अजब गजब duniya meaning in english

अजब गजब duniya meaning in english

ajab gajab duniya meaning in english - गज़ब meaning in english अगर आपको अजब गज़ब vidio पसंद है तो आज हम आपके लिए ajab gajab duniya meaning in english vidio इत्यादि की list लेकर आए है ? आपको आज हम ajab gajab duniya के बारे मे देखने के लिए कुछ youtube channel के नाम और लिंक दे रहे है | यह दुनिया बहुत बड़ी है साथ ही इस दुनिया मे कई तरह के अजब गज़ब बाते और अजब gajab कारनामे होते रहते है | ऐसे मे आपको अजब गज़ब पसंद है तो आज की पोस्ट मे जानिए कहा देखे ajab gajab vidio?


यह भी पढे -


गज़ब meaning in english

अजब गज़ब विडिओ कहानिया रहस्य

अगर आपको अजब गज़ब विडिओ अच्छा लगता है तो आगे हम आपको कुछ youtube channel के नाम दे रहे है | जहां पर आप एक से एक बढ़िया विडिओ कहानी देख सकोगे ?

youtube channel name
आपको यह youtube channel जो अजब गज़ब वीडियो के लिए फेमस है कैसे लगा हमे बताना न भूले है और अगर आपको इस तरह के और भी वीडियो चाहिए तो बताए हम आपको और भी चैनल लेकर आएंगे ?
बच्चो को अंधविश्वाशी मत बनाए

बच्चो को अंधविश्वाशी मत बनाए

हमारे यहा पढ़ने वाले छात्रो को किताबों मे पढ़ने के लिए जो मिलता है उस का उल्टा उन्हे अपने परिवार वाले, धर्मग्रंथो और धार्मिक गुरुओ से मिलता है | इसी का नतीजा होता है कि एक पढ़ा लिखा इंसान भी एक बेवकूफ जैसा बरताव करता है |

राकेश 7वी जमात का छात्र है उस के गाँव मे यज्ञ हो रहा था | यज्ञ मे आए धर्मगुरु ने अपने प्रवचन मे बता रहे थे कि गंगा शिवजी जटाओ से निकलती है और भगीरथ उन्हे स्वर्ग से धरती पर लाये थे |


प्रवचन खत्म होते ही राकेश ने पूछा महात्मा जी "मैंने तो किताब मे पढ़ा है कि गंगा हिमालय के गंगोत्री ग्लेशियर से निकलती है | इस पर महात्माओ ने कहा अभी तुम बच्चे हो धर्म की बाते नहीं समझ पाओगे | पास मे बैठे दूसरे लोगो ने भी उससे कहा की जब तुम बड़े हो जाओगे तो तुम्हें अपने आप इन सब बातो की जानकारी हो जाएगी |

image source - mapsofindia.com
  • दूसरे दिन राकेश ने अपनी क्लास मे टीचर से पूछा " सर आप जो पढ़ते है उस का उल्टा महात्मा जी बताते है" 
  • टीचर ने कहा कि जब तुम बड़े हो जाओगे तब समझोगे | आज राकेश बड़ा हो गया है फिर भी इन बातो को समझने मे उसे मुश्किल हो रही है कि किसे सच माने और किसे झूठ |

प्रीति इंटर की छात्रा थी एक दिन उसकी माँ ने उस से कहा "तुम नहा कर रोजाना सूर्य भगवान को जल चढ़ाया करो" इस से तुम्हें हर चीज मे कामयाबी मिलेगी | इस पर प्रीति बोली माँ आप को पता नहीं है कि सूर्य भगवां नहीं है | सूर्य सौर्य मण्डल का एक तारा है जो धरती से कई गुना बड़ा है |
इस पर प्रीति की माँ बोली "क्या वे सभी लोग बेवकूफ है जो सूर्य देवता को जल चढ़ाते है |प्रीति समझ नहीं पाई कि किताब की बाते सच माने या अपनी माँ की |

एक बार जब भूकम्प आया तो मंजु के दादा जी ने बताया कि " धरती शेषनाग के फन पर टिकी हुई है और जब शेषनाग करवट बदलता है तो वह हिलने लगती है " मंजु ने अपने दादा को जवाब दिया " दादा जी मेरी किताब मे लिखा हुआ की धरती धुरी पर 23 डिग्री पर झुकी हुई है | जब दो टेक्टोनिक प्लेट्स आपस मे टकराती है तो भूकंप आता है | इस तरह के सैकड़ों उदाहरण हमारे समाज मे देखने को मिलते है | जो नई पीढ़ी को परेशानी मे डाल देते है


विज्ञान तर्क के आधार पर किसी बात को पुख्ता करता है ताकि विद्यालय मे पढ़ने वाले विधार्थी उसे समझे और अपनी जिंदगी मे उतारे | जबकि धर्म से जुड़ी किताबे यहा वह से इकठ्ठा की गई बाटो का पुलिंदा होती है | जिन मे अंधविश्वास भरा होता है | इस से बच्चो को समझ मे नहीं आता वह किस पर विश्वास करे |

