0
पूरी दुनिया मे आज ओज़ोन डे संरक्षण दिवस मनाया जा रहा है संयुक्त राष्ट्र की इस साल की थीम है -" सूर्य की छाया मे रहने वाले हर जीव की रक्षा करना" ओज़ोन परत के क्षरण को रोकने के लिए 1987 मे जो संधि की गई थी | उसे मांत्रियल प्रोटोकाल कहते है | इसके तहबध्य तरीके से उनका उत्सर्जन रोकना था जो ओज़ोन परत को नुकसान पहुचा रहे है | आज पृथ्वी का सुरक्षा कवच खतरे मे है | ओज़ोन गैस का एक छीना - सा आवरण है ओजन परत | यह पृथ्वी के धरातल से 20 - 30 KM की ऊंचाई पर होता है | और सूर्य की हानिकारक पराबैगनी [ अल्ट्रावायलेट ] किरणों को पृथ्वी पर आने से रोकता है | इससे धरती पर जीवन सुरक्षीत रहता है | ओज़ोन ऑक्सीज़न के तीन परमाणुओ का यौगिक है |
जानिए सौरमण्डल के 8 ग्रहो का स्वरूप
ozon day today

ओज़ोन परत मे छिद्र से खतरे -



अगर ओज़ोन परत मे छिद्र हो जाता है तो पराबैगनी किरण जीव जंतुवों को नुकसान पाहुचाने लगती है | कैंसर और त्वचा संबन्धित रोग बढ्ने लगते है | मानव समय से पहले बूढ़ा होने लगता है, आंखे विकार होने लगती है | पेड़ पोधे से लेकर जलिव जीवो तक पर विपरीत प्रभाव पड़ता है | फसलों से प्राप्त अनाज की मात्रा कम हो सकती है  साथ ही जलिव पौधे की वृद्धि धीमी पड़ जाती है |



ओज़ोन परत से कैसे हो बचाव -
ओज़ोन परत को बचाने के हाइड्रोक्लोरोफ़्लोरोकार्बन [ एचसीएफ़सी ] जैसे पदार्थो से उसकी रक्षा करनी होगी | यह ग्रीन हाउस गैस ओज़ोन परत को हानी पाहुचाती है | एसी फ्रिज मे यह खतरनाक गैसे पाई जाती है इसके अलावा सुपरसोनिक जेट विमानो निकालने वाली नाइट्रोजन आक्साइड भी ओज़ोन परत को नुकसान पाहुचाती है |  ओज़ोन परत को बचाने के लिए जरूरी है कि हम इको फ्रेंडली चीजों का प्रयोग करे और अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाए जिससे हम ओज़ोन परत को हो रहे नुकसान को रोक सके |

कृपया जानकारी शेयर करे अधिक जाने नीचे कमैंट्स KMGWEB.IN पर साम्रगी ज्ञानवर्धन के लिए है यहाँ क्लिक से हमारे बारे में शारीरिक उपाय आजमाने से पहले चिकित्‍सक अथबा सलाहकार से मिले Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment