ताजमहल के 11 राज क्या आपको पता है

आज सबको पता है ताजमहल प्यार की निशानी है और आगरा का ताजमहल की गिनती दुनिया के प्राचीन सात अजूबो मे की जाती है लेकिन ऐसे बहुत से तथ्य है जिससे लोग आज भी अंजान है | हम उन्ही ताजमहल के रहस्यो के बारे मे आज जानेगे |

ताजमहल क्या है What Is TajMahal

ताजमहल हिंदुस्तान के आगरा शहर मे स्थित है जोकि एक मकबरा है | ताजमहल का निर्माण मुगल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद मे करवाया था | ताजमहल को प्यार की निशानी भी कहा जाता है | ताजमहल देखकर ही पता चलता है कि यह मुगल शिल्पकला का बेजोड़ नमूना है |

tajmahl mystry
ताजमहल
ताजमहल की छत पर एक छेद -
आपने यह तो सुना ही होगा की ताजमहल मे एक ऐसा छेद मौजूद है जिससे मुमताज़ के मकबरे पर पानी की बूंद टपकती है और इसके पीछे कई कहानिया भी प्रचलित है जैसे - कहा जाता है की मुगल शासक चाहते थे की ताजमहल जैसी खूबसूरत इमारत कोई और न बना सके इसलिए शाहजहाँ द्वारा ताजमहल के निर्माण करने वाले कारीगरों के हाथ काटने का फ़ैसला किया जिसे मजदूर सुनकर ताजमहल मे जान बूझकर एक ऐसा छेद बना दिया जिससे शाहजहां की हसरत पूरी न हो सके |



ताजमहल के चारो तरफ बांस का घेरा -

ताजमहल की सुरक्षा की दृष्टि से भारत पाक दूसरे युद्ध मे ताजमहल के चारो और ASI द्वारा बांस का घेरा बना दिया गया था और बांस पर हरे रंग की चादर लगा दिया गया था जिससे ताजमहल दुश्मन के नजर मे न आ पाए और ताजमहल को बचाया जा सके |



ताजमहल जब पहली बार बादशाह ने देखा -
जब ताजमहल बनकर तैयार हुआ और जब शाहजहाँ ने ताजमहल का दीदार पहली बार किया तो उन्होने कहा कि यह "ये सिर्फ प्यार की कहानी ब्यान  नहीं करेगा बल्कि यह उन सबको दोषमुक्त भी करेगा जो इस पाक जमीन पर कदम रखेगा चाँद सितारे इसके गवाही देंगे"

कारीगरों के हाथ काट दिए -

मजदूरो के हाथ काट दिए ऐसा ही अफवाह आज भी ताजमहल के लिए प्रचलित है लेकिन इतिहास पर अगर हम नजर डालते है तो हमे पता चलता है कि ताजमहल के बाद भी उन ताजमहल कारीगरों के योगदान रहे जिन्होने ताज बनाया जिसमे उस्ताद अहमद लाहौरी उस दल के हिस्सा रहे थे साथ ही ताजमहल बनाने वाले कारीगरों के देखरेख मे लालकिले का भी निर्माण किया गया |




ताजमहल के मीनार का झुका होना -

अगर आप ताजमहल के मीनार पर नजर डालेंगे तो आप देख पाएंगे की ताजमहल के मीनार एक दूसरे की तरफ झुके हुए है जिसका कारण बिजली और भूकम्प आने पर मीनार मुख्य गुम्बद पर न गिर जाए इसलिए ऐसा बनाया गया है |

ताजमहल बेचा और खरीदा गया -
नटवरलाल का नाम आपने सुना है क्या अगर नहीं तो जान लीजिए नटवरलाल बिहार का बहुत बड़ा कुख्यात ठग था और नटवरलाल के बारे मे एक कहानी बहुत ही प्रसिद्ध है की उसने ताजमहल को बेच दिया था | नटवारलाल पर बहुत सारी फिल्मे भी बन चुकी है |

यमुना है तो ताजमहल है

कहा जाता है की अगर यमुना न होती तो आज ताजमहल भी न होता क्योकि ताजमहल का आधार एक ऐसी लकड़ी पर है जिसे मजबूती प्रदान करने के लिए नमी की जरूरत पड़ती है और यह नमी ताजमहल की लकड़ी को  नजदीक बहने वाली यमुना नदी से प्राप्त होती है |



कीमती पत्थर निकाल लिया जाना -
ताजमहल मुगल शिल्पकाल का बेजोड़ नमूना है जिसे बनाने मे पत्थरो का इस्तेमाल किया गया है | कहा जाता है ताजमहल बनाने मे 28 बेशकीमती पत्थर प्रयोग किए गए थे जिन्हे चीन तिब्बत और श्रीलंका से लाया गया था लेकिन इन बेश कीमती पत्थरो को ब्रिटिश शाशन काल मे अंग्रेज़ो ने निकाल लिया | यह बेशकीमती पत्थर किसी की भी आंखे चोंधीयाने की काबिलियत रखते थे |

ताजमहल बनाने मे खर्चा-
ताजमहल जितना सुंदर दिखता है उतना ही उसे बनाने मे खर्चा भी हुआ है कहते है की ताजमहल बनाने मे लगभग 32 मिलियन का खर्च आया था और आज के समय मे 32 मिलियन 1,062,834,098 USD हैं |

ताजमहल गायब हो जाना -
ताजमहल देखने वाले के लिए 8 नवम्बर 2000 का दिन बड़ा ही अचंभित करने वाला था पीसी सोरकर जेआर. ने आप्टिकल साइंस के जरिये ताजमहल को गायब करने का भ्रम पैदा कर दिया था |

ताजमहल के साथ पहली सेल्फी -
अगर आप ताजमहल देखने आगरा जाए तो आपके मन मे एक बात जरूर रहती होगी ताजमहल के साथ सेलफ़ी लेना लेकिन क्या आपको पता है ताजमहल के साथ पहली सेल्फी किसने ली तो आपको बता दे जब सेल्फी का दौर भी नहीं तब ही George Harrison ने पहली सेल्फी Fish Eye Lense की मदद से ली थी

यह पढे - ताजमहल के वह दरवाजे जिसमे दफन है कई रहस्य !
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 Comments:

Post a Comment