काला जादू कैसे पहचान करे black magic kaise pahchane

काला जादू कैसे पहचान करे black magic kaise pahchane

kala jadu कैसे पहचाने bangal ka kala jadu कैसे पहचाने kala jadu क्या है काला जादू कैसे पहचाने काला जादू का असर कैसे पता करे काला जादू कैसे करे 
काला जादू in hindi - ऐसे बहुत से लोग है जो सोचते है काला जादू क्या है, क्या काला जादू सचमुच अस्तित्व मे है, या फिर किसी व्युकती द्वारा काला जादू किया जा सकता है अगर हा तो कैसे पहचाने काला जादू | दुनिया मे दो तरह की ऊर्जाए मौजूद है पहला सकरात्मक और दूसरा नकारात्मक इस आधार पर माना जा सकता है कि काल जादू यानि नकारात्मक ऊर्जा मौजूद है | अथर्वेद मे भी 2 तरह की ऊर्जाओ की व्याख्या है - सकरात्मक एंव नकरात्मक |


ऐसा नहीं है कि आपके ऊपर काला जादू ही किया गया है क्योकि अधिकतर ऐसे ही मामले होते है कि जो काला जादू न होकर मानसिक बीमारी होती है | लेकिन लोग इसे काला जादू समझ बैठते है तो इस भरम से बाहर निकालना चाहिए | क्योकि ऐसा भी हो सकता है - अगर मैंने दिमागी तौर ओर सोच लिया की आपको मुझे पागल करना है तो यह करने के लिए जरूरी नहीं कि मैं काला जादू का सहारा लू क्योकि मैं अगर मैं ऐसा भी करू तो आपके दिमाग मे एक बुरा असर पड़ेगा जैसे - आप घर से पहला कदम निकाल रहे हो और आपके पहला कदम निकालते ही एक सुइयो से गूँधा हुआ नींबू एंव खून के छींटे नजर आ जाए तो जाहीर सी बात है आप पर इस दृस्य का नकरात्मक प्रभाव पड़ेगा और आप खुद को किसी अदृस्य शक्ति मे बंधा हुआ पाएंगे |




kala jadu कैसे पहचाने

असल मे यह अदृस्य शक्ति नहीं बल्कि आपके दिमाग का बहम होता है मतलब आप जैसा सोचते है वैसा ही आपको अनुभव होता है | काला जादू का मामला 2% ही सही माना जाता है बाकी सब मन का बहम ही होता है |

काला जादू कैसे पहचाने - 

हिन्दू धर्म मे कहा जाता है कि काला जादू अघोरी बाबो द्वारा किया जाता है, यह काला जादू अघोरी द्वारा रात मे किया जाता है जो एक विशेष पूजा से पूरी होती है | कुछ उपाय है जिसके द्वारा काला जादू पहचाना जा सकता है | हिन्दू धर्म मे बताया गया है अगर किसी व्यकती के कुंडली मे 3 तरह के योग विद्यमान है तो समझिए उस व्यक्ति के ऊपर काला जादू या भूत प्रेत से पीड़ित है |


पहला योग - कुण्डली के प्रथम भाव में चन्द्र के साथ राहु हो और पांचवे और नौवें भाव में कोई क्रूर ग्रह मौजूद हो। इस योग केहोने पर उस व्यक्ति पर भूत–प्रेत, पिशाच या गन्दी आत्माओं का प्रकोप होने का खतरा अधिक होता है। यदि गोचर में भीयही स्थिति हो तो अवश्य ऊपरी बाधाएं तंग करती हैं |

दूसरा योग - यदि किसी कुण्डली में शनि, राहु, केतु या मंगल में से कोई भी ग्रह सप्तम भाव में हो तो ऐसे व्यक्तियों को भीभूत–प्रेत बाधा या पिशाच या ऊपरी हवा आदि अधिक संकट में डालते है |


तीसरा योग - यदि किसी की कुण्डली में शनि–मंगल–राहु की युति हो तो उसे भी ऊपरी बाधा, प्रेत, पिशाच या भूत बाधा तंगकरती है। इन योगों में दशा–अर्न्तदशा में भी ये ग्रह आते हों और गोचर में भी इन योगों की उपस्थिति हो तो यह मान लेनाचाहिए कि व्यक्ति इस कष्ट से बहुत ही परेशान है |

काला जादू है किसी पर कैसे पहचाने लक्षण - 

अगर किसी पर काला जादू का असर है तो कुछ ऐसे संकेत होते है जिससे काला जादू को पहचाना जा सकता है |
  • अगर आप किसी भी रोग से पीड़ित नहीं है फिर भी आपका पूरा बदन दर्द कर रहा हौ तो इसे काला जादू का लक्षण माना जा सकता है |
  • अगर आपके पूरे शरीर मे जलन महसूस हो या किसी खाश अंग मे आग जैसा तो यह भी काला जादू होने के आसार माने जाते है |
  • घर परिवार मे कलह [ लड़ाई झगड़ा ], दुश्मन का डर, अचानक से घर मे कुछ ऐसी घटना हो जिससे पैसे की बरबादी हो और यह रुके न |
  • घर परिवार मे अचानक मौत जो सम्भव न लग रहा हो एंव पेट मे बच्चे की मौत |
  • अचानक से घर मे किसी व्यक्ति को बीमारी हो जाना |
  • घर मे टेंशन आना, परिवार के किसी सदस्य द्वारा आत्महत्या की चाहत, परिवार से अलग जाने की इच्छा |
  • भूख अधिक लगना किसी विशेष भोज पदार्थ की डिमांड एंव मरीज जो न खाता हो पहले कभी वह भी खाने को मागे |
  • आप का परिवरा सुखी था लेकिन अचानक से घर मे ढेर सारी परेशानियों का आना |
  • चेहरे का कलर पीला हो जाना, जितनी बुरी एंव शक्तिशाली जादू होगा उतना ही अधिक चेहरे का रंग पीला हो जाता है |
  • घबराहट, छाती मे अचानक दर्द, किसी अंग का खुद ही अचानक हिलना डुलना, सांस लेने मे समस्या|