टीना डाबी के बारे में जीवन परिचय wikipedia

टीना डाबी के बारे में जीवन परिचय wikipedia

टीना डाबी जो की एक IAS बन चुकी है जबसे टीना डाबी जी IAS बनी है तब से लोग उनके बारे में जानकारी चाहती है जैसे टीना डाबी posting wikipedia, टीना डाबी ias notes तो हमने पहले ही IAS टीना डाबी के नोट्स pdf में आपको प्रोवाइड कर दिया और आज हम आपको टीना डाबी का जीवन परिचय बताने जा रहे है.

जीवन परिचय टीना डाबी के बारे में ?

अगर कोई व्यक्ति किसी चीज को पाने में अपनी जी जान लगा दे तो use हासिल एक दिन कर ही लेता है और इस जुमले को सही साबित कर दिया है दिल्ली की टीना डाबी ने क्योकि उन्होंने हिंदुस्तान की सबसे कठिन माने जाने वाली UPSC परीक्षा को क्लियर करके दिखाया है वह भी फर्स्ट अटेम्प में फर्स्ट रैंक के साथ पास कर लिया.

टीना डाबी का जन्मस्थान भोपाल है मतलब इनका जन्म मध्य प्रदेश के एक परिवार में हुआ. टीना डाबी के माता पिता इंजिनियरिंग सर्विस में अधिकारी के तौर कार्य कर चुके है. टीना की शुरुवाती पढाई भोपाल से हुई है इनके पिता जी का कहना है मेरी बच्ची बचपन से ही पढाई में होशियार थी. दिल्ली से श्री राम कॉलेज से टीना ने २०१४ से ग्रेजुवेशन किया था और यहाँ से उन्होंने स्टूडेंट ऑफ इयर का अवार्ड भी प्राप्त किया.

टीना डाबी के बारे में जीवन परिचय wikipedia

टीना डाबी का प्यार और शादी ?

टीना डाबी सरकार द्वारा आयोजित एक प्रोग्राम में गयी थी और इस आयोजन में उनकी मुलाक़ात दुसरे रैंक होल्डर अतर आमिर हुसैन से हुई थी और इस मुलाकात में टीना डाबी और अतर को first time love हुआ और फिर दोनों ने शादी भी कर लिया . टीना का कहना है "मुझे पहली नजर में ही अतर से प्यार हो गया था" इस प्यार को प्यार का परवान मैसूरी में ट्रेनिंग के दौरान मिला.

टीना डाबी की पर्सनल लाइफ 

टीना डाबी को अपने लाइफ में जो करना सबसे ज्यादा अच्छा लगता है वह है पेंटिंग साथ ही पढाई करना और शोपिंग एंव movie देखना भी काफी अच्छा लगता है 

टीना डाबी UPSC में कैसे १st रैंक पाया इसके बारे में तो हम कुछ नहीं कह सकते है लेकिन उनका कहना है मैं बहुत ही कड़ी मेहनत करती थी और इसके लिए वह रोजान प्रेक्टिस करती थी जब भी उन्हें अपने पढाई में कमी नजर आती थी तो सबसे पहले अपनी कमीयो को दूर करने के लिए कोशिश करने में लग जाती थी . और इस काम को कल के भरोसे नहीं रखती थी, जो भी करना है आज करो कल किसने देखा है उनका कहना है.  इस तरह से उनकी पढाई पूरी हुई और बन गई आईएसआई टीना डाबी .
narco test price क्या है मतलब meaning in hindi

narco test price क्या है मतलब meaning in hindi

narco test price meaning in hindi नार्को टेस्ट का नाम तो आपने सूना होगा लेकिन यह नार्को टेस्ट क्या है और narco test price in india में कितना है ? डिजिटल केरेंसी बिटक्वाइन क्या होता है जानिए

नार्को टेस्ट क्या होता है ?

नार्को इसका प्रयोग किसी व्यक्ति के मन से सच निकलवाने के लिए किया जाता है. नार्को परीक्षण के अलावा सच उगलवाने के लिए पॉलीग्राफ, लाईडिटेक्टर टेस्ट और ब्रेन मैपिंग टेस्ट भी किया जाता है। यह परीक्षण अधिकतर आपराधिक केस मे किए जाते है | आपको बता दे इस narco टेस्ट से 1 % से भी कम चांस बना रहता है की व्यक्ति झूठ बोले. नार्को टेस्ट के लिए व्यक्ति को ट्रुथ सीरम इंजेक्शन दिया जाता है.
  • NARCO - Narcotics Commission . 
  • NARCO - Normal Adventuresome Reliable Comforting Opinionated
  • NARCO - National Rear Commodore . 
  • NARCO - North American Railcar Operators Association


narco test price क्या है मतलब meaning in hindi

नार्को टेस्ट किस पर किया जाता है ?

