज करना धमकी देना और लात मलामत करना जायज है ! जैसा की प्यारे नवी (muhmmad sallahualayhi wasllam) ने उस शैतान के साथ किया जो आपके चेहरे मुबारक पर मारने के लिए आग का शोला ले कर आया था !


आप s.a.w.s. ने फरमाया था :-  मैं तुझसे अल्लाह की पनाह चाहता हूँ ! मैं तुझ पर अल्लाह की लानत भेजता हूँ ! इस तरह आपने तीन दफा फरमाया !
किसी आसेबजदह शक्स के इलाज यानी जिन्न को भगाने के लिए कुछ लोग उसे खुश कर के उसकी माँगे पूरी करके या किसी चीज़ की कुर्बानी देकर या किसी बकरा बकरी की बलि देकर जिन्न को भगाते है लेकिन रुहानी इल्म मे यह अमल नही अपनाया जाता बल्की जिस शक्स को असरात हो गये हो उसके जिस्म से जिन्न जीन्नात निकालने के लिए सबसे पहले उस जिन्न को समझया जाता है और और जब वह नही मानता है तो जिसे असरात हो उसे मारा जाता है और यह अमल आमिल लोग करते है जिससे यह मार जिन्न को लगती है ! इस तरह उस जिन्न खूब मारा पिता जाता है लेकिन यह बात अच्छी तरह समझ लिजिए की जरूरी नही की हर बीमारी का इलाज इसी तरह किया जाए और हर बीमारी को जिन्न भुत से जोड़ कर देखा जाए बल्की सबसे पहले डॉक्टर को दिखाया जाए और अगर कोई बीमारी हो तो इलाज किया जाए !

पढ़े :-
1. जीन्नात की आबीदी ( तादाद )
2. Mohabbat KA Amal Surah Falak Ki Taweez Se

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

सवाल जवाब पुंछे करे

  1. Meri shadi ko 2year ho gai hai meri wife par jinnat ka asar hai o us ko bahot tklif deta hai meri wife bahot pareshan hai plzzz meri madat ki jiy mai ne bahot se alim ko dikhaya lekin kuch fayda nahi huwa
    Mera mobile number hai 09702786109
    Mai mumbai me rahta hun plzz help me

    ReplyDelete