18 सितंबर का इतिहास मे महत्व - today history in hindi

18 सितंबर का इतिहास मे महत्व - today history in hindi

today history in hindi - वैसे तो हर दिन का कुछ न कुछ इतिहास होता है लेकिन 18 सितम्बर को क्या खास रहा हम आपको आज बताने वाले है | अबसे हमारा प्रयास रहेगा हर दिन का आपको इतिहास की जानकारी दे फिलहाल आज हम 18 सितम्बर के इतिहास के बारे मे जानते है |
भारतीय इतिहास की प्रमुख तिथिया क्लिक से पढे

आज का इतिहास 18 सितम्बर -



सन 1502 - दुनिया की चौथी यात्रा के दौरान क्रिस्टोफर कोलम्बल कोस्टिरिका पाहुचा |
सन 1615 - जहाँगीर के दरबार मे इंग्लैंड नरेश जेम्स प्रथम का राजपूत थोमस भारत पाहुचा |
सन 1803 - ब्रिटिश फौजों ने पूरी पर कब्जा किया |
सन 1851 - न्यूयार्क टाइम्स का प्रकाश शुरू हुआ |
सन 1860 - इटली की आजादी की लड़ाई मे पोपा के 4 हजार सैनिक मारे गए |
सन 1900 - डॉ, शिवसागर रामगुलाम का जन्म मारिशस मे हुआ |
सन 1934 - सोवियत संघ ने लीग ऑफ नेशंस की सदस्यता ग्रहण की |
सन 1961- राष्ट्र संघ महासचिव दाग हैमरशोल्ड उत्तरी रोडेशिया मे एक विमान दुर्घटना मे मारे गए |
सन 1981- फ्रांस की संसद ने मौत की सजा समाप्त करने का प्रस्ताव पारित किया |
सन 1982- लेबनान की ईसाई मिलिशिया ने शाटिला और साबरा के शिवीरों मे 800 फिलिस्तीनी सरनाथियों को मौत के हवाले उतार दिया |
सन 1987 - नागालैंड ने अंग्रेजी को राज्य की सरकारी भाषा बनाया |
सन 1988 - बर्मा मे सेना ने सत्ता पर कब्जा किया |
सन 1992 - भूतपूर्व उपराष्ट्रपति हिदायतुल्ला का निधन |
सन 2000 - आइवरी कोस्ट के सैनिक शासक जनरल राबर्ट गुएई पर कातिलाना हमला हुआ |
सन 2001 - केंद्रीय मंत्रीमण्डल ने प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य और मुफ्त करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी |
सन 2007 - महेंद्र सिंह धोनी को भारत की वन डे टिम का कप्तान नियुक्त किया गया |
रफ्तार का राजा जापान - high speed bullet train in japan

रफ्तार का राजा जापान - high speed bullet train in japan

दुनिया की सबसे तेज रफ्तार ट्रेन का रिकार्ड जापान की एलओ सीरीज ट्रेन का है इसका परीक्षण जापान ने 21 अप्रैल 2015 को किया था | इसकी अधिकतम रफ्तार 603 KM/Hour है | 2027 तक इस ट्रेन को चलाने की योजना है | यह अत्याधिक चुंबकीय तकनीकी मैगनोटिक लेवीटेशन से चलती है | इसमे बिजली से चार्ज किए गए चुंबक ट्रेन को पटरी से चार इंच ऊपर रखते है | इससे शोर कम रफ्तार अधिक हो जाती है |

bullet train

हर देश की चाह, खुले हाई स्पीड की राह - Bullet Train In India

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने जापानी समकक्ष शिजों एबी के साथ गुरुवार को देश मे बुलेट ट्रेन या हाई स्पीड रेल [ एचएसआर ] की बुनियाद राखी | इसे भारतीय अर्थव्य्स्था के लिए बेहतर अवसर के रूप मे देखा जा रहा है | अपने आर्थिक सामाजिक और प्राकृतिक लाभ के चलते ही एचएसआर दुनिया के कई देशो को आकर्षित कर रही है | इसकी शुरुवात जापान से 1964 मे शिनक्नसेन ट्रेन के रूप मे हुई | चीन जर्मनी फ्रांस समेत करीब 15 देश इसे अपना चुके है | कई देशो मे इसके निर्माण की योजना है | विश्व की सर्वाधिक रफ्तार ट्रेन जापान के पास ही है | हाई स्पीड ट्रेन की न्यूनतम रफ्तार 200 KM/Hour होती है |
रेलवे ट्रेन टिकट बूकिंग एजेंसी कैसे खोले जानकारी
विकास को गति, पर्यावरण सुरक्षित, रोजगार सहित देश को होंगे कई फायदे -



