मोक्ष प्राप्ति का मार्ग चाहिए तो गया मे करे पिंडदान moksh praapti ka marg

मोक्ष प्राप्ति का मार्ग चाहिए तो गया मे करे पिंडदान moksh praapti ka marg

moksh praapti ka marg - मोक्ष प्राप्ति क्या है तो कहा जाता है भारतीय दर्शन मे नशवरता को दुख का कारण माना गया है | संसार आवागमन, जन्म-मरण और नश्वरता का केंद्र हैं। इस प्रपंच तरीके से मुक्ति पाना ही मोक्ष प्राप्त करना कहा जाता है |

मोक्ष प्राप्ति स्थान बोधगया - बौद्धगया बिहार मे स्थित एक धार्मिक स्थल है जिसे बोध धर्म का तीर्थ स्थान भी कहा जाता है | बोधगया मे एक मंदिर मौजूद है जिसे महाबोधि मंदिर के नाम से जाना जाता है | इस मंदिर का बोध धर्म मे विशेष स्थान का दर्जा दिया जाता है | इन स्थानो पर आपको या हमे बोधि वृक्ष के वंसज देखने को मिलते है जहा पर बुध्दा अपना प्रबोधन करते है | कहा जाता है अगर किसी को मौक्ष प्राप्त करना है तो उसके लिए यही एक ऐसा स्थान है जहा पर पिंडदान करके मोक्ष प्राप्त कर सकता है साथ ही पिंडदान यहा करना बढ़िया माना जाता है |
pinddan image


पिंडदान करना -  चावल और आटे को मिक्स कर एक साथ गुथकर बनाया गया एक गोलाकार पिंड होता है | पिंडदान आत्मा को अर्पित किया जाता है | शास्त्रो मे पितृ को एक उच्च स्थान दिया गया है इस कारण ही पितृ क्रिया सम्पूर्ण विधिविधान से निभाया जाता है | पिंडदान मे जब तक 5 ब्राह्मण को भोजन न कराया जाए तब तक अधूरा माना जाता है | पितृ में मृत पूर्वजों, माता, पिता, दादा, दादी, नाना, नानीसहित सभी पूर्वज आते हैं |


गौतम बुध्द ज्ञान प्राप्ति स्थान कहा है

कहा जाता है बोधगया के फाल्गु नदी के किनार वह बोधिवृक्ष मौजूद है जिसके नीचे गौतम बुध्द को ज्ञान प्राप्त हुआ | यह वही बोधिवृक्ष है जहा पर बैठकर गौतम बुद्ध ने कठोर तपस्या की थी | इस कठोर तपस्या के बाद गौतम बुध्द को बैशाख पुर्णिमा के दिन ज्ञान प्राप्त हुआ | जब गौतम बुध्द की मृत्यु हुई तो यही पर मठो का निर्माण कराया गया |

gautam budhd suvichar

भगवान बुद्ध की पदमासन की अवस्था मे मूर्ति महाबोधि मंदिर इसी जगह स्थित है जो खुद के वास्तुकला के लिए जाना जाता है |
टॉप 6 मेहंदी डिजाईन फोटो mehandi designs photo dikhao

टॉप 6 मेहंदी डिजाईन फोटो mehandi designs photo dikhao

mehandi designs - सावन के महीने मे लड़कीया मेहंदी लगाना पसंद करती है इसलिए गर्ल्स को हमेशा तलाश मे रहती है कि कोई बढ़िया मेहंदी डिजाईन मिल जाये तो आज हम कुछ मेहंदी डिजाईन दिखा रहे है अगर यह mehandi designs photo पसंद आता है तो आप इन फोटो को अपने हाथो मे लगाकर अपनी खूबसूरती मे चार चाँद लगा सकती है | mehndi designs for wedding latest.

शादी या विवाह मे दुल्हन का सजना सवरना तब तक पूरा नहीं होता है जब तक हाथो पर mehandi designs की छाप न पड़ जाये | साथ ही शादी विवाह मे जाने वाली महिलाए, लड़कीया मेहंदी डिजाईन लगाना पसंद करती है | कहा जाता है बिना मेहंदी लगाए सब कुछ अधूरा और खालीपन सा जैसा लगता है | हमने आपके लिए खास कुछ चुनिन्दा मेहंदी डिजाईन फोटो दिखा रहे है जिनहे आप अपने हाथो मे लगा सकती है साथ ही यह बताना न भूले कैसा लगा आपको मेहंदी डिजाईन फोटो |
हाथो पर मेहंदी डिजाइन
हाथो पर मेहंदी डिजाईन फोटो 1
पैरो पर मेहंदी डिजाईन फोटो
पैरो पर मेहंदी डिजाईन फोटो
यह मेहंदी डिजाईन काफी अच्छा है जिस कारण इस मेहंदी डिजाईन को अक्सर लड़कीया अपने पैरो को सुंदर दिखाने के लिए लगाती है |


टॉप 3 मेहंदी डिजाईन फोटो


1
2
3
Rose-Mehndi-Design

Rose-Mehndi-Design [photo
Rose-Mehndi-Design
तो यह थी top 6 mehndi designs for wedding latest अगर आपको अच्छा लगा तो हमे बताए और भी न्यू मेहंदी डिजाइन देखने के लिए आते रहे |
टैटू डिजाइन की शुरुवात कब हुई इतिहास जानिए photo small tattoos designs

टैटू डिजाइन की शुरुवात कब हुई इतिहास जानिए photo small tattoos designs

tattoo designs kaise - आज हम बात कर रहे है उस लेटेस्ट ट्रेंड के इतिहास कि जो आज बहुत तेजी से अपने पंख पसार है जी हाँ टैटू डिजाइन के बारे मे तो आपने सुना ही होगा लेकिन टैटू डिजाइन का इतिहास क्या है | आप जानते है क्या अगर नहीं तो आज हम बाते कर रहे tattoos designs के इतिहास की |

टैटू डिजाइन - आज के युवा पीढ़ी मे टैटू डिजाइन करवाना एक क्रेज बना हुआ है | आज के युवा भीड़ मे अपनी एक अलग पहचान एंव छाप छोड़ने के लिए टैटू डिजाइन करवा रहे है | यह टैटू डिजाइन शरीर के किसी भी हिस्से पर बनवाया जाता है | ऐसा माना जाता है अपने दिल की बात टैटू डिजाइन फोटो का सहारा लेकर युवा समझाने की कोशिश करते है साथ ही आज एक फैशन के तौर पर भी देखा जा रहा है | आज के युवा मे टैटू डिजाइन फोटो बनवाना एक नशा सा बन चुका है | लेकिन टैटू डिजाइन फोटो का जो इतिहास है वह आज बता रहे है यह सदियो पुराना है और आज जिस टैटू डिजाइन को फैशन के तौर पर देखा जा रहा है वह कभी एक प्रथा थी या फिर एक जरूरत |
tattoos designs kaise kare

टैटू डिजाइन है एक पुरानी परम्परा -
आज जिस टैटू डिजाइन को लेटेस्ट फैशन या ट्रेंड की नजर से देखा जा रहा है वह है काफी पुरानी परम्परा तो आज हम आपको कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे है जिसे जानकार आपको टैटू डिजाइन वाला व्यक्ति ओल्ड फैशन लगने लगेगा |


चीन मे टैटू डिजाइन क्यो -

आपको जानकार शायद आश्चर्य हो लेकिन यह सच है कि प्राचीन चीन मे टैटू डिजाइन असभ्य जनजातियो की निशानी हुआ करती थी | चीन साहित्य मे ऐतिहासिक नायको और डाकुओ से टैटू डिजाइन को जोड़ कर देखा जाता है | चीन मे कैदियों के चहरे पर ‘囚’ यह निशान बना दिया जाता था जिससे पता चलता था की यह व्यक्ति अपराधी है |

दास प्रथा मतलब दास की पहचान चिन्ह -
एक ऐसा समय था जब लोगो को दास बना लिया जाता था साथ ही इन डासो के मालिक अपने दास पर एक अलग तरह का पहचान चिन्ह गुदवा देते है जो उनकी पहचान बन जाती है और इससे मालिक अपने दास को याद रख पाता था की यह मेरा दास है |

हिंदुस्तान मे टैटू का संबंध -
भारत मे भी स्थायी टैटू को प्रयोग मे लिया जाता रहा है जिसे हिंदुस्तान मे गोदना के नाम से जाना जाता है | भारत मे गोदना का इतिहास काफी पुराना है | दक्षिण भारत में स्थायी टैटू को पचकुतरथु कहा जाता था और इस तरह के टैटू 1980 के समय से पहले तमिलनाडु मे बहुत ही सामान्य माना जाता था | भारत मे टैटू अलग अलग जनजातियो के लोग प्रयोग मे लेते थे | इस टैटू का कारण लोग अपनी पहचान के लिए करते थे |



