धारा 323 का मतलब समझे IPC Section 323 324 325 326 in Hindi

धारा 323 का मतलब समझे IPC Section 323 324 325 326 in Hindi

धारा 323 का मतलब IPC Section 323 324 325 326 in Hindi - इंडिया मे ऐसे बहुत से लोग IPC धारा का मतलब नहीं जानते है ऐसे मे हम आज आपको कुछ धाराओ का मतलब बता रहे है जैसे - IPC Section 323 324 325 326 in Hindi

धारा 323 का मतलब


IPC Section 323 का मतलब जानिए

अगर कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति को अपनी इच्छा अनुसार किसी को चोट पहुचता है तो उसे धारा 323 लागू होता है | इसकी शिकायत ठाने मे जाकर कर सकते है | लेकिन यह मामला अपराध की श्रेणी मे नहीं आता है | इसलिए पुलिस इस मामले की एफ़आईआर सीधे नहीं दर्ज करती है | लेकिन अगर आपके साथ ऐसा हुआ है तो आपके शिकायत करनी चाहिए | ऐसे मामले मे अदालत मे अर्जी दाखिल किया जा सकता है और एफ़आईआर दर्ज करने की गुहार लगाई जा सकती है |


IPC Section 324 का मतलब जानिए

अगर कोई किसी से साधारण मारपीट के दौरान किसी घातक हथियार का प्रयोग करता है और व्यक्ति को जख्मी कर देता है | तो आरोपी पर धारा 324 लागू होता है | ऐसी शिकायत पुलिस सीधे एफ़आईआर दर्ज करती है | अगर आरोपी पर आरोप साबित हो जाए तो उसे 3 साल की सजा अधिकतम हो सकती है | इस आरोप मे न तो समझोता होता है और न ही जमानत | अगर बाद आरोपी और जख्मी मे समझोता हो जाये तो कोर्ट के माध्यम से एफ़आईआर को खत्म किया जा सकता है |

IPC Section 325 का मतलब
अगर कोई व्यक्ति किसी को गंभीर चोट पहुचाता है तो उस पर धारा 325 लगता है | यह काफी संज्ञेय और जमानती अपराध की श्रेणी मे आता है |


अगर आपको IPC के धाराओ के बारे मे कुछ पूछना है तो कमेन्ट मे आप बताए कौन सी धारा की जानकारी आपको चाहिए |
बलवा क्या है की परिभाषा dhara 147 in hindi

बलवा क्या है की परिभाषा dhara 147 in hindi

बलवा, धारा 147 in hindi - बलवा करना और बलवा करने के लिए क्या दण्ड मिल सकता है आज चर्चा का रहे है उससे पहले जानिए बलवा का मतलब - दंगा-फ़साद करना, उपद्रव मचाना, बग़ावत विप्लव, विद्रोह करना होता है | बलवा क्या है तो समझे बल और हिंसा का प्रयोग करना | dhara 147 information in hindi

बलवा करना - जब कभी "विवि - विविरुद्ध या उसके किसी सदस्य द्वारा या उसके किसी सदस्य द्वारा ऐसे जमाव के सामान्य उद्देय को अग्रसर करने मे बल या हिंसा का प्रयोग किया जाता है |, तब ऐसे जमाव का हर सदस्य बलवा करने के अपराध का दोषी है |


dhara 147


टिप्पड़ी - बल और हिंसा के प्रयोग से युक्त दंगा एक ऐसा कार्य है, जो किसी "विवि - विविरुद्ध जमाव 
या उसके किसी सदस्य द्वारा, ऐसे जमाव के सामन्य उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए किया जाता है |



आवश्यक तत्व - दंगा नामक अपराध निम्न तत्वो द्वारा संरचित होता है -

  • यह कि, अभियुक्त जो पाँच या पाँच से अधिक थे, "विवि - विविरुद्ध जमाव संरचित किए थे |
  • यह कि, वे सब एक सामन्य उद्देश्य से अनुप्रमाणित थे |
  • यह कि उस "विवि - विविरुद्ध जमाव ने अथवा उसके किसी सदस्य ने उस उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए बल या हिंसा का प्रयोग किया था |

बलवा करने के लिए दण्ड - 

जो कोई बलवा करने का दोषी होगा, वह दोनों मे से किसी भांति के कारवास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से या दोनों से दण्डित किया जाएगा |
  • धारा 147 यानि बलवा करना, दंगे के अपराध के लिए दण्ड का प्रावधान प्रस्तुत करती है | यह ध्यान देने की बात है कि इस धारा के अंतर्गत दंगा अपराध करने के लिए विविविरुद्ध जमाव का वही सदस्य अकेला दण्डित नहीं हो सकता, जिसने जमाव के सामन्य उद्देश्य को अनुप्रमाणित करने के लिए बल या हिंसा का प्रयोग किया था, बल्कि उस जमाव के सभी सदस्य इस धारा के अंतर्गत दण्ड्निय है चाहे भले ही उन सभी ने स्वय बल या हिंसा का प्रयोग न किया हो |
धारा 155 क्या है what is section 155 in hindi

धारा 155 क्या है what is section 155 in hindi

धारा in english section - भारतीय दंण्ड सहिंता की धारा 155 के अनुसार " गम्भीर प्रकोपन होने से अन्यथा किसी व्यक्ति का अनादर करने के आशय से उस पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग" धारा 155 के अनुसार किसी व्यक्ति पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग उस व्यक्ति द्वारा गम्भीर और अचानक प्रकोपन दिए जाने पर, करने से अन्यथा, इस आशय से करेगा कि एतदद्वारा उसका अनादर किया जाए, वह दोनों मे से किसी भांति के कारावास से जिसकी अवधि 2 वर्ष हो सकेगी, या जुर्माने से या दोनों से दंडित किया जाएगा |
section 155


टिप्पड़ी- गम्भीर और अचानक प्रकोपन से परे किसी व्यक्ति का निरादर करने के आशय से उस पर किया गया हमला या आपराधिक बल का प्रयोग इस धारा के अंतर्गत दंडनीय बनाया गया है |

अलताफ़ मिया के बाद मे अभियुक्त के विचारण के समय "साक्ष्य कोष्ठ" मे खड़े उसके विपरीत साक्ष्य देने वाले पुलिस उप निरीक्षक पर "अपराधिक बल" का प्रयोग कर उसे आहात कर दिया था | यह अधिनिधारण प्रदान किया गया कि वह इस इस धारा 155 के अंतर्गत दोषी था |