0
पोलियो की खोज - पोलियो को पूरी तरह से खंत्म करने के लिए महान वैज्ञानिक हिलैरी कोप्रोव्यस्की ने वैक्सीन को बनाया था | जो एक ड्रॉप के रूप मे बचो को पिलाया जाता है | इसके 2 साल बाद वैज्ञानिक जोनास साक ने पोलियो वैक्सीन इंकजेकसन की खोज की थी | poliyo ki khoj & avishkar
पोलियो क्या है ............?
पोलियो एक रोग है जो विषाणु द्वारा फेलता है यह रोग ज़्यादातर बच्चो मे पाया जाता है | लेकिन जरूरी नहीं की यह रोग केवल बच्चो को हो यह व्यस्को को भी हो सकता है | व्यस्कों मे रोग प्रतिरोधक क्षमता पाई जाती है इसलिए बच्चो की तुलना मे यह रोग वयस्को को कम होता हैं | पोलियो रोग मे वायरस संकर्मण पाये जाते है | इसलिए यह रोग एक दूसरे के संपर्क मे आने से भी हो सकता है | यह रोग अस्वच्छ भोजन, मल पदार्थ, जल के संकर्मण से हो सकता है | इस बीमारी का असर विकलांगता के रूप मे दिखाई दे सकता है साथ ही यह लाइलाज बीमारी है | इस बीमारी से बचना है एक मात्र उपाय है |


poliyo se bachav
Image Source - gharelu Nuskhe
पोलियो के लक्षण -
अधिकतर अधिकतर पोलियो के लक्षण का पता नहीं चल पाता लेकिन अन्य तरह के लक्षण इस तरह के होते है |

हल्के संक्रमण की पहचान -

  • पेट दर्द
  • उल्टी
  • गले मे दर्द
  • धीमा बुखार
  • डायरिया [ अतिसार ]
  • सिर दर्द
मस्तिष्क और मेरुदंड का मध्यम संक्रमण की पहचान -
  • मध्यम बुखार
  • गर्दन की जकड़न 
  • मांस-पेशियाँ नरम होना तथा विभिन्न अंगों में दर्द होना जैसे कि पिंडली में (टांग के पीछे) 
  • पीठ में दर्द 
  • पेट में दर्द 
  • मांस पेशियों में जकड़न 
  • अतिसार (डायरिया) 
  • त्वचा में दोदरे पड़ना 
  • अधिक कमजोरी या थकान होना

मस्तिष्क और मेरुदंड का गंभीर संक्रमण की पहचान 
  • मांस पेशियों में दर्द और पक्षाघात शीघ्र होने का खतरा (कार्य न करने योग्य बनना) जो स्नायु पर निर्भर करता है (अर्थात् हाथ, पांव) 
  • मांस पेशियों में दर्द, नरमपन और जकड़न (गर्दन, पीठ, हाथ या पांव) गर्दन न झुका पाना, गर्दन सीधे रखना या हाथ या पांव न उठा पाना 
  • चिड़-चिड़ापन 
  • पेट का फूलना 
  • हिचकी आना 
  • चेहरा या भाव भंगिमा न बना पाना
  • पेशाब करने में तकलीफ होना या शौच में कठिनाई (कब्ज) 
  • निगलने में तकलीफ 
  • सांस लेने में तकलीफ 
  • लार गिरना 
  • जटिलताएं 
  • दिल की मांस पेशियों में सूजन, कोमा, मृत्यु
मुह की दुर्गंध दूर करने के उपाय
पोलियो का उपचार - 
पोलियो से बचने के लिए टीका लगाया जाता है और इस का आविष्कार डॉ. शाक द्वारा किया गया यह इंजेक्शन अन्तः पेशियो मे लगाया जाता है | पोलियो एक व्यक्ति से व्यक्ति मे फेल सकता है इसलिए पोलियो रोगी का ज्वर उतरने के बाद कम से कम 3 सप्ताह अलग रखना चाहिए साथ ही रोगी के मल मूत्र तथा शरीर से निकलने वाले अन्य छीजो की सफाई रखनी चाहिए | पोलियो मे डीडीटी का टीका बहुत लाभकारी होता है | अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की परामर्श जरूर ले |
  • Pls Share

Post a Comment