अस्थाई टैटू - 
अस्थाई टैटू भी भारत का हिस्सा रहा है जो महदी की सहायता से किया जाता रहा है | मेहदी से अस्थाई टैटू आसानी से बन जाता है | यह टैटू हिन्दू समाज मे जाती वर्गो मे बटे समाज द्वारा किया जाता था | आपको पता ही होगा जा महदी का चलन ज़ोर शोर से चल रहा है | मध्यपूर्व और उत्तरी अफ्रीका मे यह प्रथा भारत से गई हुई मानी जाती है | कुछ ऐसे साक्ष्य प्राप्त हुए जिनसे पता चलता है मिस्र मे मेहदी का प्रयोग केवल बालो की रंगाई के लिए किया जाता था |

मिस्र मे टैटू डिजाइन का सम्बंध - 
प्राचीन मिस्र मे टैटू का सम्बंध केवल महिलाओ से ही था और महिला का टैटू डिजाइन महिला की हैसियत और अवस्था को दर्शाता था | साथ ही यह टैटू डिजाइन महिलाओ के धर्म और सजा को भी शो करता था | ऐसे कई सारे इतिहासकार का कहना कि टैटू का सम्बंध किसी विशेष प्रकार की बीमारी या रोग के इलाज से भी जुड़ा हुआ करता था |

जापान मे टैटू का चलन -
1603 से लेकर 1868 तक के प्राचीन जापान में मालवाहक, वेश्याएं और निम्न दर्जे पर काम करने वाले लोग ही टैटू बनवाते थे, ताकि उनकी सामाजिक पहचान बनी रहे। 1720 से 1870 तक अपराधियों के चेहरे पर भी टैटू बनाए जाते थे। जब भी अपराधी कोई अपराध करता था तो उसकी कलाई पर एक रिंग बना दी जाती थी, जितने ज्यादा अपराध उतने ज्यादा छल्ले |
अब तो आपको टैटू का इतिहास समझ मे आ चुका होगा और समझ भी गए होंगे की टैटू का ट्रेंड नया है पुराना | 
वॉट्सऐप पेमेंट्स अब होगा शुरू जानिए खास बाते

वॉट्सऐप पेमेंट्स अब होगा शुरू जानिए खास बाते

whatsapp kya hai meaning - अगर आपके फोन पर इंटरनेट जुड़ा हुआ है तो आप वॉट्सऐप एप का प्रयोग न करे भला ऐसा कैसे हो सकता है | आपको पता ही होगा वॉट्सऐप के जरिये बिना रुपए खर्च किए एसएमएस भेजा जा सकता है | यही कारण हो सकता है कि आज वॉट्सऐप इतना पोपुलर है की विश्वभर मे करोड़ो लोग इस मैसेज एप का प्रयोग कर रहे है | अब वॉट्सऐप प्रयोग करने वाले लोगो को वॉट्सऐप एक न्यू गिफ्ट whatsapp payment service देने जा रहा है जिसका प्रयोग आप बहुत जल्दी ही कर पाएंगे |
वॉट्सऐप-पेमेंट्स-अब-होगा-शुरू
whatsapp se paise kaise send kare


whatsapp meaning in hindi - 

  • एक ऍप का नाम जो कि यूजर्स के बीच सन्देश भेजने के काम आती है । 
  • इसका नाम एक अंग्रेजी वाक्यांश What's up से लिया है । 
  • What's up का मतलब है - "क्या चल रहा है"

वॉट्सऐप पेमेंट्स सर्विस - आपका सबसे प्रिय एप वॉट्सऐप बहुत जल्द ही वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस की टेस्टिंग करने जा रहा है | वॉट्सऐप कंपनी ने इसकी टेस्टिंग करना स्टार्ट कर दिया है | अभी वॉट्सऐप द्वारा पेमेंट सर्विसेज की बीटा टेस्टिंग कर रही है साथ ही एक रिपोर्ट से जानकारी प्राप्त हुई है कि वॉट्सऐप फरवरी महीने के अंत तक वॉट्सऐप  पेमेंट सर्विस अपने यूजर को गिफ्ट के तौर पर दे सकता है | फिलहाल अभी वॉट्सऐप इस सर्विस को अपने पार्टनर के साथ रन कर रही है | रिपोर्ट मे यह भी बताया गया है कि वॉट्सऐप टॉप लेयर पर काम करते हुए सेंडर और रिसीवर की पहचान करेगा और मोबाइल नंबर्स को बैंक अकाउंट से जोड़ेगा |
  • अभी कुछ दिन पहले यूपीआई एप की ग्रोथ सबसे बढ़िया रही रिपोर्ट की माने तो दिसंबर 2017 मे यूपीआई के माध्यम से कुल 145 मिलियन ट्राजेक्सन किए गए |
  • अब वॉट्सऐप पेमेंट्स सर्विस शुरू होने जा रही है तो कहा जा रहा है इसका सबसे बड़ा नुकसान Paytm और भीम एप को होगा | इसका कारण वॉट्सऐप के यूजर सबसे अधिक है |
  • बैंकिंग पार्टनर्स का कहना है कि मेसेंजिंग ऐप में पेमेंट सर्विस चलाने के कारण इसकी सिक्यॉरिटी बरकरार रखना एक बड़ी चुनौती है, जिसे रोल-आउट से पहले ही दूर करना होगा |
  • वॉट्सऐप ने स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई, एचडीएफसी और ऐक्सिस बैंक के साथ पहले ही करार कर लिया है। वॉट्सऐप ने पेमेंट सर्विस के लिए भारत सरकार से जुलाई 2017 में ही परमिशन ले ली है |
संविदा क्या है अभिशाप या वरदान sanvida bharti niyam

संविदा क्या है अभिशाप या वरदान sanvida bharti niyam

संविदा [ contract ] - आज लगभग सभी क्षेत्रो मे संविदा पर डॉक्टर, संविदा पर इंजीनियर, संविदा पर टीचर, संविदा पर नर्स और संविदा पर कर्मचारी सुनने को मिल जाने वाला शब्द बन चुका है | लेकिन यह संविदा क्या है और आज कल क्यू सभी क्षेत्रो मे संविदा पर कर्मचारीयो की नियुक्ति की जा रही है | आज के समय मे लगभग सभी भर्तियों मे साफ साफ यही लिखा होता है संविदा लेकिन विभागो मे संविदा कर्मचारी रखने का मतलब क्या है | क्लिक से पढे फ्रीलांसिंग क्या है इससे पैसे कैसे कमाए

संविदा पर  जिन कर्मचारी की नियुक्ति होती है उनकी क्वालिफ़िकेशन एंव कार्य बाकी अन्य कर्मचारी के जैसे ही होते है साथ ही कभी कभी संविदा कर्मचारी को अन्य कर्मचारी से अधिक कार्य करना पड़ता है | तो फिर क्यो विभागो द्वारा मिलने वाली सुविधाओ से संविदा कर्मचारी को वंचित कर दिया जाता है | संविदा कर्मचारी को मानदेय के नाम पर साधारण से कुशल श्रमिकों से श्रमिकों (स्किल्ड लेबर) से भी कम दिया जाता है |


संविदा पर नौकरी क्या आसानी से मिल जाती है

एक संविदा नौकरी भी पाने के लिए व्यक्ति को बहुत से पापड़ बेलने पड़ते है मतलब साफ है की संविदा पर नौकरी के लिए एक उच्च कोटी की प्रतिस्पर्धा होती है और जब टेड़े मेडे रास्ते पार कर किसी तरह से संविदा पर नियुक्ति मिल जाती है | तो हर 11 महीने बाद नवीनीकरण कराना पड़ता है | लेकिन नवीनीकरण कराना भी आसान नहीं है क्योकि यह करने के लिए नौकरी से संबन्धित अधिकारी खुश रखना पड़ता है | अब इतना तो समझ मे आता है कि संविदा पर काम कर रहे कर्मचारी पर हर घड़ी खतरे की तलवार गले पर लटक रही है | अगर आप संविदा कर्मचारी है तो किसी प्रकार की बोनस की उम्मीद तो छोड़ ही दे क्योकि एक संविदा कर्मचारी को केवल 11 महीने का वेतन ही मिलेगा |


अगर आपके उपर किसी बड़े अफसर या विभाग की कृपादृष्टि बन जाये तो समझ ले कि सूखे रेगिस्तान मे कुछ बुंदे प्राप्त हो गई है लेकिन ऐसा होना या देखना बहुत ही कम मिलता है |