बढ़ेगी प्रति व्यक्ति जीडीपी -
समावेशी विकास को ध्यान रख जब जापान ने 1964 मे पहली बुलेट ट्रेन चलाई तो उसकी प्रति व्यक्ति जीडीपी 825 डॉलर थी | अब यह 36 हजार डालर है चीन मे एचएसआर के बाद प्रति व्यक्ति जीडीपी 3500 से 8 हजार डालर पहुच गई है | 2022 मे जब भारत मे यह ट्रेन चलेगी तो प्रति व्यक्ति जीडीपी करीब 3 हजार डालर होगी | भारत को इसका फाइदा मिलेगा क्योकि इस रूट पर मुंबई, वापी, और ठाणे जैसे कई बड़े व्यावसायिक केंद्र है |

नए रोजगार - करीब 20 हजार लोगो को इसके निर्माण कार्य मे और 4 हजार से अधिक लोगो को निर्माण के बाद स्थायी नौकरी मिलेगी |

तकनीकी समझने मे मदद -
बुलेट ट्रेन चलने से देश की कंपनियो को इसकी तकनीकी को समझने मे मदद मिलेगी | इससे भविष्य मे स्वदेशी स्तर पर बुलेट ट्रेन चलाने का प्रयास होगा साथ ही भारतीय रेलवे को भी फायदा होगा |



शीर्ष एचएसआर और देश -
चीन - शंघाई मैगलेव ट्रेन -
431 किमी/घंटा रफ्तार विश्व की मौजूदा हाई स्पीड ट्रेन है | चीन मे 22 हजार किमी का एचएसआर ट्रेक है जो दुनिया का सर्वाधिक है |

चीन - हार्मोनी सीआरएच 380ए
अधिकतम रफ्तार 380 किमी/घंटा है | बीजिंग से शंघाई के बीच 2010 मे इसे शुरू किया गया था |

इटली - एजीवी इटालो
अधिकतम रफ्तार 360 किमी/घंटा है 2012 मे चालू हुआ |

स्पेन - सिमेंस वेलैरो ई/एवीई 103
अधिकतम रफ्तार 350 किमी/घंटा है बार्सिलोना और मेड्रिड़ के बीच 2007 मे शुरू हुई |

स्पेन - टाल्गो 350
अधिकतम रफ्तार 350 किमी/घंटा है 2005 से यह ट्रेन मेड्रिड़ - बार्सिलोना रेल लाइन पर चल रही है |

अन्य प्रमुख देश -
  • मोरकको - केनित्रा और टेंगीयर के बीच 2018 मे एचएसआर शुरू होगी 
  • इन्डोनेशिया - जाकार्ता से बांडुग के बीच एचएसआर चलाने की योजना
  • सऊदी अरब - मदीना से मक्का चलाने की योजना
  • उज्बेकिस्तान - छह सौ किमी ट्रैक पर टाल्गो 250 एचएसआर चलती है
  • दक्षिण कोरिया - सियोल से बूसान के बीच कोरियन ट्रेन एक्स्प्रेस चलती है
  • ताइवान - ताइपे रेलवे स्टेशन से जुओयिंग स्टेशन तक चलती है 
  • अमेरिका - कई रूटो पीआर चालू साथ ही कुछ अन्य रूट प्रस्तावित
  • फ्रांस - 1981 मे यूरोप की पहली एचएसआर पेरिस - ल्यान के बीच चली | 2647 किमी मौजूदा एचएसआर रेल नेटवर्क है इसके साथ ही जर्मनी और रूस मे कई रूटो पर एचएसआर चलती है |
सुंदर त्वचा पाने के लिए अपनाए कुदरती टिप्स

सुंदर त्वचा पाने के लिए अपनाए कुदरती टिप्स

चेहरे को सुंदर और चमकदार कैसे बनाए क्या आपको पता है अगर नहीं चलिए जानते है सुंदर बनने का तरीका |
सुंदर और स्वस्थ त्वचा पाना हर स्त्री की चाहत होती है पर व्यस्थ जीवन की वजह से बार बार ब्यूटी पार्लर जाना संभव नहीं हो पाता है | कुछ आसान घरेलू उपाय जिसकी मदद से आप घर बैठे पा सकती है मनचाही सुंदरता | तो आज हम आपको सुंदर कैसे दिखे इसके लिए बताने वाले है कुदरती टिप्स |
सोने से 3 घंटे पहले खाना क्यो खाए जानिए 

सुंदर त्वचा पाए इन तरीको से


  • विटामिन्स, मिनरल्स और एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है केला सेहत ही नहीं, बल्कि सौन्दर्य की दृष्टि से भी फायदेमंद साबित होता है | पके केले के पेस्ट को ग्लिसरीन के साथ मिलाकर चहेरे पर लगाए और 10 मिनट तक छोड़ दे | जब सुख जाए तो ठंडे पानी से धो ले | ऐसा करने से रूखी त्वचा कोमल बनी रहती 
  • प्रतिदिन सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी मे नींबू का रस और शहद मिलाकर पीने से त्वचा मे चमक आती है |
  • चहेरे, गर्दन और हाथो पर नियमित रूप से नींबू का छिलका रगड़ने से त्वचा की रंगत मे निखार आता है |
  • नीबू के छिलके को आर्मपिट्स मे रगड़ने से पसीने की बदबू दूर हो जाती है |
  • नींबू के छिलको पर चीनी डालकर नाखूनो और एड़ियो पर रगड़ने से उनमे चमक आ जाती है |
  • आंखो को डार्क सर्कल से बचाने के लिए खीरे या आलू को घिसकर आंखो को आसपास लगाकर दस मिनट रखे और उसके बाद ठंडे पानी से धो ले |
  • खुले रॉम छिद्रो को बंद करने के लिए नींबू के रस मे कच्चा दूध मिलाकर चहेरे पर लगाए और दस मिनट बाद धो ले |
  • चहरे के दाग धब्बो को मिटाने के लिए हरे नारियल का पानी नियामित रूप से लगाए | इससे कुछ ही महीने मे आपको फर्क नजर आने लगेगा |
  • डैड्रफ दूर करने के लिए खट्टे दहि से सिर की त्व्चा की मालिस करे और आधे घंटे के बाद मालिस कर ले |
  • दही मे शहद मिलाकर चेहरे पर लगाए इससे त्वचा की टैनिंग दूर हो जाती है |
  • अधिक तेज धूप से यदि आपकी त्वचा झुलस गई हो तो 2 चम्मच टमाटर के रस मे 4 चम्मच छाछ मिलाकर लगाए |
  • त्वचा को चमकदार बनाए रखने के लिए जूस, सूप , छाछ लस्सी और नींबू पानी जैसे तरल पदार्थो का सेवन अधिक करना मात्रा मे करना चाहिए | दिन भर मे कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पिए |
  • पुदीने के पत्तों को  पीसकर उसमे खीरे का रस मिलाकर चेहरे पर लगाए और आधे घंटे बाद ठंडे पानी से धो ले यह बहुत अच्छे टोनर का काम करती है | इससे ढीली त्वचा मे कसाव आ जाएगा |
Happy Watsapp Status In Hindi - खुशियो की चाभी

Happy Watsapp Status In Hindi - खुशियो की चाभी

Love status - Whatsapp Status in Hindi, sad love status for whatsapp status in hindi, sad love status for whatsapp dard bhare status in hindi, dard bhare status in marathi, Dil Ka Dard SMS, दर्द भरे Hindi Status.

जन्मदिन बधाई शायरी हिन्दी
हर किसी को दिल मे उतनी ही जगह दो जितनी वो देता है
वर्ना या तो खुद रोओगे या वो तुम्हें रुलाएगा |
खुश रहो लेकिन कभी संतुष्ट मत रहो
अगर जिंदगी मे खुश रहना है तो पैसे को हमेशा जेब मे रखना दिमाग मे नहीं
 इंसान अपनी कमाई के हिसाब से नहीं अपनी जरूरत के हिसाब से गरीब होता है |

दुनिया मे सबसे ज्यादा सपने तोड़े है इस बात ने कि लोग क्या कहेगे | 
जब लोग अनपड़ थे तो परिवार एक हुआ करते थे
टूटे परिवारो मे अक्सर पढे लिखे देखे गए है | 
 हर समस्या का दो हल होते है - भाग लो [ रन अवे ] दूसरा भाग लो [ पार्टीशिपेट ] पसंद आपको ही करना है |
अपनी सफलता का रौब माता पिता को न दिखाओ
उन्होने अपनी जिंदगी हार के आपको जिताया है | 

 यदि जीवन मे लोकप्रिय होना है तो सबसे ज्यादा आप शब्द का उसके बाद हम शब्द का और सबसे कम मैं शब्द का प्रयोग करना चहाइए |
 इस दुनिया मे किसी का कोई हम दर्द नहीं होता है
लाश को श्मशान मे रखकर अपने ही लोग पुंछते है और कितना वक्त लगेगा |
दुनिया के असंभव काम - माँ की ममता और पिता की क्षमता का अंदाजा लगा पाना | 
यदि कोई इंसान आपको गुस्सा दिलाने मे कामयाब हो जाता है तो समझ लीजिए की आप उसके हाथो की कठपुतली है | 
यदि कोई तुम्हें नजर अंदाज करदे तो बुरा मत मानना क्योकि लोग अक्सर हेसियत से बाहर महगी चीज को नजर अंदाज कर देते है  
कोई देख न सका उसकी बेबसी जो साँसे बेच रहा है गुब्बारों मे डालकर 
 मुझे कौन याद करेगा इस दुनिया मे
हे ईश्वर बिना मतलब के तो लोग तुम्हें भी याद नहीं करते 
 जब आप गुस्से मे तो कोई फ़ैसला न करना और जब आप खुस हो तो कोई वादा न करना [ यह याद रखना कभी नीचा नहीं देखना पड़ेगा ]
 दुनिया मे ऊपर वाले का संतुलन कितना अधभूत है 100 KG अनाज का बौरा जो उठा सकता है वो खरीद नहीं सकता और जो खरीद सकता है वह उठा नहीं सकता |
इन्टरनेट Google पर तेजी से बढ़ रही है हिन्दी

इन्टरनेट Google पर तेजी से बढ़ रही है हिन्दी

hindi ya english kya best hai, hindi khoj, hindi website, hindi me jankari, hindi ka istemal
कुछ समय इनतारनेट पर कुछ भी सर्च करना होता था तो इंगलिश मे ही सर्च किया जाता था लेकिन समय बदल रहा है और आज आज हिन्दी इंगलिश से लोहा लेने को तैयार बैठी है | आज इन्टरनेट पर हिन्दी सामग्री की खपत तेजी से बढ़ी है | बीते कुछ समय वर्षो मे 94 फीसदी की दर से वृद्धि हुई है | जबकि अँग्रेजी सामग्री का इस्तेमाल महज 19 फीसदी की दर से बढ़ा है |
आत्मा क्या होता है जानिए
hindi

इन्टरनेट पर हिन्दी की पकड़ Hindi is fast growing on the Internet

  • आज इन्टरनेट पर 50 हजार से ज्यादा हिन्दी ब्लॉग मौजूद है |
  • आज 15 से अधिक हिन्दी सर्च इंजन है साइबर संसार मे |
  • आज 5 भारतीय मे से 1 भारतीय इन्टरनेट पर हिन्दी मे सामग्री ढूंदता है 
  • एक रिपोर्ट के मुताबिक 94% सलाना की दर से इन्टरनेट पर हिन्दी का इस्तेमाल बढ़ रहा है |
  • रिपोर्ट मे यह भी पाया गया की  इन्टरनेट पर 20 करोड़ से भी ज्यादा हिन्दी पढ़ने वाले यूजर 2021 तक हो जाएँगे |
  • विकिपीडिया का नाम कौन नहीं जानता आज के टाइम विकिपीडिया पर 1.2 लाख से ज्यादा हिन्दी पेज मौजूद है | 

