नाग पंचमी क्यो मनाया जाता है इतिहास दिन महत्व Nag Panchami Itihas Jankari


Nag Panchami Itihas Jnakri - हिन्दू धर्म मे नागपंचमी का विशेष महत्व है इसलिए हिन्दू धर्म को मानने वाले इस पर्व बड़ी ही धूम धाम और हर्षोउल्लास के साथ मनाते है |

नाग पंचमी क्यो मनाया जाता है इतिहास दिन महत्व Naga Panchami is a traditional worship of snakes or serpents observed by Hindus throughout India, Nepal and other countries where Hindu adherents live.
nag panchami photo

नाग पंचमी - Nag Panchami पर हिन्दू धर्म के मान्यता के अनुसार भगवान शिव जी सर्पो की माला धारण करते है और विष्णु भगवान शेष नाग का शयन करते है इसलिए इनकी पुजा के लिए हर साल श्रावण महीने मे सुकल पंचमी को नाग पंचमी [ nag panchami ] त्योहार मनाया जाता है | हिन्दू धर्म मे नागो का अस्तित्व सदियो से और काफी पुराना है |



आप जो भी सोचे लेकिन एक बात इन्सानो का ही मानना है नाग और इंसान के बीच नकारत्मक प्रभाव होता है और हमारे पूर्वज का मानना या कहना है कि जब नाग अपने दिन की शुरुवात करते है तो उनकी भगवान से यही प्राथना होती है कि नागो का इंसान से सामना ना हो | इसका मतलब यह नहीं कि वह इंसान से घृणा करते है बल्कि वह इंसान से डरते है लेकिन आपको हम बता दे इसका कोई प्रमाण नहीं मिला है |

नाग कथा - हिंदु धर्मो के पुरानो के अनुसार नागो के बारे मे आश्चर्य करने वाली सच्चाई सामने आती है महाभारत की कहानियो से पता चलता है की नाग भारत की जाती थी और इस जाती की आर्यों से संघर्ष चलता था और इस संघर्ष को आस्तिक ऋषिओ ने आर्यों और नागो के बीच सुलह कराने की बहुत कोशिश की थी |

अब आपको बता दे ऋषियों द्वारा सुलह नागो और आर्यों की बीच सफल हुई इसी कारण दोनों प्रेम सूत्र मे बंध गए और साथ ही दोनों मे वैवाहिक सम्बंध होने लगे | इस तरह दोनों जातियो मे संघर्ष समाप्त हुआ | सर्पभय से मुक्ति के लिए आस्तिक का भी नाम लिया जाता है |
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 Comments:

Post a Comment