संविदा पर नौकरी वरदान या अभिशाप -
संविदा पर नौकरी या कर्मचारी रखने का मतलब क्या था क्यो रखा जाता था संविदा पर कर्मचारी तो हमने कुछ सेवानिवृत हो चुके है और कुछ जो सेवा मे है उनसे बात किया तो उन्होने बताया कि संविदा पर कर्मचारीयो की नियुक्ति करने का मुख्य उद्देश्य था कि कोई नया कर्मचारी अपने कार्यो मे लापरवाही न बरते मतलब एक नया कर्मी अपने कार्यो को अच्छे ढंग से करे और सीखे |

साफ शब्दो मे कहे तो संविदा एक प्रशिक्षण के समान था और प्रशिक्षण के समय संविदा कर्मी को जेब खर्च दिया जाता है और जब प्रशिक्षण पूरा हो जाये तो संविदा कर्मचारी को स्थायी तौर पर नियुक्त कर दिया जाता था साथ ही वह अन्य कर्मचारी की ही तरह सारे सुविधाये को पा लेता था |


आज तो फ़ैशन सा चल गया है लोगो को संविदा पर नियुक्त करो और उनका जमकर शोषण करो और अगर एक संविदा कर्मी ज्यादा तू तड़ाक बोले उसे बिना कारण बताए उसके संविदा या करार को स्थगित कर दो | अब उसका स्थान खाली हो गया है तो उसकी जगह दूसरा संविदा कर्मी की नियुक्ति कर लो | इस बात से समझ मे हमे तो यही आता है कि संविदा एक अभिशाप है लेकिन आप क्या सोचते है और सच मे संविदा अभिशाप है या वरदान तह आपको करना है |
हम तो अपनी सरकार से यही उम्मीद करते है कि कोई ऐसा बीच का रास्ता निकाला जाए जिससे न ही सरकार को समस्या आए और न ही आम जनता को | जिससे किसी भी संविदा कर्मचारी का शोषण न होने पाये | अगर आप संविदा नौकरी को अभिशाप समझते है तो अपनी आवाज को बुलंद करे क्योकि आपके एक छोटे से सहयोग से पूरी दुनिया बादल सकती है |
निकोला टेस्ला की 4 भविष्यवाणीया जो बिलकुल सही साबित हुई

निकोला टेस्ला की 4 भविष्यवाणीया जो बिलकुल सही साबित हुई

nikola tesla - निकोला टेस्ला जो की 19वी शताब्दी के महान आविष्कारक के रूप मे मे जाने जाते है | सन 1856 मे निकोला टेस्ला का जन्म हुआ जिन्हे आज मैकानिकल, इलैक्ट्रिकल और फिजिकल इंजिनियर के रूप मे जाना जाता है | निकोला टेस्ला का निधन 86 साल की उम्र मे हुआ लेकिन निकोला टेस्ला को आज भी उनकी भविष्यवाणीया जिंदा रखे हुई है |

"फादर ऑफ इलेक्ट्रिसिटी" भले ही थॉमस एडिसन को कहा जाता है लेकिन जो बिजली के रूप मे खपत कर रहे है उसे विकसित करने मे क्रोएशियाई निकोला टेस्ला का भी बहुत बड़ा योगदान था | क्योकि एडिसन DC यानि डाइरेक्ट करंट को अच्छा मानते थे जो 100 Volte की पावर पर काम करता था लेकिन इसे दूसरे वोल्टेज मे चेंज करना मुश्किल था | वही टेस्ला अल्टरनेटिव करंट AC को अच्छा मानते थे क्योकि इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पहुचाना आसान था | 2 वैज्ञानिको की सोच मे जीत टेस्ला की हुई लेकिन फिर भी "फादर ऑफ इलेक्ट्रिसिटी एडिसन को माना जाता है |

nikola tesla bhavishyvani

टेस्ला विदयुत के आविष्कारक तो थे ही साथ ही वह भविष्य के बारे मे कई भविष्यवाणी भी की हुई है जो दशको बाद सच साबित होती दिखाई पड़ती है |



वाईफाई - निकोला टेस्ला ने बहुत पहले संभावना जताई थी की एक दिन ऐसा समय आएगा जब टेलीफोन सिग्नल, संगीत फाइले और वीडियो भेजने के लिए वायरलेश टेक्नोलोजी का प्रयोग किया जाएगा | जो आज हम वाईफाई के रूप मे देख सकते है | निकोला टेस्ला खुद तो यह काम नहीं कर पाए लेकिन उनकी यह भविष्यवाणी www वर्ड वाइब वेब के आविष्कार के साथ सच साबित हो गई |


निकोला टेस्ला ने वायरलेस टेक्नोलोजी का बहुत ही जुनून था इसलिए टेस्ला ने डेटा ट्रांसमिशन पर केन्द्रित कई आविष्कार भी किए और इससे जुड़े कई सिधान्त को विकसित किया |


मोबाइल फोनअमेरिकी मैगजीन को सन 1926 मे टेस्ला ने एक इंटरव्यू दिया था जिसमे उन्होने भविष्य के बारे मे अपने पूर्वानुमान की बात की थी |




टेस्ला ने तस्वीरे, संगीत एंव वीडियो ट्रांसमीट करने के विचार को " पॉकेट टेक्नॉलजी " का नाम दिया था | मतलब आज जो हम स्मार्टफोन प्रयोग कर रहे है इसके आविष्कार के 100 साल पहले ही टेस्ला ने इसकी भविष्यवाणी कर दी थी |
ड्रोन - टेस्ला द्वारा सन 1988 मे बिना वायर और रिमोट से कंट्रोल होने वाला आउटमेशन प्रदर्शित किया गया था जिसे आज के समय मे हम रिमोट से चलने वाली टॉय शिप या ड्रोन कहते हैं |
जब किसी ने कल्पना भी नहीं की थी उस समय टेस्ला ने रिमोट से चलने वाली मशीन का जिक्र किया था और कहा था एक दिन मशीने लोगो की जिंदगी का अहम हिसा होगी और यह टेस्ला की भविष्यवाणी बहुत ही सच्चाई के करीब है |

कमर्शियल हाई-स्पीड एयरक्राफ्ट - टेस्ला ने कल्पना कि थी कि ऐसे एयरक्राफ्ट होंगे जो दुनिया भर में तेज़ गति से और देशों के बीच कमर्शियल रूट पर यात्रा करेंगे. इन एयरक्राफ्ट में बहुत से यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी. निकोला टेस्ला ने कहा था, "वायरलेस पावर का सबसे अहम इस्तेमाल ईंधन के बिना उड़ने वाली मशीनों में होगा, जो लोगों को न्यूयॉर्क से यूरोप कुछ ही घंटों में पहुंचा देंगी." उस वक्त शायद इन बातों को पागलपन समझा जाता होगा. लेकिन टेस्ला एक बार फिर सही थे. कम से कम गति को लेकर. जहां तक बिना ईंधन के उड़ने वाले और बिजली से चलने वाले विमानों की बात है तो वो अब भी एक भविष्य का सपना है |
Freelancing क्या है पैसे कैसे कमाए freelancing for beginners

Freelancing क्या है पैसे कैसे कमाए freelancing for beginners

फ्रीलांसिंग - क्या आप जानते है Freelancing क्या है अगर नहीं तो आज आप यहा जानिए Freelancing क्या है और Freelancing से पैसे कैसे कमाए जा सकते है | अक्सर लोग इंटरनेट पर सर्च करते है Freelancing kya hai एंव freelancing guide beginners तो जानिए क्या है Freelancing.

Freelancing - फ्रीलांसिंग एक ऐसा प्लेटफार्म है जहा से कोई भी पढ़ा लिखा व्यक्ति घर बैठे पैसे कमा सकते है | अब आपके माइंड मे सवाल उठ रहा होगा कैसे तो आपको बताना चाहेंगे |


मान लीजिए आप किसी काम को करने का गुण रखते है जैसे - फोटोशॉप, राइटिंग, पेंटिंग, म्यूजिक, कम्प्युटर एक्सपर्ट, वेब डिजाइन, SEO, इत्यादि | इस तरह से आपकों भी कोई भी काम आता है तो आप Freelancing  से जुड़कर आपको जो काम आता है उसे कर सकते है जिसके बदले मे आपको पैसे मिलेंगे | लेकिन इसके लिए आपको पहले किसी Freelancing वैबसाइट से जुड़ना होगा उसके बाद ही आपको काम मिलेगा और पैसे कमा पाएंगे |

freelancing for beginners

हम आपको Freelancing वैबसाइट के नाम और जानकारी देंगे जहा पर आप रजिस्टर होकर अपने मनचाहा काम ढूंढ सकते है और घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमा सकते है | आपको बताना चाहेंगे आज इंटरनेट से पैसा कमाने के कई रास्ते है लेकिन Freelancing से बढ़िया कुछ भी नहीं क्योकि Freelancing ही वह जरिया है जिसके जरिये झटपट पैसा कमाया जा सकता है |