कुछ लोग कहते है हमारे पूर्वज इसे मानते थे इसलिए हम भी मानेगे तो हमारे पूर्वज जंगल मे नंगे भी घूमते थे तो आप अब क्यू नहीं घूमते क्यो शूट बूट पहनना पसंद करते है |

मोनालिसा का रहस्य इतिहास जानिए mona lisa ka itihas

मोनालिसा का रहस्य इतिहास जानिए mona lisa ka itihas

monalisa history hindi - मोनालिसा एक ऐसी पापुलर पेंटिंग है जिसके बारे मे इंटरनेट पर कई तरह के खोज किए जाते है जैसे - मोनालिसा कौन थी, monalisa history, मोनालिसा किसकी रचना है हिस्ट्री एंव मोनालिसा इतिहास के बारे मे तो आज हम आपको मोनालिसा से जुड़े कुछ तथ्यो के बारे मे बताने वाले है |

ऐसे बहुत ही कम लोग होते है जो अपने जीते जी कुछ ऐसा कर जाते है जिन्हे दुनिया मरने के बाद भी याद रखती है और उन्ही मे से एक है मशहूर पेंटर लियोनार्दो दा विंची एंव इनकी बनाई हुई कृति मोनालिसा |


mona-lisa-painting-itihas
मोनालिसा पेंटिंग
लियोनार्दो दा विंची का जीवन परिचय - 


leonardo-da-vinci-mystry-hindi
लियोनार्दो दा विंची
लियोनार्दो दा विंची का जन्म 15 अप्रैल 1452 को इटली के फलोरेंस प्रदेश के विंची गाँव मे हुआ था | लियोनार्दो दा विंची एक अवैध पुत्र थे | लियोनार्दो के नाम के पीछे विंची उनके गाँव के नाम के कारण लगाया जाता है | लियोनार्दो दा विंची की खूबी थी वह एक साथ एक हाथ से लिखना और दूसरे हाथ से पेंटिंग करना कर सकते थे | इसी प्रतिभा का नतीजा है कि आज भी दुनिया उन्हे भुला न पाई |

लियोनार्दो दा विंची की पेंटिंग मोनोलीसा -

मोनालिसा पेंटिंग लियोनार्दो दा विंची द्वारा बनाया गया था जो आज के समय मे louvre म्यूजियम मे मौजूद है | मोनालिसा पेंटिंग की कीमत आज के समय मे 5260 करोड़ के आसपास है | ऐसा कहा जाता ही की मोनालिसा पेंटिंग को अलग अलग एंगेल से देखने पर अलग अलग स्माइल नजर आती है इसलिए आज इसे एक रहस्यमय कृति माना जाता है |


मोनोलीसा पेंटिंग रहस्य रोचक तथ्य -

  • लियोनार्दो दा विंची द्वारा मोनालिसा पेंटिंग सन 1503 मे बनाना शुरू किया गया था |
  • यह कृति बनाते समय लियोनार्दो दा विंची की उम्र 51 साल थी |
  • लियोनार्दो दा विंची की मृत्यु 2 मई सन 1519 को हुई थी जबकि पेंटिंग पूरी तरह से पूरा किए बिना विंची इस दुनिया से अलविदा हो गए |
  • कहा जाता है नेपोलियन बोनापार्ट को यह पेंटिंग बहुत ही पसंद आई थी जिस कारण उन्होने यह कृति अपने कमरे मे लगवाई थी |
  • मोना लिसा को इटली भाषा मे मतलब MyLady है साथ ही मोना लिसा का सही उच्चारण Monna Lisa है |
  • मोनालिसा पेंटिंग सन 1757 मे Louvre Museam मे पाया गया था लेकिन यह एक रहस्य है क्योकि किसी को नहीं पता है यह कृति कैसे यहा पर आई थी |
  • मोनालिसा पेंटिंग एक बुलेट प्रूफ शीशे के अंदर Louvre Museam के एक स्पेशल कमरे मे रखा गया है | ऐसा इसलिए किया गया क्योकि एक बार किसी शख्स ने मोनो लिसा पेंटिंग पर पत्थर फेक दिया है जिससे मोनालिसा के बाए हाथ के कोहनी पर स्क्रैच आ गया था | इसलिए फ्रांस गवर्नमेंट ने 50 करोड़ का खर्च कर इस कृति के लिए स्पेशल रूम बनाया | इस कमरे का टेम्परेचर ऐसा है जिससे पेंटिंग को कभी कोई नुकसान नहीं हो सकता है |
  • 21 अगस्त 1911 ऐसा दिन था जब Mono Lisa Painting चोऋ हुई थी पर हैरानी की बात है यह पेंटिंग 10 साल मे दुबारा आ गई |
  • हाल ही हुए शोध से पता चला था कि mona lisa painting पर विंची द्वारा La Risposta Si Trova Qui लिखा गया था जिसका हिन्दी मे अर्थ "उत्तर यहा है" इस Words से अंदाजा लगता है कि विंची इस कृति मे कुछ secret Massage देना चाहते थे |
  • हाल ही एक वैबसाइट पर खबर आई थी कि मोना लिसा पेंटिंग मे एलियन छुपा हुआ है लेकिन इस बात मे कितनी सच्चाई है यह अभी कनफर्म नहीं हुआ है | लेकिन वैबसाइट ने मोनेलिसा के 2 चित्रो को एक साथ जोड़कर दिखाया है जिसमे एक छवि उभरती है जिसमे एलियन जैसा कुछ नजर आता है | आप नीचे की तस्वीर देखकर खुद समझ सकते है क्या यह एलियन है ????