हिन्दी की ऑनलाइन बढ़ती धमक -
  • साल 2000 - इस साल मे हिन्दी का पहला वेबपोर्टल अस्तित्व मे आया |
  • साल 2003 - इस साल मे हिन्दी का पहला ब्लॉग "नौ दो ग्यारह" बना | आपको बता नौ दो ग्यारह हिन्दी भाषा का पहला चिट्ठा था जिसे आलोक कुमार द्वारा 21 अप्रैल 2003 मे शुरू किया गया था |
  • साल 2011 - इस साल मे हिन्दी दिवस पर माइक्रो ब्लोगिंग वैबसाइट ट्विटर का संस्करण हुआ |
Google ने भी माना लोहा - 
  • अँग्रेजी और जर्मन के बाद हिन्दी तीसरी भाषा है जिसमे Google ने व्रचुवल असिस्टेंट एप जारी किया गूगल एलो एक मैसेजिंग एप है जो Android और IOS प्लेटफार्म पर काम करता है | यह न सिर्फ हिन्दी यूजर की बात सुनता समझता है बल्कि उसकी जरूरत के मुताबिक प्रतिक्रिया भी करता है |
  • इसी तरह का एप्पल ने भी व्रचुवल असिस्टेंट जारी कर चुका है जो हिन्दी मे भी काम करता है |
फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स ऐसे बना सकते है

फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स ऐसे बना सकते है

अभी तक आपने मोटर साइकिल, कार इत्यादि का ड्राइविंग लाइसेन्स बनवाया होगा लेकिन आज हम आपको फेसबूक के लिए ड्राइविंग लाइसेन्स बनाने का तरीका बता रहे है | यह एक Fun के लिए है तो आप इसे सीरियस तौर पर न ले |


facebook id card


वैसे फेसबूक आईडी या ड्राइविंग लाइसेन्स बनाने की कई वैबसाइट इन्टरनेट पर मौजूद है लेकिन हम आपको बढ़िया वैबसाइट के बारे मे बताएँगे जहां से आप आसानी से फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स बना सकते है |



जब आपका फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स बन जाएगा तो उसे आप सीधे अपने दोस्तो को share भी कर सकते है लाइसेन्स मेकर वैबसाइट से | आप चाहे तो अपना फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स डाउनलोड भी कर सकते है |
लड़की को गरम कैसे करे तरीका

Fb Licence Card Create By Facebook License Maker

  • सबसे पहले आप अपने फेसबूक मे लॉगिन कीजिए और फिर यहा क्लिक कीजिए | क्लिक से न्यू पेज खुल जाएगा |
  • अब आपको फेसबूक लॉगिन बटन पर क्लिक करना होगा | यह आपसे परमिशन मागेगा फेसबूक मे इंटर होने के लिए तो आप परमिशन दे क्लिक करे "Continue As YourName"
  • अब आपका लाइसेन्स कार्ड बन चुका है आप चाहे तो फेसबूक लाइसेन्स कार्ड डाउनलोड कर सकते है | स्मार्ट फोन यूजर लाइसेन्स डाउनलोड करने के लिए फोटो पर tab करे और फिर save कर सकते है | अगर आप कम्प्युटर का प्रयोग कर रहे है तो माऊस के राइट बटन को क्लिक करके फोटो को save कर सकते है |

  • अब आपके फोन Gallery मे Fb Driving License देख सकते है |
इस तरह से अपने लिए facebook driving' license बना सकते है अगर आपको कोई समस्या आए आईडी बनाने मे तो हमे बताए हम आपकी मदद कर सकते है |
कागज की खोज - kagaj ki khoj in india

कागज की खोज - kagaj ki khoj in india

कागज का प्रयोग आपने किया तो है लेकिन क्या आप कागज के इतिहास के बारे मे जानते है जैसे - कागज की खोज किसने किया, कागज का इतिहास क्या है, भारत मे कागज का आरम्भ कब और कैसे हुआ | अगर आपको नही पता है तो आज इस लेख मे आपको कागज के बारे मे जानकारी प्राप्त होगी आइये जाने कागज के बारे मे |

कागज - कागज को बनाने के लिए घास फूंस, लकड़ी, कच्चे माल, सेलुलोज-आधारित उत्पाद का प्रयोग किया जाता है |  कागज की महत्वता क्या है इससे आप भली भाति परिचित है | कागज का प्रयोग शिक्षा, व्यापार, बैंक, इत्यादि मे किया जाता है | कागज का आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था मे महत्वपूर्ण योगदान है इसके बिना कार्यप्रणाली को पूरा कर पाना सम्भव नहीं हो पाता |

kagaj avishkar
कागज का सर्वप्रथम प्रयोग चीन मे किया गया साथ ही कहा जाता है हान राजवंस के [ 202 ई.पू. ] मुख्य शाशक हो - टिश के राज दरबार मे त साई लून द्वारा कागज निर्माण की कला को लोगो के सामने लाया | यह जो कागज बना था वह भांग, शहतूत, पेड़ के छालो तथा अन्य तरह के रेशो का प्रयोग करके कागज बनाया गया था | यह कागज काफी चमकीला, मुलायम, लचीला, और चिकना होता था | कागज बनाने का तरीका धीरे धीरे पूरे दुनिया मे फैलाया गया | "त- साई - लून को " कागज के संत " के रूप मे सम्मान किया जाता है |