Freelancing पर आपको हजारो प्रकार के काम करने को मिलते है आप जिस भी काम मे expert हो उसे चुने और घर बैठे पैसे कमाए |

Freelancing से कितना कमाया जा सकता है

फ्रीलांसिंग पर आप कुछ घंटे मे 50$ तक कमाई कर सकते है या इससे भी अधिक आज के समय मे 1$ की कीमत लगभग 64 रुपए होते है तो इस तरह से आप Freelancing से एक घंटे मे 3200 रुपए के आसपास की कमाई कर सकते है |

Freelancing से कमाया हुआ पैसा आपको कैसे मिलेगा

आप जो भी कमाई करेंगे वह PayTm या PayPal के द्वारा सीधे अपने बैंक खाते मे ट्रांसफर कर सकते है और भी तरीके से पैसे बैंक मे लेने के तो जो आप प्रयोग करके खुद देख पाएंगे |

पैसे कमाने के लिए freelancing websites से जुड़ना क्या जरूरी है

जी हाँ क्योकि आपके सारे काम तभी मिल पाएंगे जब आपके freelancing websites पर एक एकाउंट होगा क्योकि जिन्हे काम करवाना होता है वह काम को freelancing websites पर पोस्ट करते है और वह काम आप लेकर पूरा करते है जिसके लिए आपको पैसे मिलते है | आपको किस काम को करने पर कितना पैसा मिलेगा यह भी लिखा होता है | 



freelancing websites से कैसे कमाए पैसा
  • सबसे पहले आपको freelancing websites पर खुद का एक एकाउंट बनाना होगा यहा क्लिक से बनाए
  • एकाउंट बनाते समय अपने बारे मे सभी जानकारी पूरी से भरे और हाँ एक फोटो भी लगाए जिससे लोगो का आप पर विश्वाश बनेगा |
  • आप जिस काम मे expert है वह ही स्किल चुने क्योकि आपको test भी देना पड़ता है |
  • आप जिस भी काम को करना चाहते है उस काम को चुने और उस कस्टमर से बहुत ही अच्छे ढंग से बात करे क्योकि आप कस्टमर से जितना अच्छा बात करेंगे और विश्वाश बनाएगे | उतना ही अधिक आपको आगे फायदे मिलने वाले है |
freelancing websites देखिये -
आज बहुत सी freelancing websites इंटरनेट पर मौजूद है जिनसे आप जुड़कर कमाई कर सकते है लेकिन हम जिस freelancing websites से जुड़े हुए है उसका नाम सबसे ऊपर रखेगे | क्योकि हमने इस freelancing websites से पैसे कमाए है और कमाते है और इसलिए आप भी इस पर पूरी तरह से भरोसा कर सकते है और जुड़कर पैसे कमा सकते है |
  • freelancer
  • Upwork
  • Fiver
  • Peopleperhour
  • Toptal
  • Elance
  • Project4hire
  • SimplyHiredI
  • Freelance
  • Craigslisht
यह सभी freelancing websites के नाम है जिनसे जुड़कर आप घर बैठे पैसे कमा सकते है तो यह एक बढ़िया काम है freelancing jobs in india | अगर आप कोई भी सवाल करना चाहते है तो कर सकते है हम आपको जल्दी है आपके इस पोस्ट से जुड़े सवालो के जवाब देने का प्रयास करेंगे |
इस्लाम से दज्जाल कौन है कब आएगा dajjal kab aayega

इस्लाम से दज्जाल कौन है कब आएगा dajjal kab aayega

dajjal kab aayega - इस्लाम धर्म मे दज्जाल का जिक्र है लेकिन दज्जाल कौन है तो "सही मुस्लिम -किताब 40 हदीस 7007 " से पता चलता है कि दज्जाल एक धोखेबाज ( deciever ) नकली अल्लाह ( False God ) और फर्जी उद्धार कर्ता( False Messiah ) है | जो लोगों को गुमराह करता रहता है | यहा 
क्लिक से पढे इस्लाम क्या है जानिए 12 रोचक तथ्य |

दज्जाल कब आएगा ?? dajjal kab aayega

दज्जाल उस वक्त आएगा जब दुनिया मे कोई भी शख्स दज्जाल का जिक्र नहीं करेगा और न ही उसके बारे मे कोई बात करेगा यानी दुनिया के लोगो को पता ही न होगा कि दज्जाल कौन है | मतलब दुनिया के लोग इस्लाम और इल्म से इतने दूर हो जाएँगे कि उन्हे पता ही न होगा की दज्जाल कौन है |

दज्जाल के बारे मे जरूरी जानकारी मालूमात


  • दज्जाल कयामत से पहले जाहीर होगा  [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दज्जाल ईरान के शहर खुरासन से निकलेगा [ इब्ने मजह ]
  • दज्जाल उस समय जाहीर होगा जब लोग उससे बिलकुल गाफिल हो चुके होंगे | [ अहमद ]
  • किसी बात पर गज़ब नाक होना दज्जाल के निकलने का सबाब होगा [ मुसीम शरीफ ]
  • दज्जाल बहरे हिन्द के किसी न मालूम जजीरे पर जंजीरों से जकड़ा हुआ है [ आबु दाऊद ]
  • दज्जाल एक आँख से काना होगा और उसके सर पर गुंघरेले बाल होंगे, रंग सुर्ख और शरीर भारी होगा [ बुखारी शरीफ ]
  • दज्जाल के दानो आंखे के बीच काफिर लिखा होगा [ बुखारी शरीफ ]
  • dajjal के सर पर बहुत अधिक बाल होंगे [ इब्ने मजह ]
  • दज्जाल के पास जन्नत और जहन्नम दोनों मौजूद होगा लेकिन उसका जन्नत जहन्नम और जहन्नम जन्नत होगा [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दज्जाल के पास आग और पानी होगा लेकिन असल मे आग उसका पानी और पानी उसका आगा होगा [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दज्जाल के चाहने पर बारिश होगी, जमीन से घास, अनाज इत्यादि उग आएगे साथ ही दूध वाले जानवर पहले से ज्यादा दूध देने लग जाएँगे | [ मुस्लिम शरिफ ]
  • दजाल के ज़ाहिर होने के बाद किसी का ईमान लाना अल्लाह पाक पर काबुल नहीं होगा [ मुस्लिम शरीफ 
  • आदम आलेहीसलाम से लेकर कयामत तक फित्न -ए -दज्जाल से बड़ा फितना और कोई न होगा [ मुस्लिम शरीफ ]
  • जो भी शंख्स दज्जाल का जमाना पा ले वह दज्जाल के सामने न जाए यह ही बेहतर है [ आबु दाऊद ]
  • फित्न दज्जाल से इतना डर जाएगा कि वह पौधे मे छुपने लगेगा [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दुनिया के सभी शहरो मे दज्जाल दाखिल होगा लेकिन वह 2 शहरो मे दाखिल न हो सकेगा मक्का और मदीना [ मुस्लिम शरीफ ]
  • फित्न - ए - दज्जाल 1 साल 2 महीने और 2 हफ्ते जमाने मे रहेगा [ मुस्लिम शरीफ ]
  • 7 हजार यहूदी असफ़हान ईरान के उसका साथ देंगे [ मुस्लिम शरीफ ]
  • मोटे और चौड़े चहरे वाले आवाम दज्जाल पर ईमान ले आएंगे [ तिरमिजी शरीफ ]
  • ईसा अलेहीसलाम दज्जाल के जमाने मे आएगे और मुसलमानो के साथ मिलकर जिहाद करेंगे | मुसलमानो की फतेह होगी [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दज्जाल से जंग करने के लिए मुसलमानो का पड़ाव दमिस्क के करीब गोतह के मक़ाम पर होगा [ आबु दाऊद ]
  • ईसा अलेहीसलाम खुद दज्जाल को अपने तीर से कत्ल करेंगे [ मुस्लिम शरीफ ]
  • दज्जाल 1 मोमिन आदमी को आरे से चीर कर 2 टुकड़े कर देगा और फिर ज़िंदा होने का हुक्म देगा और दुबारा से कत्ल करने की चाह रखेगा लेकिन अल्लाह पाक उस मोमिन को पीतल का बना देगा जिससे दजाल उस मोमिन को दुबारा कर नहीं कर पाएगा |
गाय भैंस का डेयरी फार्म या बिज़नस कैसे शुरू करे पूरी जानकारी

गाय भैंस का डेयरी फार्म या बिज़नस कैसे शुरू करे पूरी जानकारी

indian dairy farm business plan in hindi - बिज़नस से संबन्धित लेख बनाते रहते है ऐसे ही आज का लेख दूध का डेयरी फार्म बिज़नस कैसे शुरू करे के बारे मे लिख रहे है | दूध का बिज़नस आपके लिए एक अच्छा बिज़नस साबित हो सकता है क्योकि दूध एक ऐसा पेय पदार्थ है जिसकी डिमांड इंडिया के लगभग सभी घरो मे होती है तो अगर आप दूध का प्रॉडक्शन सही प्लानिंग एंव डाइरेक्शन के साथ करते है तो यह बिज़नस आपके लिए काफी बेहतरीन हो सकता है | तो आगे पढे कैसे डेयरी फार्म खोले या शुरू करे | यहा क्लिक से पढे खरगोश पालन का बिज़नस कैसे शुरू करे |
जिनको अपने काम पर भरोसा होता हैं, वो नौकरी करते हैं… जिनको अपने आप पर भरोसा होता हैं, वो व्यापार करते हैं…


indian dairy farm business plan in hindi

दूध का फार्म या डेयरी उद्योग-

डेयरी पालन मे दूध देने वाली दुधारू जानवरो को पाला जाता है जैसे - गाय भैंस एंव बकरी प्रमुख है | गाय एंव भैंस से कम दूध बकरी का होता है | विदेशी किस्म की गाय एंव भैंस अधिक मात्रा मे दूध देती है | हिंदुस्तान मे 32 प्रकार की गाय पायी जाती है | गायों की प्रजतियो को 3 रूप मे ड्रोड ब्रीड, डेयरी ब्रीड एंव डयूअल परपज ब्रीड |
  • ड्रोड ब्रीड शक्ति के मामले मे अधिक ताकतवर होती है इसलिए इन्हे बैलगाड़ी या हल के साथ काम मे लिया जाता है |
  • डेयरी ब्रीड का प्रयोग केवल दूध उत्पादन के लिए ही प्रयोग मे लिया जाता है |
  • डयूअल परपज ब्रीड अधिकतर घरो मे मिल जाते है जबकि इन्हे किसान अपनी जीविका चलाने के लिए रखते है |
गाय की प्रजातीया -
अगर आप डेयरी खोलने के लिए सोच रहे है तो आपको बता दे डेयरी मे पालने योग्य गाय की प्रजातीय निम्न है |
  • पहला रेड सिन्धी
  • दूसरा साहिवाल 
  • तीसरा गिर |
यह गाय की वह प्रजाति है जो सबसे ज्यादा दूध देती है लेकिन इन नसलों के बारे मे डेयरी पालन करने वाले को कम जानकारी होती है | इनके अलावा जरसी, ब्राउन स्विर हॉलस्टन और अयरशायर भी प्रमुख हैं। जरसी, मूलत: अमेरिका में पाई जाती है, हॉलस्टन हॉलैंड में और ब्राउन स्विट्जरलैंड में पाई जाती है |

भैंस की प्रजातीया -
भारत मे 3 प्रकार की भैंस आपको मिलेगी जिनके नाम मुरहा, मेहसना और सुरति है |
  • मुरहा भैसों के प्रमुख बीड मनाई जाती है | इन्हे आप हरियाणा एंव पंजाब मे अधिकतर पाया गया है |
  • मेहसना मिक्सब्रीड प्रजाति है जिन्हे गुजरात तथा महराष्ट्र मे देखा जा सकता है | यह भैंस 1200 से 3500 लीटर दूध 1 महीने मे देती है |
  • सुरति इनमें छोटी नस्ल की भैंस है। यह खड़े सींगों वाली भैंस है। यह नस्ल भी गुजरात में पाई जाती है। यह एक महीने में 1600 से 1800 लीटर दूध देती है |

डेयरी पालन बिज़नस कैसे शुरू करे

यह बिज़नस आप 5 से 10 गाय या भैंस रखकर शुरू किया जा सकता है | लेकिन डेयरी खोलने के लिए जरूरी है गाय भैंसों के लिए खुली जगह एंव ठंड के मौसम मे ठंड से बचाने के लिए जानवरो के लंबाई एंव चोड़ाई के हिसाब से घर जिसमे हवा का आवागमन होता रहे |
गाय या भैंस का आहार या भोजन -
अगर बढ़िया दूध का उत्पादन करना है तो जानवरो को सही एंव निश्चित सामी पर भोजन देना जरूरी है | इन जानवरो को निम्न तरह का भोजन करवाया जाता है |
  • रोजाना खली मे मिला चारा 2 समय देना जरूरी है |
  • बरसीम
  • बाजरा
  • ज्वार
दूध का उत्पादन अधिक हो इसके लिए बिनौले का प्रयोग किया जाता है | इस बात का ख्याल रखे जानवरो का आहार साफ सुथरा दिया जाना चाहिए जिससे जानवर आहार का लुफ्ट खूब मन लगाकर ले पाए | जानवरो के बढ़िया स्वास्थ के लिए 32 लीटर पानी पिलाना चाहिए |



जानवरो का रख रखाव एंव बचाव -
डेयरी पालन करने वाले को चाहिए की वह अपने जानवरो के रहने वाले स्थान की साफ सफाई का ख्याल रखे एंव कुछ दर्द निवारक दवाई भी अपने पास रखे | जिससे जरूरत पड़ने पर जानवरो को दिया जा सके | पशुओ मे चिकनपाक्स, पैर एंव मुह की बीमारी होना आम समस्या है इसलिए समय समय पशु चिकित्सक से सलाह लेते रहना चाहिए |

डेयरी बिज़नस के ऋण सहायता -
सरकारी एंव गैरसरकारी संस्थाए डेयरी बिज़नस करने वाले को प्रोत्साहन मे 10 लाख रुपए तक की धनराशि ऋण के तौर पर देती है | ऋण लेने के लिए डेयरी खोलने वाले मालिक को एनसीओ, एसडीएम प्रमाणपत्र, बिजली का बिल, पहचान पत्र एंव डेयरी का फोटो इत्यादि जमा करना होता है |

यह सभी डोक्यूमेंट सबमिट करने के बाद ऑफिसर वेरिफिकेशन करता है एंव ऑफिसर के संतुष्ट हो जाने पर डेयरी के मालिक को पशु की संख्या के हिसाब से 5 से 10 लाख रुपए तक की राशि दी जाती है |

एक निश्चित के सीमा के बाद किस्तों को भरना पड़ता है अगर डेयरी मालिक किस्तों का भुगतान नियमित रूप से करता है तो कुछ किस्त माफ भी कर दिए जाते है |
पॉलीग्राफ टेस्ट क्या है इन इंडिया polygraph test meaning in hindi

पॉलीग्राफ टेस्ट क्या है इन इंडिया polygraph test meaning in hindi

पॉलीग्राफ टेस्ट इन इंडिया Polygraph Test- पॉलीग्राफ टेस्ट मशीन जिसे झूठ पकड़ने वाली मशीन या लाई डीडेक्टर के नाम से भी जाना जाता है | पॉलीग्राफ टेस्ट एक प्रकार का सत्य परीक्षण होता है जिसका प्रयोग आपराधिक मामलो मे अपराधी से सच उगलवाने के लिए किया जाता है | पॉलीग्राफ मशीन के खोजकर्ता जॉन अगस्तस लार्सन (John Augustus Larson) है और इसकी खोज सन 1921 मे की थी | जॉन ने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया से मेडिकल की पढ़ाई की थी और वे कैलिफोर्निया के बर्कले पुलिस स्टेशन में कार्यरत थे |

क्या आपको जानते है पॉलीग्राफ मशीन कैस काम करता है अगर नहीं तो आप यहा आज जान पाएंगे पॉलीग्राफ मशीन परीक्षण कैसे किया जाता है और क्या इससे क्या सच मे सच्चाई बाहर निकलवा सकते है या नहीं |

polygraph test kaise hota hai


पॉलीग्राफ परीक्षण क्या होता है ???

पालिग्राफ एक मशीन है इस मशीन से किसी व्यक्ति को सेंसर के द्वारा जोड़ दिया जाता है यह सेंसर कम्प्युटर से कनेकट किया हुआ होता है | फिर व्यक्ति के रक्तचाप, नब्ज, साँसो एंव हृदय की गति और बॉडी मे होने वाली गति को एक पेपर [ ग्राफ ] पर रिकार्ड किया जाता है | इस प्रोसेस को पॉलीग्राफ कहते है | इस परीक्षण मे व्यक्ति से पूरे 6 सेंसर कनेक्ट किए जाते है |
पॉलीग्राफ मशीन में इन 4 बातों को रिकॉर्ड किया जाता है- 
  • व्यक्ति के सांस लेनो की गति (ब्रीदिंग रेट) 
  • व्यक्ति का पल्स 
  • व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 
  • व्यक्ति के शरीर से निकल रहा पसीना में कार्यरत थे |
  • कभी कभी पॉलीग्राफ मशीन व्यक्ति के हाथ और पैरों की मूवमेंट को भी रिकॉर्ड करती है |

पॉलीग्राफ टेस्ट करने की प्रक्रिया

पॉलीग्राफ टेस्ट करने के लिए व्यक्ति को पहले पॉलीग्राफ टेस्ट मशीन से जोड़ा जाता है फिर व्यक्ति को सामन्य बनाए रखने के लिए पहले कुछ आसान से सवाल किए जाते है जैसे - आपका नाम, आपके माता पिता के नाम, घर का पता, आपकी सही उम्र इत्यादि फिर जिस कारण से लाई डीडेक्टर टेस्ट किया जा रहा है उस मुद्दे पर आ जाते है और सच बुलवाया जाता है | सवाल-जवाब की इस पूरी प्रक्रिया में व्यक्ति से आ रहे तरंगों (सिग्नल) को मशीन मूविंग पेपर पर रिकॉर्ड करती है |
  • सवाल-जवाब की प्रकृया पूरी होने होने से पहले और बाद में पॉलीग्राफ एग्जामिनर ग्राफ की जांच करता है और देखता है कि किन सवालों में व्यक्ति से आई तरंगें (सिग्नल) बदले हैं। इसमें व्यक्ति के ब्लड प्रेशर, पल्स रेट और ब्रीदिंग रेट में ज्यादा उतार-चढ़ाव से पता चलता है कि व्यक्ति झूठ बोल रहा है। 
  • पॉलीग्राफ की जांच वेल ट्रेंड एग्जामिनर से कराई जाए तो सही-सही सच और झूठ का पता चलता है। ऐसा ना होने पर एक्यूरेसी में फर्क आ सकता है |
नोट- इस टेस्ट का रिजल्ट पूरी तरह से पॉलीग्राफ मशीन पर निर्भर करता है। इसलिए इस टेस्ट को पूरी तरह से सच नहीं माना जा सकता। इसमें धोखा देना आसान है |



क्या पॉलीग्राफ टेस्ट को धोखा दिया जा सकता है ??
अगर किसी को मालूम है कि उसका टेस्ट किया जाना है और वह खुद को टेस्ट के लिए तैयार करे तो लाई डीडेक्टर टेस्ट को धोखा दे सकता है मतलब झूठ बोल सकता है |
  • टेस्ट से पहले  व्यक्ति ही खुद को तैयार करे धोखा दे सकता है 
  • पॉलीग्राफ मशीन के बारे मे जानकारी लेकर |
  • जिस टापिक पर टेस्ट लिया जाना है उसे पहले से ही झूठ जोड़कर तैयार कर लेना मतलब इस तरह से टेस्ट को धोखा दिया जा सकता है |
  • इस तरह अगर कोई व्यक्ति खुद को तैयार कर लेता है तो उसका कान्फ़िडेंस बढ़ जाता है जिससे उसे घबराहट नहीं होती और फिर ऐसे व्यक्ति के झूठ को पकड़ना मुश्किल हो जाता है 
मोनालिसा का रहस्य इतिहास जानिए mona lisa ka itihas

मोनालिसा का रहस्य इतिहास जानिए mona lisa ka itihas

monalisa history hindi - मोनालिसा एक ऐसी पापुलर पेंटिंग है जिसके बारे मे इंटरनेट पर कई तरह के खोज किए जाते है जैसे - मोनालिसा कौन थी, monalisa history, मोनालिसा किसकी रचना है हिस्ट्री एंव मोनालिसा इतिहास के बारे मे तो आज हम आपको मोनालिसा से जुड़े कुछ तथ्यो के बारे मे बताने वाले है |

ऐसे बहुत ही कम लोग होते है जो अपने जीते जी कुछ ऐसा कर जाते है जिन्हे दुनिया मरने के बाद भी याद रखती है और उन्ही मे से एक है मशहूर पेंटर लियोनार्दो दा विंची एंव इनकी बनाई हुई कृति मोनालिसा |


mona-lisa-painting-itihas
मोनालिसा पेंटिंग
लियोनार्दो दा विंची का जीवन परिचय - 


leonardo-da-vinci-mystry-hindi
लियोनार्दो दा विंची
लियोनार्दो दा विंची का जन्म 15 अप्रैल 1452 को इटली के फलोरेंस प्रदेश के विंची गाँव मे हुआ था | लियोनार्दो दा विंची एक अवैध पुत्र थे | लियोनार्दो के नाम के पीछे विंची उनके गाँव के नाम के कारण लगाया जाता है | लियोनार्दो दा विंची की खूबी थी वह एक साथ एक हाथ से लिखना और दूसरे हाथ से पेंटिंग करना कर सकते थे | इसी प्रतिभा का नतीजा है कि आज भी दुनिया उन्हे भुला न पाई |

लियोनार्दो दा विंची की पेंटिंग मोनोलीसा -

मोनालिसा पेंटिंग लियोनार्दो दा विंची द्वारा बनाया गया था जो आज के समय मे louvre म्यूजियम मे मौजूद है | मोनालिसा पेंटिंग की कीमत आज के समय मे 5260 करोड़ के आसपास है | ऐसा कहा जाता ही की मोनालिसा पेंटिंग को अलग अलग एंगेल से देखने पर अलग अलग स्माइल नजर आती है इसलिए आज इसे एक रहस्यमय कृति माना जाता है |


मोनोलीसा पेंटिंग रहस्य रोचक तथ्य -

  • लियोनार्दो दा विंची द्वारा मोनालिसा पेंटिंग सन 1503 मे बनाना शुरू किया गया था |
  • यह कृति बनाते समय लियोनार्दो दा विंची की उम्र 51 साल थी |
  • लियोनार्दो दा विंची की मृत्यु 2 मई सन 1519 को हुई थी जबकि पेंटिंग पूरी तरह से पूरा किए बिना विंची इस दुनिया से अलविदा हो गए |
  • कहा जाता है नेपोलियन बोनापार्ट को यह पेंटिंग बहुत ही पसंद आई थी जिस कारण उन्होने यह कृति अपने कमरे मे लगवाई थी |
  • मोना लिसा को इटली भाषा मे मतलब MyLady है साथ ही मोना लिसा का सही उच्चारण Monna Lisa है |
  • मोनालिसा पेंटिंग सन 1757 मे Louvre Museam मे पाया गया था लेकिन यह एक रहस्य है क्योकि किसी को नहीं पता है यह कृति कैसे यहा पर आई थी |
  • मोनालिसा पेंटिंग एक बुलेट प्रूफ शीशे के अंदर Louvre Museam के एक स्पेशल कमरे मे रखा गया है | ऐसा इसलिए किया गया क्योकि एक बार किसी शख्स ने मोनो लिसा पेंटिंग पर पत्थर फेक दिया है जिससे मोनालिसा के बाए हाथ के कोहनी पर स्क्रैच आ गया था | इसलिए फ्रांस गवर्नमेंट ने 50 करोड़ का खर्च कर इस कृति के लिए स्पेशल रूम बनाया | इस कमरे का टेम्परेचर ऐसा है जिससे पेंटिंग को कभी कोई नुकसान नहीं हो सकता है |
  • 21 अगस्त 1911 ऐसा दिन था जब Mono Lisa Painting चोऋ हुई थी पर हैरानी की बात है यह पेंटिंग 10 साल मे दुबारा आ गई |
  • हाल ही हुए शोध से पता चला था कि mona lisa painting पर विंची द्वारा La Risposta Si Trova Qui लिखा गया था जिसका हिन्दी मे अर्थ "उत्तर यहा है" इस Words से अंदाजा लगता है कि विंची इस कृति मे कुछ secret Massage देना चाहते थे |
  • हाल ही एक वैबसाइट पर खबर आई थी कि मोना लिसा पेंटिंग मे एलियन छुपा हुआ है लेकिन इस बात मे कितनी सच्चाई है यह अभी कनफर्म नहीं हुआ है | लेकिन वैबसाइट ने मोनेलिसा के 2 चित्रो को एक साथ जोड़कर दिखाया है जिसमे एक छवि उभरती है जिसमे एलियन जैसा कुछ नजर आता है | आप नीचे की तस्वीर देखकर खुद समझ सकते है क्या यह एलियन है ????

  • यह एलियन जैसी आकृति ऐसे स्थान पर बनती है जहा पर लियोनार्दो दा विंची द्वारा लिखा गया "उत्तर यहा है" |
खरगोश पालन का बिज़नस कैसे शुरू करे khargosh english rabbit

खरगोश पालन का बिज़नस कैसे शुरू करे khargosh english rabbit

खरगोश english rabbit - खरगोश बहुत ही प्यारा जीव है इसलिए इसे लोग अपने घर की शोभा बढ़ाने के लिए घरो मे पालते है | ऐसे मे अगर आप खरगोश पालने का बिज़नस शुरू करते है तो यह बिज़नस आपके लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है | खरगोश एक शाकाहारी जीव है इसलिए इस जीव से किसी को किसी प्रकार का खतरा भी नहीं रहता | तो आज हम आपको खरगोश पालने का बिज़नस कैसे शुरू करे बता रहे है |
khargosh meaning english

खरगोश पालन का बिज़नस कैसे स्टार्ट करे

खरगोश का पालन करने के लिए आपको कुछ बाते ध्यान मे रखनी होगी जो हम आपको बता रेह है - 


  • कितने खरगोश से शुरू करे बिज़नस -  अगर आप खरगोश पालने का बिज़नस शुरू कर रहे है तो आपको खरगोश के 10 यूनिट रखने जरूरी है क्योकि इतने से कम खरगोश रखने पर आपको अच्छा मुनाफा नहीं हो पाएगा | आपके बता दे एक यूनिट मे 10 खरगोश होते है तो इस तरह आपको पूरे 100 खरगोश रख कर अपने बिज़नस की शुरुवात कर सकते है | ध्यान रहे इन खरगोशो के संख्या मे 50 से 60 मादा हो एंव 35 से 40 नर |
  • खरगोश का खाना - अगर आपने खरगोश को देखा होगा तो आपको पता होगा खरगोश हरी चीजे बहुत ही शौक से खाते है तो आप अपने फर्म के खरगोशो को दिन मे बार खाना खिलाए एक टाइम मे हरी छीजे खाने दो और दूसरे टाइम मे खाने के अन्य चीजे दे |
  • खरगोश पालन के लिए स्थान या घरखरगोश पालने का स्थान या घर ऐसे जगह पर बनाना चाहिए जहा पर ध्वनि प्रदूषण एंव वायु प्रदूषण न हो | इसलिए आप शहर से कही दूर शांत स्थान पर खरगोश फार्म बना सकते है | अगर हरियाली वाला स्थान पर फार्म बनाया जाए तो यह बहुत अच्छा रहेगा |
  • फार्म का पंजीकरण है जरूरीअगर आप खरगोश पालन बिज़नस शुरू कर रहे है तो फार्म का रजिस्ट्रेशन जरूरी है | जिसे आप पार्टनरशिप के अंतर्गत रजिस्टरेशन करा सकते है | इसके अलावा आपके हर साल फार्म को चलाने के लिए इन्कम टैक्स भी भरना पड़ेगा और फार्म के लिए करंट एकाउंट एंव पैन कार्ड भी होना जरूरी है |
  • खरगोश पालने मे आने वाला खर्चअगर आप 10 यूनिट खरगोश यानि की 100 खरगोश रखते है तो इतने खरगोश का खर्च लगभग 2 लाख 50 हजार रूपए के आसपास आता है | आपको इन्ही पैसो से खरगोश पालने के लिए 10/4 का पिंजरा, पानी पिलाने के कटोरी एंव वाटर निप्पल भी मिल जाएगा |
खरगोश को कहा बेचे - 
अगर आप बिज़नस के तौर पर खरगोश का पालन कर रहे है आप अपने खरगोश को बेचकर ही मुनाफा कमा सकते है | तो आप बेचने के लिए Advertising करे, फार्म के पास पोस्टर या बोर्ड लगवा दे की यहा खरगोश बेचा जाता है | आप चाए तो अपने बिज़नस को ऑनलाइन भी कर सकते है | आज कल इंटरनेट के जरिये सब कुछ बिक जाता है | ऐसे कुछ और जगह जहा पर आप अपने खरगोश को बेच सकते है |
  • खरगोश का मांस को मेडिकल क्षेत्रो मे अधिक प्रयोग किया जाता है तो आप ऐसी मेडिकल क्षेत्र को ढूँढे जहा आपका खरगोश ले लिया जाए |
  • कई लोग शौक के लिए भी खरगोश पालन करते है तो आपने अच्छी Advertising कर दिया तो लोग आपसे खुद संपर्क करने लग जाएँगे |
  • एग्रीकल्चर रिचर्च के लिए भी खरगोश की डिमांड होती है तो एसी जगहो पर भी खरगोश को आप दे सकते है |
खरगोश पालन मे लाभ - 

एक खरगोश कम से 4 से 5 बच्चो को जन्म देती है तो इस तरह आपके 60 मादा खरगोश के 300 नवजात खरगोश हो जाएँगे | यह सब 45 दिन मे होता है और इन बच्चो को तैयार होने मे 4 महीने का समय लगता है | अगर आपने सारे बच्चो को तैयार कर दिया तो 4 महीने मे आपके पास 1.10.000 रुपए के आसपास कीमत के खरगोश हो जायनेगे | इतने बच्चो को पालने मे 70 से 80 हजार से कम का खर्च आएगा और लाभ 30 से 40 हजार का होगा |
खरगोश पालन मे रखने वाली सावधानी -
  • खरगोश फार्म की पूरी तरह से साफ सफाई करते रहे | यह खरगोश को बीमार होने से बचाने का अच्छा तरीका है |
  • इनके खाने पीने का खास ध्यान देना चाहिए इसलिए इन्हे समय से खाना और समय से पानी देना चाहिए |
  • अगर एक खरगोश बीमार है तो उसे दवा दे साथ ही बीमार खरगोश को अन्य खरगोशो से अलग स्थान मे रखे |
  • खरगोश फार्म का तापमान लगभग 38 डिग्री होता है तो इससे अधिक तापमान पर उन्हे न रखे |
अगर आपका इस बिज़नस या खरगोश पालन से संबन्धित सवाल है कमेंट करे आपको उचित जवाब जल्दी ही देने का प्रयास करेंगे |
कोरियर कंपनी की शुरुवात कैसे करे courier franchise kaise bane

कोरियर कंपनी की शुरुवात कैसे करे courier franchise kaise bane

कोरियर कंपनी कैसे खोले कोरियर कंपनी कैसे शुरू करे courier franchise kaise bane courier business kaise open kare
courier business staring process in hindi - कोरियर क्या है यह तो आपको पता ही है लेकिन courier business [  franchise ] कैसे खोले की प्रक्रिया आपको नहीं पता होगा तो आज हम आपको बता रहे है कैसे courier business की शुरुवात कर सकते है | कोरियर सेवा मतलब किसी कंपनी द्वारा अपने ग्राहको को दी जाने सेवा या सर्विस है | जिसमे कंपनी अपने ग्राहको के जरूरी डोक्यूमेंट या अन्य सामाग्री उनके पते पर पहुचाने का कार्य करती है |

एक कोरियर कंपनी अपने ग्राहको से कुछ पैसे लेती है बदले मे कंपनी अपने ग्राहको से लिए shipment/consignment को उनके द्वारा बताए हुए पते पर सुरक्षित डिलीवर करने का कार्य करती है | तो इस तरह से कोरियर कंपनी की कमाई हो जाती है एंव इस तरह के कार्य करने वाले बिज़नस को कोरियर कंपनी कहा जाता है |




courier business


कूरियर सेवा या बिज़नस का आरम्भ कैसे करे ??

आज हमारे देश के बड़ो शहरो मे अधिक संख्या मे कूरियर कंपनीया है लेकिन छोटे शहरो, कस्बो एंव गांवो मे कूरियर सर्विस की संख्या बहुत ही कम है | तो आप ऐसी ही किसी जगह पर कूरियर कंपनी की शुरुवात कर सकते है | यह बिज़नस शुरू करने के लिए कही भी ट्रेनिंग नहीं दी जाती है इसलिए आप किसी कूरियर कंपनी मे 1 से 2 साल जॉब करे | जिससे आपको इस क्षेत्र मे अच्छा तजुर्बा हो जाएगा और आप खुद का कूरियर कंपनी खोल पाएंगे | इस क्षेत्र से जुड़कर आप लोगो की सेवा कर सकते है साथ ही एक अच्छी कमाई भी कर सकते है |


कोरियर बिज़नस कैसे शुरू करे -

अगर आप कोरियर सर्विस स्टार्ट करना चाहते है तो आपके पास 2 विकल्प मौजूद है पहला आप अपना खुद का बिज़नस शुरू करे, दूसरा किसी फेमस कंपनी से  इंडिया कुरियर फ्रेंचाइज बन जाए |

खुद का कूरियर बिज़नस खोलना - अगर आपके पास एक अच्छा बजट तैयार है तो आपके बढ़िया होगा कि आप खुद का ही कूरियर सर्विस बिज़नस खोलना | आपको बता दे खुद का बिज़नस शुरू करने के लिए आपको एक बड़े निवेश की जरूरत पड़ेगी | इसलिए इस बिज़नस को शुरू करने के लिए आपको निवेशक खोजने होंगे | आप बिज़नस entities मे से प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के तौर पर पंजीकरण करा कर निवेशको को शेयर अलाट करके fund इकठ्ठा कर सकते है | जब आपके पास fund आ जाएगा तो आपके लिए इस तरह का बिज़नस करना आसान हो जाएगा | इंडिया मे ऐसी ही बहुत सी कंपनिया पहले से मौजूद है जो कूरियर बिज़नस को सफलता पूर्वक कर रही है जिनके नाम कुछ इस प्रकार है |

  • भारतीय डाक विभाग (Indian postal Services): 
  • Blue dart Express Limited. 
  • First Flight Courier Limited Gati Limited 
  • TNT Express 
  • Overnight Express Limited 
  • Trackon couriers pvt ltd.


कुरियर कंपनी की Franchise लेना - 
कोरियर कंपनी की फ्रेंचाइज़ बनने के लिए आपके पास कुछ कानूनी दस्तावेज़ होने चाहिए | अगर आपके पास यह दस्तावेज़ है तो आप फ्रेंचाइज़ के लिए एप्लाई कर सकते है |


  • क़ानूनी रूप से स्थापित एक इकाई जिसका कर पंजीकरण एवं अन्य लाइसेंस लिए हुए हों |
  • फ्रेंचाइज़ के लिए एक ऑफिस |
  • सिक्यूरिटी डिपाजिट जो कूरियर कंपनी के आधार पर अंतरित हो सकता है |
  • वित्तीय परिचय जैसे बैंक स्टेटमेंट की प्रति एवं पासबुक इत्यादि | 
  • कूरियर कंपनी के मुख्य कार्यालय से स्वीकृति पत्र |
  • फ्रेंचाइज़ एंव कंपनी के बीच लोजीस्टिक एग्रीमेंट |
ऐसे बहुत से लोग जो खुद का बिज़नस तो करना चाहते है लेकिन धन की कमी के कारण नहीं कर पाते है ऐसे ही समस्या अगर आपके साथ है तो आप कूरियर कंपनी खोलने के लिए किसी कंपनी से फ्रेंचाइज़ ले सकते है | आपको इंडिया मे ही कई ऐसी कंपनी मिल जाएगी जो आपको फ्रेंचाइज़ दे सकती है | नीचे कुछ फ्रेंचाइज़ कंपनी के नाम हम आपको बता रहे है |
अब आप पाना खुद का कोरियर बिज़नस शुरू कर सकते है लेकिन फिर भी आपको कुछ और जानना है तो आप कमेंट करके पुंछ सकते है |
ऑटोमोबाइल गैराज बिज़नस की शुरुवात कैसे करे

ऑटोमोबाइल गैराज बिज़नस की शुरुवात कैसे करे

How To Start Automobail Business - ऑटो मोबाइल गैराज जहा पर टू व्हीलर वाहन से लेकर फोर व्हीलर वाहन की मरम्मत की जाती है | अगर आप सोच रहे है AutoMobail Business या कारोबार करना चाह रहे है तो पहले इस क्षेत्र मे तजुर्बा लेना होगा फिर ही इस बिज़नस मे आप सक्सेस हो पाएगे | तो यहा हम ऑटो मोबाइल बिज़नस शुरू करने के लिए कुछ टिप्स बता रहे जिन्हे आप पढ़ सकते है |

ऑटोमोबाइल कोर्स - अगर आप ऑटोमोबाइल की तकनीकी जानकारी हासिल करना चाहते है तो ऑटोमोबाइल मे डिप्लोमा कर सकते है | यह कोर्स 10TH के बाद किया जा सकता है | यह बिज़नस आप चाहे तो बिना किसी कोर्स के भी शुरू कर सकते है लेकिन अगर कोर्स करते है तो आप ऑटोमोबाइल से जुड़े टेक्निकल जानकारी प्राप्त कर पाएंगे | यह कोर्स करने के लिए आप प्राइवेट संस्था या फिर सरकारी संस्था से जुड़ सकते है |

How To Start Automobail Business

तजुर्बा हासिल करे - अगर आप बिना किसी डिप्लोमा के ऑटोमोबाइल बिजनस शुरू करना चाहते है तो आप किसी ऑटोमोबाइल गैराज पर हेल्पर और मैकेनिक के तौर पर काम कर सकते है | अगर आपने अच्छा तजुर्बा हासिल कर लिया तो बहुत ही आराम से Automobail Business शुरू कर सकते है | आप जब हेल्पर का काम सीखते है तो निम्न चीजे जानेगे - टूल किट कैसे चलाये, गाड़ी का कौनसा पार्ट कहाँ है और वो कैसे चलता है | आपके सीखने का जुनून एंव काबिलियत पर यह तह होता है आप कितने दिन मे हेल्पर का काम सीख पाएंगे | वैसे एक अच्छा हेल्पर 2 से 6 महीने मे बना जा सकता है |




मैकेनिक का काम सीखे - एक मैकेनिक गाड़ी की सर्विस से लेकर हाफ इंजन वर्क करता है तो अब जान लीजिए एक मैकेनिक के और कौन कौन से कार्य करने पड़ते है |

  • सर्विसिंग करना सीखे - गाड़ियो की 1st सर्विस,  टू व्हीलर की 2 हजार किलोमीटर एंव 4 व्हीलर की 5 से 10 हजार पर की जाती है | साथ ही 1st सर्विस पर मोटर वाहन की आयल बदलना, आयल फिल्टर चेंज करना, एयर फिल्टर साफ करना, ब्रेक आयल, गियर आयल, एंव कूलेंट का लेबल चेक करना इत्यादि काम किए जाते है |
  • सस्पेंसन चेक करना - यह चेक करने के लिए आपको गाड़ी का ट्रायल लेना होगा | जब गाड़ी चलते समय ससपेंशन मे से आवाज आए तो जरूरी पार्ट्स बदल दिया जाता है [ क्या क्या वर्क करना है या गाड़ी मे क्या सस्पेंशन है यह पता करने के लिए गाड़ी आपको चलाना पड़ेगा ]
  • गियर बॉक्स चेक करना - यह आसानी से खराब होने वाला पार्ट नहीं है लेकिन अगर कोई गाड़ी रफ तरीके से चलाया जाए तो गियर बॉक्स टूट फुट जाते है | ऐसे मे आपको गियर बॉक्स रिपेयर या रिप्लेस करना पड़ता है |
  • प्रोपेलर शाफ़्ट - पहियो तक शक्ति गियर बॉक्स से पहुचती है और यह काम प्रोपेलर शाफ़्ट करता है | रफ़ गाड़ी चली और बार बार गाड़ी को जर्क बैठा तो प्रोपेलर शाफ़्ट के जॉइंट में प्ले आता है. ऐसे वक्त प्रोपेलर शाफ़्ट रिप्लेस करना होता है |
  • ब्रेक पैड - यह ब्रेक पैड फ्रंट व्हील में होतें है. इन ब्रेक पैड की थिकनेस आपको चेक करनी होगी अगर स्टैण्डर्ड साइज़ से ये कम है तो आपको ब्रेक पैड रिप्लेस करने है |
ऐसे ही और भी कई काम एक मैकेनिक को आने चाहिए जैसे - हेड गैस किट समस्या ठीक करना, एक्सेल समस्या को ठीक करना, पिस्टन समस्या को ठीक करना इत्यादि |


कानूनी दस्तावेज़ बनवाए - कोई भी कारोबार शुरू करने से पहले उसके कानूनी जरूरी दस्तावेज़ तैयार कर लेना अच्छा होता है क्योकि इसी जरूरत आपको कभी भी पड सकती है | आपको बैंक मे करेंट बैंक एकाउंट खोलना है तो या फिर अगर आपकी गैराज सोसाइटी मे है तो आप सोसाइटी NOC ले |

ऑटोमोबाइल बिज़नस मे लगने वाली लागत -

एक छोटे तौर पर ऑटोमोबाईल सर्विस शुरू करने के लिए कम से कम 2 लाख का खर्च आता है जिसमे 30 से 40 हजार का खर्च केवल टूल किट मे हो जाता है | आप इस एमाउंट मे कोई मशीनरी तो नहीं खरीद सकते है लेकिन आप अपने कस्टमर को एक अच्छी सर्विस दे पाएनेग |

8 से 10 लाख रुपयोंकी लागत से अच्छा सर्विस सेंटर आप शुरू कर सकते है. इसमें आप रैंप ( टू पोस्ट ), न्यूमेटिक गन, एअर कॉम्प्रेसर, अलायलमेंट बैलेंसिंग, जनरेटर, PUC मशीन, लैपटॉप ( स्कैनर ), यह मशीनरी खरीद सकते है |