पोलियो की खोज किसने की परिचय poliyo ki khoj

पोलियो की खोज किसने की परिचय poliyo ki khoj

पोलियो की खोज - पोलियो को पूरी तरह से खंत्म करने के लिए महान वैज्ञानिक हिलैरी कोप्रोव्यस्की ने वैक्सीन को बनाया था | जो एक ड्रॉप के रूप मे बचो को पिलाया जाता है | इसके 2 साल बाद वैज्ञानिक जोनास साक ने पोलियो वैक्सीन इंकजेकसन की खोज की थी | poliyo ki khoj & avishkar
पोलियो क्या है ............?
पोलियो एक रोग है जो विषाणु द्वारा फेलता है यह रोग ज़्यादातर बच्चो मे पाया जाता है | लेकिन जरूरी नहीं की यह रोग केवल बच्चो को हो यह व्यस्को को भी हो सकता है | व्यस्कों मे रोग प्रतिरोधक क्षमता पाई जाती है इसलिए बच्चो की तुलना मे यह रोग वयस्को को कम होता हैं | पोलियो रोग मे वायरस संकर्मण पाये जाते है | इसलिए यह रोग एक दूसरे के संपर्क मे आने से भी हो सकता है | यह रोग अस्वच्छ भोजन, मल पदार्थ, जल के संकर्मण से हो सकता है | इस बीमारी का असर विकलांगता के रूप मे दिखाई दे सकता है साथ ही यह लाइलाज बीमारी है | इस बीमारी से बचना है एक मात्र उपाय है |


poliyo se bachav
Image Source - gharelu Nuskhe
पोलियो के लक्षण -
अधिकतर अधिकतर पोलियो के लक्षण का पता नहीं चल पाता लेकिन अन्य तरह के लक्षण इस तरह के होते है |

हल्के संक्रमण की पहचान -

  • पेट दर्द
  • उल्टी
  • गले मे दर्द
  • धीमा बुखार
  • डायरिया [ अतिसार ]
  • सिर दर्द
मस्तिष्क और मेरुदंड का मध्यम संक्रमण की पहचान -
  • मध्यम बुखार
  • गर्दन की जकड़न 
  • मांस-पेशियाँ नरम होना तथा विभिन्न अंगों में दर्द होना जैसे कि पिंडली में (टांग के पीछे) 
  • पीठ में दर्द 
  • पेट में दर्द 
  • मांस पेशियों में जकड़न 
  • अतिसार (डायरिया) 
  • त्वचा में दोदरे पड़ना 
  • अधिक कमजोरी या थकान होना

मस्तिष्क और मेरुदंड का गंभीर संक्रमण की पहचान 
  • मांस पेशियों में दर्द और पक्षाघात शीघ्र होने का खतरा (कार्य न करने योग्य बनना) जो स्नायु पर निर्भर करता है (अर्थात् हाथ, पांव) 
  • मांस पेशियों में दर्द, नरमपन और जकड़न (गर्दन, पीठ, हाथ या पांव) गर्दन न झुका पाना, गर्दन सीधे रखना या हाथ या पांव न उठा पाना 
  • चिड़-चिड़ापन 
  • पेट का फूलना 
  • हिचकी आना 
  • चेहरा या भाव भंगिमा न बना पाना
  • पेशाब करने में तकलीफ होना या शौच में कठिनाई (कब्ज) 
  • निगलने में तकलीफ 
  • सांस लेने में तकलीफ 
  • लार गिरना 
  • जटिलताएं 
  • दिल की मांस पेशियों में सूजन, कोमा, मृत्यु
मुह की दुर्गंध दूर करने के उपाय
पोलियो का उपचार - 
पोलियो से बचने के लिए टीका लगाया जाता है और इस का आविष्कार डॉ. शाक द्वारा किया गया यह इंजेक्शन अन्तः पेशियो मे लगाया जाता है | पोलियो एक व्यक्ति से व्यक्ति मे फेल सकता है इसलिए पोलियो रोगी का ज्वर उतरने के बाद कम से कम 3 सप्ताह अलग रखना चाहिए साथ ही रोगी के मल मूत्र तथा शरीर से निकलने वाले अन्य छीजो की सफाई रखनी चाहिए | पोलियो मे डीडीटी का टीका बहुत लाभकारी होता है | अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की परामर्श जरूर ले |
कागज की खोज - kagaj ki khoj in india

कागज की खोज - kagaj ki khoj in india

कागज का प्रयोग आपने किया तो है लेकिन क्या आप कागज के इतिहास के बारे मे जानते है जैसे - कागज की खोज किसने किया, कागज का इतिहास क्या है, भारत मे कागज का आरम्भ कब और कैसे हुआ | अगर आपको नही पता है तो आज इस लेख मे आपको कागज के बारे मे जानकारी प्राप्त होगी आइये जाने कागज के बारे मे |

कागज - कागज को बनाने के लिए घास फूंस, लकड़ी, कच्चे माल, सेलुलोज-आधारित उत्पाद का प्रयोग किया जाता है |  कागज की महत्वता क्या है इससे आप भली भाति परिचित है | कागज का प्रयोग शिक्षा, व्यापार, बैंक, इत्यादि मे किया जाता है | कागज का आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था मे महत्वपूर्ण योगदान है इसके बिना कार्यप्रणाली को पूरा कर पाना सम्भव नहीं हो पाता |

kagaj avishkar
कागज का सर्वप्रथम प्रयोग चीन मे किया गया साथ ही कहा जाता है हान राजवंस के [ 202 ई.पू. ] मुख्य शाशक हो - टिश के राज दरबार मे त साई लून द्वारा कागज निर्माण की कला को लोगो के सामने लाया | यह जो कागज बना था वह भांग, शहतूत, पेड़ के छालो तथा अन्य तरह के रेशो का प्रयोग करके कागज बनाया गया था | यह कागज काफी चमकीला, मुलायम, लचीला, और चिकना होता था | कागज बनाने का तरीका धीरे धीरे पूरे दुनिया मे फैलाया गया | "त- साई - लून को " कागज के संत " के रूप मे सम्मान किया जाता है |



भारत मे कागज की खोज -
यह बात तो साफ है की कागज की खोज का श्रेय चीन को जाता है लेकिन चीन के बाद भारत मे कागज का निर्माण और प्रयोग का संकेत सिंधु सभ्यता से प्राप्त होता है |

कागज के बारे मे तथ्य -
  • कहा जाता है भारत मे कागज नेपाल के आर्ग से आया था लेकिन इस विषय पर कोई प्रमाण और विश्वाष के कोई स्पष्ट साक्ष्य नहीं मिलते है |
  • चीनी यात्री इत्सिंग द्वारा लिखी पुस्तक मे कागज का उल्लेख किया गया है जिसमे कहा गया है की कागज का प्रथमया आदान - प्रदान भारत से हुआ लेकिन इस बात का कोई स्पष्ट साक्ष्य नहीं प्राप्त होता है |
  • अलबरुनी फारसी विद्वान लेखक ने यह साफ कर दिया की कागज का आविष्कार चीनीयो ने किया था और अरब देश के वाशियों ने चीनियो के केंप पर कब्जा बनाकर कागज निर्माण का फार्मूला प्राप्त किया | इस तरह से कागज बनाने की तकनीकी पूरे विशाव ए फ़ैली |


भारत मे कागज के उद्योग -
  • भारत मे कागज बनाने की शुरुवात मुगल काल मे हुआ |
  • कश्मीर के सुल्तान जैनुल आबिदीन द्वारा सबसे पहला कागज बनाने की मिल कश्मीर मे स्थापित किया |
  • आधुनिक कागज का उद्योग कलकत्ता मे हुगली नदी के तट पर बाली नामक स्थान पर स्थापित किया |
  • बंगाल मे सन 1887 मे टीटा कागज मिल्स को स्थापित किया गया लेकिन यह मिल कागज को बनाने मे सफल न हो पाई |