भारत मे कागज की खोज -
यह बात तो साफ है की कागज की खोज का श्रेय चीन को जाता है लेकिन चीन के बाद भारत मे कागज का निर्माण और प्रयोग का संकेत सिंधु सभ्यता से प्राप्त होता है |

कागज के बारे मे तथ्य -
  • कहा जाता है भारत मे कागज नेपाल के आर्ग से आया था लेकिन इस विषय पर कोई प्रमाण और विश्वाष के कोई स्पष्ट साक्ष्य नहीं मिलते है |
  • चीनी यात्री इत्सिंग द्वारा लिखी पुस्तक मे कागज का उल्लेख किया गया है जिसमे कहा गया है की कागज का प्रथमया आदान - प्रदान भारत से हुआ लेकिन इस बात का कोई स्पष्ट साक्ष्य नहीं प्राप्त होता है |
  • अलबरुनी फारसी विद्वान लेखक ने यह साफ कर दिया की कागज का आविष्कार चीनीयो ने किया था और अरब देश के वाशियों ने चीनियो के केंप पर कब्जा बनाकर कागज निर्माण का फार्मूला प्राप्त किया | इस तरह से कागज बनाने की तकनीकी पूरे विशाव ए फ़ैली |


भारत मे कागज के उद्योग -
  • भारत मे कागज बनाने की शुरुवात मुगल काल मे हुआ |
  • कश्मीर के सुल्तान जैनुल आबिदीन द्वारा सबसे पहला कागज बनाने की मिल कश्मीर मे स्थापित किया |
  • आधुनिक कागज का उद्योग कलकत्ता मे हुगली नदी के तट पर बाली नामक स्थान पर स्थापित किया |
  • बंगाल मे सन 1887 मे टीटा कागज मिल्स को स्थापित किया गया लेकिन यह मिल कागज को बनाने मे सफल न हो पाई |
ग्रीन टी क्या है के फायदे नुकसान - green tea benefits in hindi

ग्रीन टी क्या है के फायदे नुकसान - green tea benefits in hindi

green tea kya hai aur green tea ke kya faayde hai aaiye jaane, green tea benefits in hindi, green tea banane ka tarika
green tea - ग्रीन टी को लेकर लोगो मे तमाम तरह की धारणाए व्याप्त है स्वास्थ के प्रति सजग रहने वाले लोग, खासतौर पर डाइटिंग करने वाले लोग ग्रीन टी को अपने खानपान मे जरूर स्थान देते है | वैसे तो ग्रीन टी काफी फायदेमंद होती है लेकिन green tea पीते समय कुछ बाटो का ध्यान जरूर देना चाहिए |


 green tea benefits in hindi
नार्मल डिलिवरी की चाह तो रखे इन बातो का ख्याल
ग्रीन टी कैसे बनाए - ग्रीन टी बनाने के लिए सबसे पहले green tea सामाग्री इकठ्ठा कीजिए |
  • ग्रीन टी पट्टी - एक चम्मच
  • पानी - डेढ कप 
  • ईलाईची - 1- 3 डली
  • चीनी या शहद - 1 चम्मच या स्वादअनुसार


बनाने का तरीका - ग्रीन टी बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन या पात्र ले जिसे आंच [ गैस ] पर पानी डालकर रख दे | जब पानी उबलने लगे तो उसमे ग्रीन टी पाउडर डाले और फिर बर्तन को ढक दे | जब पानी मे ग्रीन टी पट्टी अच्छी तरह मिक्स हो जाए [ ऐसा 2 मिनट तक करे ] तो एक छननी की सहायता से ग्रीन टी एक कप मे छान कर निकाल ले | अब छानी हुई ग्रीन टी मे चीनी या शहद और ईलाईची पाउडर को डालकर मिलाए | अब आपका ग्रीन टी बिलकुल बनकर तैयार है |