नार्को टेस्ट अधिकतर अपराधी के मन से सच निकालने के लिए किया जाता है इसके लिए आपराधिक व्यक्ति को इथेनाल, सोडियम पेंटोथाल, बार्बिचरेटस, टेपाजमेन इत्यादि रासयानिक ड्रग्स के इंजेक्शन दिए जाए है | इस दिए गए इंजेक्शन को ट्रुथ इंजेक्शन के नाम से भी जाना जाता है. नार्को टेस्ट करने के लिए व्यक्ति को पहले 1/2 बेहोश किया जाता है जिससे इंसान सेमी कान्सीयस स्थिति मे पहुच जाता है | मतलब इंसान न तो पूरी तरह बेहोश होता है और न ही पूरी तरह होश मे रहता है | ऐसे कंडीशन मे इंसान चाह कर भी झूठ नहीं बोल सकता | ऐसा इसलिए क्योकि इंसान को झूठ बोलने के लिए कल्पनाओ का सहारा लेना पड़ता है मतलब इंसान को झूठ कहने के लिए बातो को तोड़ मरोड़ झूठ और सच जोड़ कर बात बनानी पड़ती है | लेकिन जो घटनाए आपके या हमारे साथ हो चुकी होती है जैस - कुछ आपने देखा या महसूस किया वह दिमाग मे सेट रहता है | तो इसलिए व्यक्ति हाफ बेहोसी मे सच बोलता है.

नार्को टेस्ट की प्रक्रिया जानिए हिन्दी मे ?

नार्को टेस्ट सभी पर तो नहीं किया जाता है लेकिन जिस पर भी यह किया जाता है पहले उसकी उम्र और हेल्थ का चेकअप किया जाता है एंव मुजरिम पर कौन सा रसायन प्रयोग किया जाना है डिसाइड किया जाता है | क्योकि अगर गलत रसायन दे दिया जाए तो इंसान की मौत हो सकती है या फिर दिमाग पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है | इसलिए उम्र एंव स्वास्थ को देखकर इंजेक्शन दिया जाता है |  यह सब करने से पहले 2 मशीनों से कनेंट किया जाता है |
  • पालीग्राफ मशीन
  • ब्रेन मेपिंग टेस्ट
पालीग्राफ मशीन - पालिग्राफ मशीन नार्को टेस्ट किए जाने ब्यक्ति का रक्तचाप, नब्ज, साँसो एंव हृदय की गति और बॉडी मे होने वाली गति को रिकार्ड एंव दर्शाता है | यह सब होने के बाद अपराधीक व्यक्ति से कुछ साधारण से सवाल जैसे - नाम, माता - पिता का नाम, एड्रेस, उम्र, आप क्या करते है इत्यादि | इस तरह पुंछताछ आगे बढ़ती जाती है और धीरे धीरे अपराधी से वह सवाल पुछ लिया जाता है जो जानने के लिए नार्को किया गया था | इस तरह नार्को के जरिये सच का पता लगाया जाता है |

ब्रेन मेपिंग टेस्ट - इसका आविष्कार अमेरिका मे हुआ था जिसके आविष्कारक न्यूरोलाजिस्ट डॉ. लॉरेंस ए फारवेल ने 1962 मे किया था | यह परीक्षणकई जगहो पर किया जाता है | यह टेस्ट करने के लिए मुजरिम के सिर मे हेलमेट पहनाया जाता है जो कम्प्युटर से जुड़ा हुआ होता है साथ ही इनमे सेंसर लगा हुआ होता है | इन सेंसर का काम इंसान की दिमागी गतिविधियो को रिकार्ड करना होता है | यह गतिविधि P300 wev के जरिये डिस्प्ले पर शो होता है |  गलत बैंक मे पैसा चल जाए तो ऐसे पाए वापस
ब्रेन मेपिंग के दौरान मुजरिम को तरह तरह के साउंड सुनाई देते है साथ ही एक स्क्रीन पर वीडियो और फोटो भी दिखाई पड़ते है यह वीडियो अपराध से जुड़ा हुआ होता है | जब मुजरिम आवाज के सिनल को पहचानता है तो स्क्रीन पर P300 तरंगे शो होने लगती है | इस तरह गुनाहगार से सच उगलावा लिया जाता है | अगर मुजरिम गुनाहगार नहीं है तो वह आवाज को नहीं पहचान नहीं पाता है और p300 तरंगे नहीं शो होती है |
कंप्यूटर से Resume कैसे बनाये meaning in hindi

कंप्यूटर से Resume कैसे बनाये meaning in hindi

Resume kaise banaye ? meaning in hindi बायोडाटा - रिज्यूम क्या होता है अगर नहीं मालुम तो आज जाने साथ ही resume कैसे बनाये इसके बारे में भी जानकारी आज हाशिल करे. जब भी किसी जॉब नौकरी के लिए आप जाते है तो आपसे Resume माँगा जाता है इसलिए रिज्यूम आपको बनाकर रखना चाहिए लेकिन रिज्यूम कैसे बनाए ?

resume क्या होता है ?

रिज्यूम उस व्यक्ति का बायोडाटा होता है जो नौकरी के लिए अप्लाई करने जा रहां है . रिज्यूम में स्टूडेंट या व्यक्ति के बारे में सभी जानकारी होती है जैसे - नाम पता जन्मतिथि योग्यता, अनुभव . इस तरह से रिज्यूम में सबकुछ मौजूद होने के वजह से इंटरव्यू लेने वाले को आपके बारे में वह सभी जानकारी बस एक से दो मिनट में हो जाती है .

Resume कैसे बनाए तरीका मतलब समझे


Resume कैसे बनाये ?

अगर आप चाहते है कि जल्दी नौकरी मिल जाए तो आपका Resume बढ़िया होना चाहिए और Resume मे सबकुछ बढ़िया ढंग से और साफ साफ और Resume मे Word Size भी ऐसा होना चाहिए जो दिखने मे आसानी हो मतलब Word Size बहुत छोटा या बड़ा नहीं होना चाइए चलिए जनाते है Resume को Kaise बनाते है.

पर्सनल जानकारी

रिज्यूम के शुरुवात करते ही अपने बारे मे पर्सनल जानकारी दी जाती है लेकिन अगर आप चाहते है आपका Resume Professional हो तो Biodata, info, resume इत्यादि Heading देकर नहीं शुरू करना चाइए बल्कि अपने नाम को ही Resume Strating मे मेन हैडिंग बना देना चाहिए जिसमे आपका नाम आपके पिता का नाम आपके माता का नाम, आपका एड्रेस लिखा होना जरूरी है

कांटेक्ट संपर्क नंबर 

पर्सनल जानकारी के बाद आप अपने Contact Details की जानकारी देनी चाहिए जैसे मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी

सबजेक्ट
अब हैडिंग टाइटल लिखना चाहिए जिसमे आपके कामो का संक्षिप्त विवरण होना चाहिए | इसमे आपका जो भी Skill है उसके बारे मे बताए जैसे I Am Meachcnical Engineer इसे बेहद साफ तरीके से दिखाए

शिक्षा
आपकी Last Qualification क्या है उसे लिखे जैसे आपने Diploma किया है तो इस तरह जानकारी दे स्कूल या कालेज का नाम, कौन से साल मे पूरा किया

Professional Skill

आप इसमे अपने Skill के बारे मे बताए जिससे जॉब देने वाले को पता लगे की आपको इस काम को करने की क्षमता है . अगर आप App बनाने मे Expert है तो अप लिखे App Creation Expert ऐसा लिखे यह आपको स्म्जाने के लिए था तो आपकी जो Skill है उसे हो लिखे 

Extra Knowledge -

इसमे आप basic जानकारी दे जैसे Computer Knowledge, Internet Knowledge, Ms Word, etc जानकारी दिखाए

Empolyer history - 
यह जानकारी उनके द्वरा भरी जाती है जो Current Time मे Work कर रहे हो या फिर किसी Company मे या Govt जॉब किया हो तो आप भी अगर काही जॉब की है या कर रहे है तो उसके बारे मे बताए | इसमे लिखे आपने कौन सा काम किया है, कब किया, कब इसे खत्म किया या कर रहे है 

Experiance

अगर आपने पहले किसी कंपनी मे काम किया है जिसका आपको Experiance है तो इसमे दर्शाए और बताए की मुझे इस काम मे इतने दिन का Experiance है जैसे - 1 Year Experiance ABCD Company In UP

Hobbies

इसमे आप अपने शौक के बार मे बताए जैसे आपको कौन सा खेल पसंद है या फिर आपको गाना सुनने का शौक है या फिर गाना गाने का या फिर इन्टरनेट चलाने का या किताबे पढ़ने का या फिर घूमने का इत्यादि 

languages

आपको कौन सी भाषा बोलने लिखने या पढ़ने आती है वह लिखे यहा पर

Summary

resume को बनाते समय हमे पूरी जानकारी Expression करने वाला बनाना चाहिए जिससे Resume देखने वाला Impressed हो जाए | Resume मे अपने Details Short तरीके से न दे तो अच्छा रहता है लेकिन कुछ चीजे  short करने दे जैसे - हॉबी, भाषा, Summary इत्यादि मे दे तो आपका Resume एक Impressive बना सकते है .


डाटा एंट्री क्या है इन हिन्दी ऑपरेटर job

डाटा एंट्री क्या है इन हिन्दी ऑपरेटर job

data entry meaning in hindi - डाटा एंट्री ऑपरेटर job 2019. आपने data entry का नाम तो सूना होगा लेकिन क्या आपको पूरी जानकारी है की डाटा एंट्री आपरेटर क्या होता है ? कई बार लोगो को सवाल करते हुए देखा है पूंछते है की डाटा एंट्री कोर्स क्या है और डाटा एंट्री ऑपरेटर job 2019 के लिए कैसे apply करे . ऐसे में आज हम आपको data entry की पूरी जानकारी hindi में दे रहे है अगर आप के मन में डाटा एंट्री के बारे में सवाल है तो हमें कमेन्ट करे इसका जवाब बहुत जल्दी ही आपको दे दिया जाएगा जैसे - डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने ? data entry information in marathi

डाटा एंट्री क्या है ? 


डाटा नाम से ही पता चलता है किसी डाटा की एंट्री करनी है लेकिन डाटा की एंट्री क्या है ? तो आपको बता दे कम्प्युटर की भाषा मे अगर आप किसी भी तरह का एंट्री करते है तो इस प्रक्रिया को ही डाटा एंट्री कहा जाता है और इस प्रक्रिया को हम इनपुट डिवाइस के प्रयोग जैसे - कीबोर्ड, माउस, इत्यादि से कम्प्युटर मे प्रवेश कराते है .

"एक कम्प्युटर मे कीबोर्ड के माध्यम मे कुछ भी अगर आपने टाइप किया तो इसे ही हम डाटा के नाम से जानते है | इसी तरह कम्प्युटर मे अगर हम फोटो, वीडियो, एमपी3 इत्यादि को अपलोड करे तो यह डाटा कहलाता है |"
data entry opreter kaise bane


डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने ?

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता और कम्प्युटर से संबन्धित जानकारी का ज्ञान होना जरूरी है .



शैक्षिक योग्यता - 
डाटा एंट्री के लिए न्यूनतम योग्यता 12th होती है लेकिन कुछ पोस्ट के लिए स्नातक भी मागा जाता है .

कम्प्युटर से संबन्धित जानकारी - 

  • टाइपिंग - टाइपिंग करना आज के समय मे लगभग सभी को आता है लेकिन दाता एंट्री जॉब करना चाहते है तो एक स्पीड बनाए फास्ट टाइपिंग करने के लिए |
  • भाषा - आपको हिन्दी और इंग्लिश की अच्छी जानकारी होनी चाहिए जैसे डाटा एंट्री वर्क मे राम को इंग्लिश Ram भी टाइप करना पड़ सकता है | यह तो एक आसान सा वर्ड है |
  • कम्प्युटर सामन्य ज्ञान - आपको ईमेल भेजना, तेजी से कम्प्युटर प्रयोग करना, फोटो करना, इंटरनेट का प्रयोग अच्छी तरह से आना |
अगर आपकी टाइपिंग स्पीड अच्छी है और भाषा की आपको अच्छी पकड़ है साथ ही आपको कम्प्युटर चलाना, इंटरनेट का प्रयोग करना आता है तो आप डाटा एंट्री जॉब के लिए एप्लाई कर सकते है | डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए कई तरह के कोर्स भी किये जाते है लेकिन आपके पास उपरोक्त योग्यता और जानकारी है तो आप सीधे ही डाटा एंट्री ऑपरेटर बन सकते है और आपको किसी प्रकार का कोर्स भी नही करना होगा.

डाटा एंट्री ऑपरेटर Job पाने के लिए कोर्स 

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए आप स्टेनोग्राफर या डाटा एंट्री ऑपरेटर का कोर्स कर सकते है | यह कोर्स आप किसी भी आईटीआई कॉलेज से कर सकते है 
रैगिंग क्या है what is ragging meaning in hindi

रैगिंग क्या है what is ragging meaning in hindi

रैगिंग क्या है what is ragging meaning in hindi - अगर आप स्टूडेंट है और किसी न्यू कॉलेज में या संस्थान में एडमिशन ले चुके है तो आपने कभी ने कभी ragging का नाम तो सूना होगा और हो सकता है आपकी रैगिंग भी हुई होगी लेकिन रैगिंग क्या है what is ragging meaning in hindi उत्पाद मचाना.  12वीं कक्षा के परिणाम घोषित होने वाले है। जिसके बाद बच्चे अपनी रुचि अनुसार कोर्स चुनेगें। कुछ बच्चे रेगूलर कालेज करेंगे, कुछ नोन-कालेज करेंगे. यह समय इन बच्चों के लिए बहुत कीमती होता है। इस समय का लिया फैसला उनका भविष्य तय करता है। बच्चे भी बड़े उत्साहित होते है। 

रैगिंग क्या है what is ragging meaning in hindi 

नया कालेज, नयी पढ़ाई सब नया। ऐसे में जब नये students को रेंगिग का सामना करना पड़े तो कितना बुरा लगता है। रैंगिग इस समय की सबसे बड़ी बुराई है। और यह अब तो कालेजों तक ही सीमित नहीं रह गई है। अब तो स्कूलों में भी यह सब होना शुरू हो गया है। आखिर क्या है? यह रैंगिग। कहने को तो यह नये students के साथ जान-पहचान है। 
what is ragging

परंतु अब तो इसने बड़ा भयानक रूप ले लिया है। अब तो पुराने students नये students को बहुत परेशान करते है। नये-नये, अजीब-अजीब काम करवाते है। पहले रेंगिग के नाम पर थोड़ा सा हंसी, मजाक, थोड़े से मनोरंजन, सीनियर छात्रों के प्रति सम्मानजनक व्यवहार हुआ करता था। परंतु अब इसका रूप भयानक हो गया है। रैगिंग अपशब्द बोलना, नशा कराना, यौन उत्पीड़न, कपड़े उतरवाना जैसे घृणित स्तर तक पहुंच चुकी है। जिसके कारण नये students को काफी तकलीफ होती है। वह कालेज आने से डरने लगते हैं |

रैगिंग एक अपराध है क्या ?

कई बार यह रैंगिग इतनी गलत तरीके से होती है कि बच्चे या तो डिपरेशन में चले जाते है या तो आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठा लेते है। इन सब से बच्चे तो परेशान होते ही है इनके साथ-साथ उनके माता-पिता व पूरा परिवार परेशान हो जाता है। खासकर होस्टल में तो और भी बुरा हाल होता है। इन सब को देखते हुए सरकार ने इसके खिलाफ कड़े कानून बनाये है। इस सबको रोकने के लिये सरकार के साथ-साथ सभी शिक्षण संस्थानों को भी कड़े कदम उठाने चाहिए। 
  1. सभी स्कूलों और कालेजों में एंटी रैंगिग सेल बनने चाहिए। जहाँ पीड़ित छात्र व छात्राएं अपनी परेशानियाँ बिना किसी डर कर बता सके। और दोषी students को सजा मिल सके। 
  2. जगह-जगह पर सी. सी. टी. वी कैमरे लगे होने चाहिए। ताकि यह पता चलता रहे कि कहाँ क्या हो रहा है। 
  3. कुछ टीचरस की डयूटी लगानी चाहिए ताकि कोई भी किसी को भी परेशान न कर सके। 
  4. और साथ ही बड़े students को समझना चाहिये कि मजाक, मजाक के हद तक होना चाहिये और अंत में सभी से मैं यह निवेदन करना चाहती कि किसी के साथ भी किसी भी तरीके का गलत मजाक न करे |