0
NEFT और RTGS के बारे मे क्या है - आप अगर बैंक मे आते जाते है तो आपने जरूर सुना होगा RTGS और NEFT के बारे मे लेकिन क्या आपको पता है यह RTGS और NEFT क्या होता है अगर नहीं तो आज आप यहा पढ़ सकते है RTGS एंव NEFT क्या है और इस सुविधा से बैंक के एक खाते से किसी दूसरे खाते मे पैसे कैसे ट्रांसफर किया जाता है |

भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पैसो के इलेक्ट्रानिक ट्रान्सफर के लिए 2 तरह के विकल्प बनाए हुए है जिनके नाम निम्न है -

  • RTGS Full From - National Electronic Fund transfer Real Time Fund Transfer
  • NEFT Full From - National Electronic Fund transfer
यह दोनों transfer इंटरनेट बैंकिंग सिस्टम द्वारा किया जाता है | NEFT या RTGS ट्रांजैक्शन के लिए इंटरनेट बैंकिंग इस्तेमाल करने वाले लोगों के पास थर्ड-पार्टी ट्रांजैक्शन ऐक्टिवेट कराना जरूरी होता है |
neft and rtgs me diffirent

NEFT और RTGS कैसे काम करता है ?

एनईएफ़टी और आरटीजीएस बैंकिंग सिस्टम मे पैसे भेजने का कार्य करती है तो जिस आदमी को पैसे भेजने होते है उसे बेनिफिशरी के तौर पर जोड़ना जरूरी होता है साथ ही जिसे पैसे भेजने है उस शख्स का बैंक एकाउंट, बैंक एकाउंट होल्डर का नाम, बैंक का ब्रांच, बैंक का नाम और IFSC कोड इत्यादि की जानकारी होनी जरूरी है |


  • बैंक बेनिफिशरी की डीटेल जांचने में बैंक को 12-24 घंटे लगते हैं। यह जांच पूरी हो जाने के बाद नया बेनिफिशरी ऐक्टिवेट हो जाता है और फंड को संबंधित अकाउंट में ट्रांसफर किया जा सकता है |
  • बैंक बेनिफिशरी की डीटेल जांचने में बैंक को 12-24 घंटे लगते हैं। यह जांच पूरी हो जाने के बाद नया बेनिफिशरी ऐक्टिवेट हो जाता है और फंड को संबंधित अकाउंट में ट्रांसफर किया जा सकता है |

NEFT या RTGS से पैसे ट्रांसफर करना - 

  • एनईएफ़टी या आरटीजीएस से पैसे भेजने के लिए सबसे आपको इन दोनों विकल्पो मे से एक ऑप्शन को सेलेक्ट करना होगा |
  • अब जिसको पैसो का भुगतान करना है यानि बेनिफिशरी का ब्योरा देना होगा |
  • जब आपके द्वारा डिटेल्स और सिक्यूरिटी पासवर्ड दे दिया जाएगा फिर पैसे ट्रांसफर की प्रोसेसिंग की जाती है |
  • एनईएफ़टी मे पैसो का ट्रांसफर बैच मे किया जाता है मतलब इस प्रक्रिया द्वारा पैसे बेनिफिशरी के एकाउंट मे थोड़ा समय लगा कर भेजा जाता है |
  • आरटीजीएस मे पैसो का ट्रांसफर रियल टाइम बेसिस यानि तुरंत किया जाता है |

RTGS और NEFT मे कुछ महत्वपूर्ण अंतर
  • आरटीजीएस मे रकम भेजने की सीमा निर्धारित की गई है मतलब आरटीजीएस के द्वारा आप कम से कम 2 लाख रुपए तक ट्रांसफर कर सकते है |
  • एनईएफ़टी मे रकम भेजने की सीमा निर्धारित नहीं की है |
  • एनईएफ़टी एंव आरटीजीएस के जरिये फंड का ट्रांसफर बैंक ब्रांच के माध्यम से भी किया जाता है |
  • NEFT के जरिए फंड का ट्रांसफर आरबीआई की तरफ से तय समयसीमा के भीतर होता है। RTGS ट्रांजैक्शन तत्काल सेटल हो जाते हैं।
आरटीजीएस और एनईएफ़टी के बारे मे अब जान ही चुके है | अगर आप  RTGS और NEFT से संबन्धित कोई सवाल करना चाहते है तो कमेन्ट के माध्यम से पूछे |
  • Pls Share

Post a Comment