लोक अदालत की स्थापना कब हुई

लोक अदालत की स्थापना कब हुई

लोक अदालत क्या है और लोक अदालत की स्थापना कब हुई जैसे सवाल सरकारी परीक्षा मे पूछे जाते है तो हम आपको लोक अदालत क्या है और लोक अदालत की स्थापना कब हुई बता रहे है |

लोक अदालत की स्थापना - लोक अदालत की स्थापना का विचार सबसे पहले भारत के भूतपूर्व न्यायधीश पी.एन. भगवती द्वारा किया गया था और सबसे पहला लोक अदालत का आयोजन 1982 मे गुजरात मे हुआ और कुछ समय बाद 2002 मे लोक अदालत को स्थायी रूप से बना दिया गया |

lok adalat sthapna

लोक अदालत क्या है

लोक अदालत विवादो को समझोते के माध्यम से सुलझाने के लिए एक वैकल्पिक संघ है | सभी प्रकार के सिविल बाद तथा ऐसे अपराधो को छोड़कर जिनमे समझोता वर्जित है | सभी अपराधीक मामले भी लोक अदालत द्वारा निपटाए जा सकते है |
  • लोक अदालतों के फ़ैसलों को अदालत का फ़ैसला माना जाता है | जिसे कोर्ट की डिक्री की तरह सभी पक्षो पर अनिवार्य रूप से बाध्य होते हुए लागू कराया जाता है |
  • लोक अदालत के फ़ैसलों के विरुद्ध किसी भी न्यालय मे अपील नहीं की जा सकती है |
  • स्थायी लोक अदालतों मे समझोते के मादयम से निस्कारित मामलो मे अदा की गई कोर्ट फीस लौटा दी जाती है |
  • अभी जो विवाद अदालत के समक्ष नहीं आये है उन्हे भी प्री - लिटीगेशन स्तर पर बिना मुकदमा दायर किये ही पक्षकारो की सहमति से प्राथना पत्र देकर अदालत मे फैसला कराया जा सकता है |