0
Job description in hindi - किसी भी इंटरव्यू मे Job description बहुत महत्वपूर्ण होता है | क्योकि Job description से पता चलता है interveiw कैसा होगा या जॉब को अपने कैंडीडेट से क्या चाहिए |  तो हम आपको Job description के बारे मे in hindi मे चर्चा कर रहे है और बता रहे है खुद को कैसे जॉब डिसक्रिप्शन के लिए तैयार करे |

जब भी हमे नौकरी के लिए फोन कॉल आती है तो हम फोन पर बातचीत मे व्यक्ति से पुंछते है | जैसे - कंपनी का नाम क्या है, कौन सी लोकेशन पर कंपनी है और किस पोस्ट के लिए नौकरी है ???? आप ऐसा कुछ पुंछे उससे पहले ही रिक्रूटर आपको जेडी यानि जॉब का विवरण [ Job description ] भेज देता है | इससे आपके सभी सवालो के जवाब मिल जाते है | लेकिन MNC कंपनिया कुछ विशेष भाषा का प्रयोग करती है जिसे कार्पोरेट भाषा के नाम से जाना जाता है | इस तरह की भाषा को समझने मे उम्मीदवार को समस्याए हो सकती है | तो ऐसे मे हम आपको बता रहे है कैसे MNC कंपनियो के Job description को पढे एंव समझे | जिससे आपको मालूम हो की उम्मीदवार से कंपनी क्या काम चाह रही है |

Job description kya hai


जॉब डिस्क्रिप्शन क्या होता है ??

जॉब के बारे मे कंपनी के द्वारा दिया विवरण, स्किल, रिपोर्टिंग, डेसिग्नेशन इत्यादि के बारे मे जानकारी जो दी जाती है साथ ही जिससे मालूम चलता है कि कंपनी अपने उम्मीदवार से क्या चाहती है |

जॉब डिस्क्रिप्शन की जरूरत क्यो है ???
आज के समय मे लगभग सभी MNC कंपनीया जेडी का इस्तेमाल कर रही है | क्योकि इस तरह से कंपनी अपने उम्मीदवार को वह सभी जानकारी दे देती है | जो उम्मीदवार से कंपनी चाहती है | इस तरह से केवल वही उम्मीदवार जॉब के लिए एप्लाई करते है जो जॉब के लिए योग्य होते है | इस तरह से कंपनी खुद का और उम्मीदवार का समय बचत कर पाती है |

जे. डी.” का विश्लेषण - अब इसके बाद अगला कदम है “जे. डी.” का विश्लेषण . विश्लेषण के लिए सबसे पहले आप “जे. डी.” का प्रिंट ले ले और जो जो चीज़े आपको उसमे समझ आ रही है हाईलाइट करें , और उनमे से जो भी आपको सूट कर रही है वो भी हाईलाइट करें। और जो तकनिकी शब्द उसमे दिए गयें है उन्हें भी इंटरनेट की सहायता से समझने की कोशिश करें। अक्सर कॉर्पोरेट्स में कुछ शब्दों का काफी प्रयोग होता है , जैसे प्रोजेक्ट ,टारगेट , बिज़नेस आदि पर इनके मतलब उनके अपने अनुसार होता है। अगर आप “जे. डी.” और आसान तरीके से नही समझ पा रहे तो आप रिक्रूटर से कुछ विशेष शब्दों के अर्थ भी पूछ सकते है |

कंपनी के विषय मे जांच 
जेडी को समझने से पहले आपको पहले उस कंपनी को समझना चाहिए जिसने जॉब का ऑफर किया है | जैसे - कंपनी का बैकग्राउंड, कंपनी का टर्न ओवर, इत्यादि के बारे मे | साथ ही कंपनी का वर्क कल्चर कैसा है | इन सभी को जानने के लिए आप पर्सनल नेटवर्क का सहारा ले सकते है |

शिक्षा सम्बन्धी आवश्यकता :
सभी कंपनिया Job description मे उम्मीदवार की शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए के बारे मे भी जानकारी देती है | तो आप इसे भी ध्यान दे कि क्या आपकी क्वालिफ़िकेशन जॉब के अनुरूप है या नहीं | अगर आपको संदेह है किसी चीज को लेकर तो आप कंपनी से बात भी कर सकते है |

वर्क का अनुभव -
आपको किसी क्षेत्र मे कितना वर्क अनुभव है इस बात का भी धन रखे क्योई अधिकतर कंपनिया जॉब के लिए उम्मीदवार के पास कितना अनुभव हो | इस बारे मे जानकारी दे देती है | तो अगर आप फ्रेशर है और कंपनी को 5 साल अनुभवी उम्मीदवार चाहिए तो इस बात को आप समझने की कोशिश करे |

जॉब की लोकेशन -
जॉब की लोकेशन क्या है इस बारे मे भी पता करे यह भी एक महत्वपूर्ण बिन्दु है क्योकि ऐसी बहुत ही कंपनिया है जो दिल्ली मे हो और उम्मीदवार राजस्थान के लिए चाहती है तो आप यह सब देख ले क्योकि हो सकता है आप जिस लोकेशन पर जॉब चाह रहे है वह न हो |

सैलरी क्या चाहिए -
सभी कंपनी अपने बजट के अनुसार ही उम्मीदवार का चयन करती है और बजट के आधार पर ही उम्मीदवार को सैलरी का ऑफर देती है | तो आपको जो सैलरी चाहिए क्या आपको उम्मीदवार से कंपनी से मिल पाएगी इस बारे मे भी जानकारी प्राप्त जरूर करे |


अब आपको समझ मे आ ही गया होगा Job description in hindi  क्या हों और इसमे क्या समझना जरूरी है |
  • Pls Share

Post a Comment