  • यह एलियन जैसी आकृति ऐसे स्थान पर बनती है जहा पर लियोनार्दो दा विंची द्वारा लिखा गया "उत्तर यहा है" |
यहा क्रिकेट खेलकर सुलटाते है झगड़े

यहा क्रिकेट खेलकर सुलटाते है झगड़े

हमारे देश मे क्रिकेट दीवाने की कमी नहीं है क्रिकेट खेल हमारे लिए भले मनोरंजन का साधन हो पर पापुआ न्यू गिनी की ट्रोब्रियंड जनजाति के लिए यह अमन शांति बनाए रखने का तरीका है |

न्यू गिनी - आस्ट्रेलिया के उत्तर मे स्थित दुनिया का सबसे बड़ा दिविप है न्यू गिनी मे ट्रोब्रियंड नमक एक जगह है | जहां ट्रोब्रियंड जनजाति के लोग रहते है | जिस तरह दुनिया मे पाई जाने वाली सभी जंजातियों के अपने नियम कायदे होते है |

janjati



इनमे से एक नियम के बारे मे सुनकर चौक जाएँगे आप भी क्योकि यह नियम जुड़ा है लड़ाई झगड़े के निपटारे से | अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्या खास है झगड़ा का निपटारा करने मे ??
हम आपको बता दे जब इनके बीच झगड़ा होता है तो वह मर पीट और बहस नहीं करते बल्कि क्रिकेट खेल कर झगड़े को सुलझाते है |
दुल्हन कि एंट्री के लिए यूनिक आइडियाज

इस क्रिकेट मैच मे महिलाए भी लेती है भाग -

इस मैच मे जो जीतता है झगड़े के मुद्दे पर उसी कि बात मानी जाती है | ट्रोब्रियंड जनजाति को सन 1793 मे खोजा गया था | साल 1894 मे ट्रोब्रियंड दीप समूह तब सामने आया था जब यहा एक कैथोलीक मिसन से जुड़े लोग यहा पाहुचे थे | तब इस जगह को "पापुआ न्यू गिनी" के नाम से जाना जाने लगा |



कैसे इस जनजाति ने सीखा क्रिकेट -
साल 1903 मे विलियम गिलमोर नाम के एक ब्रिटिस व्यक्ति ने ट्रोब्रियंड जनजाति के लोगो को क्रिकेट से परिचय कराया | उन्हे क्रिकेट सीखने के पीछे उनके बीच लड़ाई झगड़ा और दुश्मनी को खत्म करना था | हालाकी गिलमोर ने इस जनजाति के लोगो को जिस तरह क्रिकेट खेलना सिखाया था उसके नियमो मे अब बहुत बदलाव आ गए है | वहा के क्रिकेट मैच मे एक टीम मे 40 - 50 सदस्य शामिल हो सकते है |

क्रिकेट मैच शुरू और खत्म कैसे 
क्रिकेट शुरू करने से पहले इस जनजाति के आद्यात्मिक गुरु बेट और बाल को हाथ मे लेकर प्राथना करते है ताकि क्रिकेट मैच के नतिजे सुखद रहे और मैच के दौरान मौसम अच्छा रहे | मैच के पहले और मैच के बीचो बीच मे टीम के सभी सदस्य प्राथना और नाच गाने का प्रदर्शन करते है | यही नहीं जब कोई सदस्य आउट होता है तो उस व्यक्ति को नृत्य या नाचना पड़ता है और उसकी कोरियोग्राफी विपक्षी टीम करती है | मैच खत्म होने के बाद दोनों टीमे एक दूसरे से अपने भोजन कि अदला बदली करती है |

ग्रीनलैंड के बाद यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा दीप है यहा कि एक और खासियत है - यहा सामान्य कैरेंसी नहीं चलती बल्कि यहा समान खरीदने के लिए केले के पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है |