0
भारत के 5 रहस्यमय मंदिर - प्राचीन काल के मंदिर वास्तु और खगोल विज्ञान को ध्यान मे रखकर बनाया जाता था | सूत्रो के मुताबिक पहले राजा महराजा अपना खजाना छुपाकर उसके ऊपर मंदिर बना देते थे | और खजाने तक पहुँच बनाए रखने के लिए अलग से रास्ते बनाते थे |

भारत मे कुछ मंदिर ऐसे भी है जिंका सम्बंध न तो वास्तु से है न खगोल विज्ञान से और न ही खजाने से लेकिन इन मंदिरो का रहस्य आज तक किसी ने भी पता नहीं लगा पाया | ऐसे ही 5 रहस्यमय मंदिर के बारे मे आइये जानते है |

mystry temple


तवानी मंदिर - हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला से 25 KM दूर तवानी मंदिर स्थित है | धर्मशाला को गरम पानी के झरनो और कुंडो के लिए जाना जाता है | इस मंदिर के बाहर एक गरम पानी का कुंड है | इस कुंड मे स्नान के बाद कोई भी द्र्श्नार्थी अंदर प्रवेश कर सकता है | इस मंदिर का पानी गर्म कैसे होता है यह बात आज तक एक रहस्य बनी हुई है | मान्यता है कि यहा का गरम पानी शरीर के लिए लाभदायक है |



ज्वाला मंदिर - हिमाचल के कांगड़ा घाटी के दक्षिण मे 30 KM की दूरी पर ज्वालादेवी का मंदिर स्थित है | यह माँ सती के 51 शक्तिपीठो मे से एक है | यह माता के जीभ से गिरि थी | यह मां सती के 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां माता की जीभ गिरी थी। हजारों वर्षों से यहां देवी के मुख से अग्नि निकल रही है। कहते हैं कि इस मंदिर की खोज पांडवों ने की थी। यहां एक तांबे का पाइपनुमा बना हुआ है, जिससे नेचुरल गैस निकलती रहती है। इनसे अग्नि की अलग-अलग 9 लपटें निकलती रहती हैं। कहते हैं कि ये अग्नि अलग-अलग देवियों को समर्पित हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार यह मृत ज्वालामुखी की अग्नि हो सकती है 

करणी माता मंदिर - करणी माता मंदिर राजस्थान मे बिकानेर से कुछ दूर पर देशनोक स्थान पर है | इस स्थान को मूषक नाम से भी जाना जाता है | इस मंदिर की विशेषता है की यहा भक्तो से ज्यादा चूहे नजर आते है | काले चूहो के बीच अगर किसी भक्त को सफ़ेद चूहा दिख गया समझो मनोकामना पूरी हो गई | यह यहा की मान्यता है | इन चूहो को काबा भी कहा जाता है | इस मंदिर की आश्चर्यजनक बात यह है कि चूहे से पटे मंदिर से बाहर कदम रखते ही एक भी चूहा नजर नहीं आता है | इस मंदिर के भीतर कभी भी बिल्ली प्रवेश नहीं करती | यह भी कहा जाता है की जब प्लेग जैसी बीमारी ने अपना आतंक दिखाया था तब मंदिर ही नहीं पूरा इलका इस बीमारी से महफूज था |

कामाख्या मंदिर - यह मंदिर असम के गुहाहाटी मे स्थित है | पौराणिक मान्यता है कि साल मे एक बार अम्बूवाची पर्व के दौरान माँ भगवती की गर्भगृह स्थिति महामुद्रा [ योनित्रिथ ] से निरंतर तीन दिनो तक जल प्रवाह के स्थान पर रक्त प्रवाहित होता है
इस मंदिर के चमत्कार और रहस्यो के बारे मे किताबे भरी पड़ी है | हजारो ऐसे किस्से है जिससे इस मंदिर के चमत्कारिक और रहस्यमय होने का पता चलता है |

यह पढेरहस्यमय 130 साल पुरानी डेडबॉडी के बारे मे

खजुराहो का मंदिर - आखिर क्या कारण है कि उस काल के राजा ने सेक्स को समर्पित की एक पूरी श्रिंखला बनवाई ?? यह रहस्य आज भी बरकरार है |खजुराहो वैसे
भारत के मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले मे स्थित एक छोटा सा कस्बा है लेकिन फिर भी भारत मे ताजमहल के बाद सबसे ज्यादा देखे और घूमे जाने वाले पर्यटन स्थल मे अगर कोई दूसरा नाम आता है तो वह खजुराहो

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment