0
आपने किताबी मे या किसी पौराणिक धारावाहिक में अमृत के बारे मे कितनी बार सुना होगा ! अमृत का नाम आते ही एक अमृत मंथन की एक छवि उभरकर सामने आ जाती है ! आपके मन मे यही छवि बनी होगी की देवतागढ़ और अमृत को लेकर भागे राक्षस !! पर क्या अपने अमृत से जुड़े तथ्यों को तलाशने को कोशिश की है ! अगर नही तो चलिए आज जानते है अमृत क्या है  और क्या आज भी इसे पाना सम्भव है !

यह पढे - टाइटेनिक जहाज के बारे मे रोचक और महत्वपूर्ण तथ्य


क्या है अमृत [ WHAT IS THE AMRIT ]

आपने अमृत क्या है टीवी सीरियल को देखकर आपने ज़रूर जान लिया होगा ! और जिसे नही पता अमृत क्या है तो उन्हे बताना चाहूंगा की अमृत होने का मतलब होता है दुनिया पर राज़ करना ! अनंतकाल तक जीना और जो चाहे वह करना ! अमृत अगर कोई पी ले तो समझिए वह अमर हो गया ! 7 चिरंजीवीयो का उल्लेख महाभारत मे मिलता है ! और चिरंजीव का मतलब है अमर व्यक्ति !



अमर होने का रहस्य क्या है इसे जानने से पहले हम पहले यह जान लेते है अमृत मंथन क्यों हुआ था और अमृत का सेवन किस किस ने किया था ! अमृत का स्वाद और इसके अलावा जानेगे की क्या आज के समय मे अमृत पाना संभव है |

समुन्द्र मंथन क्षीरसागर मे शुरू हुआ ऐसा कहते है | 27 अक्तूबर 2014 की खबर के अनुसार आर्कियोलोजी और ओशनोलोजी डिपार्टमेंट ने सूरत जिले के पींजरात गाँव के पास समुंदर मे मंदराचल पर्वत होने का दावा किया था  | आर्कियोलोजी मितुल त्रिवेदी के अनुसार बिहार के भागलपुर के पास स्थित भी एक मंदराचल पर्वत है जो गुजरात के समुन्द्र से निकले पर्वत का हिस्सा है |

एक न्यूज़ चैनल की खबर के मुताबिक बिहार और गुजरात मे मिले इन दोनों पर्वतो का की बनावट एक ही तरह के ग्रेनाइट पत्थर से हुआ है | मतलब यह दोनों पर्वत एक ही है | जबकि आमतौर पर ग्रेनाइट पत्थर के पर्वत समुन्द्र मे नहीं मिला करते || जो पर्वत खोजा गया है उस पर्वत के बिचोबीच नाग आकृति है | और इसलिए ऐसा लगता है यही पर्वत मंथन के दौरान इस्तेमाल किया गया होगा |और इसी कारण गुजरात के समुन्द्र मे मिला यह पर्वत शोध का विषय बना हुआ है |




सन 1998 मे पिंजरात गाँव के समुन्द्र मे किसी प्राचीन नगर के अवशेष मिले है | और इस अवशेष को लोग मानते है की यह भगवान कृष्ण की नगरी द्वारका के है | एक शोधकर्ता ने बताया है वह और उसके कुछ साथी 800 मीटर की गहराई तक अंदर गए हुए है और उन्हे पर्वत पर घिसाव का निशान मिला है |


आज क्या अमृत पाना संभव है ?

जल ही जीवन है और यह भी सच है की जल मे कुछ ऐसे तत्व मौजूद है जिससे अमृत निकाला जा सकता है | एक शोधअनुसार पता चला है की गंगा मे ऐसे गुण है जिससे की उसका जल कभी सड़ता नहीं और ऐसा जल अमृत के समान ही है |



बहता नदी का जल है अमृत समान - नदी का पानी पीने लायक होता है और समुन्द्र का पानी पीने लायक नहीं | कुछ लोगो का मानना है की ग्रह और नक्षत्रों की विशेष स्थिति मे धरती का जल अमृत के समान हो जाता है | लेकिन आपको पता ही है आजकल सभी नदीयो का जल परदूषित कर दिया गया है |

संजनीवनी बूटी की कथा आपने सुनी होगी और इस बूटी की कथा भी अमरता से जुड़ी है | और इस विद्या का ज्ञान असुरो के गुरु शंकराचार्य के पास थी ऐसा कहते है |

आपने टीवी सीरियल मे शायद देखा होगा युद्ध मे जब दैत्य मारे जाते थे तो वे उनको संजीवनी बूटी देकर जिंदा कर दिया करते थे | और आज के समय मे भी इस बूटी को ढूंढा जा सकता है |



विज्ञान भी इस दिशा मे कार्य कर रहा है की कैसे किसी को अमर किया जाए मतलब कभी न मरे | इसके लिए बहुत सारे प्रयोग शोधकर्ताओ और प्रयोगशालों मे किए जा रहे है | रूस के साइबेरिया के जंगलो मे एक ऐसी ओषधि पाई जाती है जिसे जिंगसिंग कहते है | और इसका चीन के लोग करके देर तक युवा बने रहते है |
  • Pls Share

Post a Comment