0
सूर्य ग्रहण - अमेरिका के लोग महाद्वीप में होने वाले दुर्लभ सूर्य ग्रहण को देखने के लिए चश्मे और अन्य सुरक्षा के साथ तैयारी कर रहे हैं। इस बीच, नेत्र चिकित्सक दृष्टि सुरक्षा जानकारी को स्पष्ट कर रहे हैं-और इस सूर्य ग्रहण को सुरक्षा के बिना देखने पर होने वाले खतरों पर प्रकाश डाल रहे है |

Solar eclipse pic

सब जानते है कि ग्रहण के दौरान सूर्य को देखना सामान्य रूप से आँखों को नुकसान पहुंचा सकता है लेकिन JAMA and JAMA Ophthalmology द्वारा प्रकाशित लेखों की एक श्रृंखला में नेत्र रोग विशेषज्ञों का एक समूह विस्तार से बताता है कि कैसे ग्रहण के दौरान सूर्य का प्रकाश रेटिना को नुकसान पहुंचाता है और इस दुर्लभ घटना के लिए तकनीकों द्वारा देखने के बारे में कुछ गलत धारणाएं फैलती हैं। उन्होंने इस मामले पर अध्ययन किया है कि जब आप एक ग्रहण के दौरान आंखों पर बिना सुरक्षा के बाहर जाते हैं तो क्या होता है ?


इस रिपोर्ट् को द वेंडरबिल्ट आई इंस्टीट्यूट, नैशविले, टेनेसी के David Calkins और Paul Sternberg ने लिखा है जो खुद भी इस ग्रहण का अनुभव करेंगे। इसमें वे कहते हैं कि कई लोगों को गलत धारणा है कि ग्रहण के दौरान सूर्य को देखना सुरक्षित रहता है। ये चंद्रमा डिस्क नहीं लेकिन सूर्य की सुंदर कोरोना सब कुछ कवर करेगा। यह उन लोगों के लिए है जो इस ग्रहण को देखने जा रहे है। रास्ते पर उन लोगों के लिए, सूर्य के कोर को दो मिनट और 41 सेकंड से भी काम समय में हटा दिया जाएगा। "हालांकि, अधिकांश लोगों के लिए, इस घटना के दौरान सूर्य के कोर का कुछ हिस्सा दिखाई देगा।"

यदि ग्रहण के दौरान दर्शकों ने उनकी सुरक्षा को दूर किया है, तो चंद्रमा को एक तरफ जाने से पहले इसको वापस इस्तेमाल महत्वपूर्ण है। अन्यथा, आप की आँखों को नुकसान हो सकता है इसलिए सभी को पूरे समय सावधान रहना चाहिए।


उन्होंने बताया कि मुख्य सूरज की रोशनी लगभग 1,350 वाट प्रति वर्ग मीटर विकिरण पर बहुत तेज होती है। हमारी आंखों की रिफ्लेक्टिव नेचर साथ, यह रेटीना में 1.5 मिमी तक जाता है। यह रेटिना में रंगीन दृष्टि के लिए जिम्मेदार फोटोरिसेप्टर कोन सेल्स है और यह हमारी आँखों को तेज दृष्टि प्रदान करता है।

दो विशिष्ट तरीकों से आंखों को नुकसान पहुंचाती है सूर्य की रोशनी -

अपनी नग्न आंखों की गेंद को सूर्य के प्रकाश में खुलने से सौर रेटिनोपैथी ( फोटिक रेटिनोपैथी या सौर रेटिनिटिस) होता है, जिसमें रेटिना विशेष रूप से बर्न्स और फोटोकैमिकल टॉक्सिसिटी को दो प्रकार से नुकसान होता है।

इसको आसानी से समझा जा सकता है। सूरज की रोशनी का एक बड़ा हिस्सा निकट-अवरक्त विकिरण (700 से 1500 नैनोमीटर) है, जो गर्मी पैदा कर सकता है और इस तरह यह जलता है क्योंकि हमारी आंखों में दर्द रिसेप्टर्स की कमी होती है, हम सूर्य को बिना देखे भी अपनी आँखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

लेकिन, नेत्र विशेषज्ञों का कहना है "अधिक चिंताजनकता" फोटोकेमिकल टॉक्सिसिटी है। सूर्य से दिखाई जाने वाली रोशनी का बड़ा झटका आंख में फोटोएक्टिव सामग्री डालता है जिस से मुक्त कण और प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों से आँखों में खुजली होती है। इनमें हेम प्रोटीन, मेलेनोसॉम्स, लाइपोफससीन और अन्य रसायन शामिल हैं। एक बार उत्पन्न होने पर, मुक्त कण और प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियां कई प्रकार के अणुओं पर हमला कर सकती हैं और झिल्ली को तोड़ सकती हैं, जिससे आँखों में टिशु और सेल्स डैमेज हो सकते है। एक बार रेटिना टिशु नष्ट हो जाता है तो इसका पुनर्निर्माण नहीं हो सकता।

लेखकों का कहना है कि ब्रिटेन में 1993 ग्रहण के दौरान 45 लोगों ने अपनी आंखों को क्षतिग्रस्त कर लिया था, जो इस विचार को समर्थन प्रदान करता है कि सौर कोशिकाओं के लगातार नष्ट होने का कारण फोटोकेमिकल टॉक्सिसिटी है। उन मामलों में अधिकांश क्षति स्थायी नहीं थीं। 7 महीने बाद 45 में से केवल 4 में सुस्त लक्षण असहजता और दृष्टि समस्या थी।

लेकिन, ज़ाहिर है, अपरिवर्तनीय क्षति अधिक लंबी है और बड़ी एक्सपोजर की संभावना है। मियामी के बसकॉम पामर नेत्र विश्वविद्यालय कीTa C. Chang और Kara Cavuoto द्वारा प्रकाशित एक केस रिपोर्ट में 12 वर्षीय लड़की में स्थायी चोटों की जानकारी दीगयी थी। लगभग एक मिनट के लिए सूर्य को देखने पर उसकी आँखों को बहुत नुकसान हुआ था। नेत्र विशेषज्ञों ने उनकी क्षतिग्रस्त रेटिना की फोटो को प्रस्तुत किया, जिनमें से एक ऑप्टिकल कॉसहेंस टोमोग्राफी (ओसीटी) द्वारा प्राप्त किया गया था, जो आंख के लिए अल्ट्रासाउंड की तरह है जिसमे क्रॉस-अनुभागीय टिशु चित्र बनाने के लिए प्रकाश का उपयोग करता है। फोटो में को उसके फव्वारे में उज्ज्वल धब्बों (सफेद तीर देखें) दिखते है जहां फोटोरिस्टर सेगमेंट को सूर्य की क्षति ने नष्ट कर दिया था। काफी परीक्षण करने के बाद भी उसकी दृष्टि बेहतर नहीं थी।

सूर्य ग्रहण से बचने के तरीके - Ways to avoid sun eclipse

  • JAMA में, जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडीसिन के Neil Bressler और सहकर्मियों ने बताया कि ग्रहण को कैसे सुरक्षित तरीके से देख सकते है। 
  • सबसे पहले तो अपनी नग्न आंखों या अनफ़िल्टर्ड दूरबीन, चश्मा, कैमरा लेंस, या अन्य ऑप्टिक्स उपकरणों के साथ ग्रहण को न देखें। भले ही आपने ग्रहण के दौरान चश्मा पहना हो लेकिन फिर भी ऐसी कोई भी वस्तु जो प्रकाश पर केंद्रित है, उसका उपयोग न करे। NASA का कहना है कि केंद्रित सौर किरणे फिल्टर को नुकसान पहुंचा सकती हैं और अपनी आंखों में प्रवेश कर सकती है।
ग्रहण को सुरक्षित देखने के लिए - To see eclipse safe
  • नंबर 14 वेल्डर चश्मा पहने जो कि वेल्डिंग आपूर्ति भंडार पर उपलब्ध है। - पिनहोल प्रोजेक्टर - इसमें आप एक पिनहोल के माध्यम से सूरज की रोशनी को देखने योग्य सतह पर प्रदर्शित करके ग्रहण देख सकते है 
  • अल्युमिनिड माइलर फिल्टर / वाणिज्यिक चश्मा जिनमें कोई भी क्षति या खरोंच नहीं हो का इस्तेमाल किया जा सकता है। अमेरिकन एस्ट्रोनोमिकल सोसाइटी का कहना है कि आईएसओ 12312-2 अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मानक को पूरा करने के लिए इन्हें मान्यता प्राप्त परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा सत्यापित किया जाना चाहिए। 
  • यदि आपको डर है कि आपकी आँखें सूर्य के प्रकाश से क्षतिग्रस्त हो गई हैं, तो तत्काल एक नेत्र चिकित्सक को दिखाए, जो आपको क्लीनिकल मूल्यांकन और परीक्षण जैसे ओसीटी के साथ इलाज करेंगे।

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment