गुर्दे की जरूरत है तत्काल बी + 2019 गुर्दा in english

गुर्दे की जरूरत है तत्काल बी + 2019 गुर्दा in english

गुर्दा in english kidney - अगर किसी को अपना गुर्दा दान करना है या बेचना है तो वह मुझे दे सकता है क्योकि मुझे गुर्दे की जरूरत है तत्काल बी + 2019. मेरा गुर्दा ख़राब हो चुका है इसलिए मुझे गुर्दा चाहिए. गुर्दा दान करने वाले को एक अच्छी कीमत और उसका इलाज का खर्चा हम आपको दे देंगे. किडनी फॉर सेल कीवर्ड

अब आपको बताते है पूरा माजरा गोरखपुर के रहने वाले एक परिवार में सेठ दामोदर दास को गुर्दे की तलाश है इसलिए वह एक गुर्दा चाहते है जिसकी वह कोई भी कीमत देने को तैयार है उनका नंबर और जानकारी आपको चाहिए तो आप अपने बारे में हमें लिखे आपसे जल्द ही सम्पर्क किया जायेगा.

किडनी क्यों होती हर ख़राब ?

आज के समय में खानपान से लेकर सभी चीजे मिलावटी आ रही और इस बदलती जीवनशैली के चलते हर साल किडनी रोगीयो की संख्या में इजाफा हो रहां है. अगर हम डायेलासिस सेंटर और किडनी प्रत्यारोपण की चर्चा करे तो दोनों ही क्षेत्रो में हमें हार का ही सामना करना पड़ता है. मुंबई के जोनल ट्रांसप्लांट कोर्डिनेशन में लगभग 3000 लोगो ने किडनी के लिए रजिस्टर कराया हुआ है. लेकिन इतने बड़ी संख्या में किडनी नहीं मिल पा रही है. वहीं डायेलासिस सेंटरों की कमी की बात करें तो पूरे भारत में ही यह संख्या सिर्फ 4,950 है जबकि हर साल 2 लाख से ज्यादा नए ऐसे किडनी के मरीज आ रहे हैं जिन्हें डायेलासिस की जरूरत पड़ती है।

गुर्दे की जरूरत है तत्काल बी + 2019 गुर्दा in english

गुर्दा ख़राब होने से कैसे बचाए ?

अगर आपको अपनी किडनी को सुरक्षित रखना है तो आपको अपने खानपास से लेकर सेहत का ख्याल रखना चाहिए इसके लिए आप व्यायाम, संतुलित आहार जैसे - हरी सब्जिया, ताजे फल, इत्यादि का सेवन करना चाहिए साथ ही आपको चीनी और मांस का सेवन करना कम कर देना चाहिए. 

अगर आपका वजन बढ़ रहा है तो इसे भी कंट्रोल करे क्योकि वजन बढ़ने से भी बीमारियों का सेलाब उठने लगता है जैसे - मधुमेह, ह्रदय रोग.

धुम्रपान, तम्बाकू और एल्कोहल का सेवन कम करे क्योकि यह सब एथीरोस्क्लेरोसिस होने की संभावना को बढाता है साथ ही किडनी में रक्त के प्रवाह को कम करता है इस तरह से आपकी किडनी के कार्य करने की क्षमता कम हो जाती है. 

अगर आपमें पानी की कमी है और यूरिन का रंग पिला हो रहा है तो आपको सावधान होने के साथ पानी का सेवन अधिक कर देना चाहिए क्योकि यह किडनी के खराब होने की संभावना हो सकती है. अगर आप सही मात्र में पानी पीते है तो पेशाब का रंग सफ़ेद और पतला पेशाब होने शुरू हो जाता है. साथ ही पथरी जैसे रोगे को होने से रोकता है.

गुर्दा कैसे बेचे ? 

अगर आप अपनी किडनी बेचना चाहते है तो आप हमारे इमेल पते पर अपना पूरा डिटेल्स भेज दे हम आपको जल्दी ही संपर्क करेंगे .
मुझे किडनी चाहिए kidani donate for sale in india

मुझे किडनी चाहिए kidani donate for sale in india

किडनी फॉर सेल कीवर्ड - किडनी डोनर इंटरनेट पर search कर रहे किडनी for sale. आज के समय मे ऑनलाइन कपड़े जूते इत्यादि समान तो बिक रहे है साथ ही किडनी भी खरीदी या बेची जा रही है | मुझे किडनी चाहिए< मुझे किडनी बेचना है ऐसे कीवर्ड आज के समय मे इनेटरेंट पर खोजे जाते है | तो आप भी किडनी खरीदने या बेचने के इच्छुक है तो आप नीचे दिए हुए ईमेल पर कांटेक्ट बना सकते है |


हम आपको बता दे किडनी बेचना और खरीदना जोखिमो से भरा है यह भारत मे गैरकानूनी भी है | किडनी डोनेट करने की कुछ शर्ते है | तो आप जो भी करे जैसे किडनी बेचना और खरदीना खुद की ज़िम्मेदारी पर करे | हमारा काम आपको जनकारी देना है | अगर आपके साथ किसी तरह की कोई घटना होती है | तो हमारी और वैबसाइट की किसी तरह से ज़िम्मेदारी नहीं होगी |

kidani donate for sale in india

किडनी ट्रांसप्लांट मे कितने का खर्च आता है

किडनी का आपरेशन एक बहुत बड़ा आपरेशन माना जाता है | आपके बता हर एक व्यक्ति की किडनी जरूरी नहीं है आपके काम आ जाये | इसलिए किडनी ट्रांसप्लाट से पहले ही किडनी डोनर और किडनी जिसे चाहिए दोनों का टेस्ट किया जाता है | सभी टेस्ट पास होने के बाद ही किडनी को ट्रांसप्लाट किया जाता है | इसके लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते है | एक बात आपको और बता दे की किडनी ट्रांसप्लाट होने के बाद भी कोई गारंटी नहीं है कि आपकी किडनी काम करने लगे | तो किडनी लगवाना एक तरह का रिस्की काम है | किडनी के आपरेशन का खर्च बहुत महगा होता है | इसलिए यह आपरेशन कराना सबके बस की बात नहीं होती | किडनी ट्रांसप्लाट मे लगभग 6 से 7 लाख रुपए का खर्च आता है |
  • कुछ अस्पतालो मे किडनी ट्रांसप्लाट का इलाज फ्री मे किया जाता है जैसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल मे तो आप यहा भी जाकर किडनी का इलाज करवा सकते है |


किडनी चाहिए या किसी को किडनी बेचना है या फिर किसी तरह का सवाल आपको पूछना है तो आप हमसे कर सकते है |
किडनी डोनर इन इंडिया kidney donors in india

किडनी डोनर इन इंडिया kidney donors in india

किडनी डोनेट करना - ऐसे लोग जो अपने जीवित रहते ही खुद का किडनी डोनेट [ जीवित दाता ] कर देते है उन्हे किडनी डोनर कहा है | इंडिया मे किडनी रोगी जिनके किडनी खराब हो जाती है उन्हे किडनी की पूर्ति के लिए किडनी चाहिए होती है | लेकिन भारत मे किडनी को बेचना और खरीदना अवैध है | अगर कोई kidney देना चाहता है तो पहले यह देखा जाता है किडनी देने और लेने वाले की बीच क्या रिश्ता है |अगर दोनों के बीच कोई गहरा सम्बंध है तो ही kidney डोनेट किया जा सकता है मतलब परिवार के परिवार के सदस्‍य, पति/पत्‍नी और मित्र अपने प्रियजन को गुर्दादान कर सकते हैं। यहां तक कि गुमनाम तरीके से किसी अजनबी को भी गुर्दादान किया जा सकता है | आपको बताना चाहेंगे की एक किडनी से जीवन जीना मुमकिन है |
kidney donet kaise kare

किडनी डोनट कर सकते है क्योकि बहुत जरूरी है


  • मरने वाले इंसान से गुर्दे यानि किडनी पाने की इच्छा रखने वाले लोगो की संख्या बहुत लंबी है | इनमे 3 से 5 साल के बच्चे भी मौजूद है |
  • अगर कोई अपने जीते जी गुर्दा दान कर देता है तो गुर्दे के समस्या से जूझ रहे व्यक्ति को जल्दी मदद मिल जाती है |
  • गुर्दे रोगी क एक बार जब नया गुर्दा मिल जाता है तो उसे डायलिसिस की जरूरत नहीं पड़ती | डायलिसिस का अर्थ है कि उसके बाद गुर्दे के रोगी को डायलिसिस कराने की ज़रूरत नहीं रह जाती। डायलिसिस कराने का अर्थ है कि गुर्दे के रोगी का रक्‍त फिल्‍टर किया जाता है। गुर्दे के रोगी को जीवित रखने के लिए डायलिसिस करना ज़रूरी होता है, लेकिन इसके बहुत से नुकसान भी हैं। यदि कोई जीवित दाता समय पर उपल्‍ब्‍ध हो जाए, तो डायलिसिस की आवश्‍यकता पूरी तरह खत्‍म हो सकती है। इसके लिए, डायलिसिस की ज़रूरत पड़ने से पहले ही, गुर्दा दान करने वाला व्‍यक्ति उपलब्‍ध होना चाहिए। नए गुर्दे से गुर्दे के रोगी की जीवन गुणवत्‍ता में बहुत हद तक सुधार हो जाता है |

मृत एंव जीवित व्यक्ति से प्राप्त किडनी -

  • मृत व्यक्ति का गुर्दा अगर किसी को दिया जाता है तो आपको बता दे ऐसे गुर्दे लगभग 10 साल तक काम करेगा |
  • जीवित व्यक्ति से गुर्दा प्राप्त जो होता है वह लगभग 20 साल तक काम करता है क्योकि ऐसे गुर्दे स्वस्थ और अच्छे क्वालटी के होते है |
  • जीवित गुर्दादान के मामले में गुर्दे की गुणवत्‍ता को बेहतर रूप से संरक्षित रखा जा सकता है। ऐसा इसलिए है कि दाता और प्राप्‍तकर्ता की सर्जरी योजना बनाकर की जा सकती है |