ग्रीन टी फ़ैक्ट - फायदे या नुकसान 

  • ग्रीन टी को खाने के साथ नहीं पीना चाहिए दरअसल ग्रीन टी मे कैटेकिन नामक एक तत्व मौजूद होता है | यह तत्व शरीर के आयरन के जज़्ब होने मे दिक्कत पैदा करता है | इससे शरीर मे आयरन की समस्या हो सकती है | इसलिए अगर अगर ग्रीन टी पीनी है तो 2 मील के बीच मे पिए और खाने मे विटामिन सी और आइरन की मात्रा बढ़ा ले |
  • गर्भवती महिलाओ और स्तनपान कराने वाली महिलाओ को दिन मे 2 कप से ज्यादा ग्रीन टी नहीं पीनी चाहिए | इसके ज्यादा मात्रा के सेवन से शिशु को नुकसान पाहुचा सकता है | ऐसा इसलिए क्योकि इसमे काफी मात्रा मे कैफीन होता है | अधिक कैफीन ग्र्भावस्था मे खतरनाक हो सकता है | कैफीन दूध के जरिये शिशु तक भी पाहुचता है जो उसके स्वास्थ के लिए सही नहीं होता है |
  • एक कप ग्रीन टी मे काफी कैफीन होता है | अगर आप दिन मे 4 स3 5 कप ग्रीन टी पिटी है तो कैफीन की अधिक मात्रा शरीर मे पाहुच जाएगी | अधिक मात्रा मे शरीर मे कैफीन पाहुचने पर घबराहट, चक्कर, अनिद्रा , सिने मे जलन आदि समस्याए हो सकती है |
  • खाली पेट ग्रीन टी के सेवन से एसिडिटी की समस्या हो सकती है |
  • याद रखिए कि ग्रीन टी का सेवन किसी भी दवा के साथ नहीं करना चाहिए | खासतौर से नर्वस सिस्टम के लिए ली जाने वाली दवाओ के साथ |
बड़ा दम है जादू की झप्पी मे - jadu ki jhappi

बड़ा दम है जादू की झप्पी मे - jadu ki jhappi

jadu ki jhappi, gale lagne ke fayde, ladka ladki ko gale kaise lagye, jadu ki jhappi kya hai, gale lagakar pyar kaise kare
जब आप अपने प्रिय दोस्तो को स्पर्श करते है या उन्हे एक प्यारी सी झप्पी देते है तो इसका असर न केवल हमारे मन और मस्तिक पड़ता है | बल्कि यह हमे अनेक प्रकार की बीमारियो से बचाने मे सहायक होती है | यह हम नहीं अमेरिका की कानेगी मेलन यूनिवर्सिटी का कहना है |


gale lagane ke fayde
फेसबूक ड्राइविंग लाइसेन्स ऐसे बना सकते है
जादू की झप्पी के फायदे -
  • अमेरिकी वेज्ञानिकों का कहना है जैसे ही आप अपने प्रिय लोगो के संपर्क मे आते है तो आपके शरीर मे कई हार्मोन्स का स्राव तेजी से होने लगता है | अभी तक माना जाता था कि लोगो के संपर्क मे आने पर शरीर मे होने वाले हार्मोनल स्राव आपको केवल सुखद अहसास कराते है | लेकिन हालिया शौध अधध्यन बताते है की हारमोन के सक्रिय होने के कारण शरीर कई प्रकार की बीमारियो से बचा रहता है
  • विशेषज्ञों के अनुसार हारमोन के असर के कारण हमारा ब्लड प्रेशर भी सही रहता है | जादू की झप्पी से हमारे मांसपेशियो को दर्द से भी राहत मिलती है | साथ ही तनाव मे भी आराम मिलता है | प्यार से गले लाग्ने और लगाने से आपसी प्रेम और बढ़ता है |  विशेषज्ञों का कहना है इसका असर हमारी त्वचा पर भी पड़ता है और यह एंटी एजिंग का काम भी करता है |
  • वेज्ञानिकों का कहना है की इस संदर्भ मे एक बात का हयाल रखे की कभी उन लोगो को स्पर्श करने की कोसिश न करे जिनसे आपके विचार मेल न खाते हो | कारण ऐसे लोगो को जादू की झप्पी देने से दिमाग मे गलत संदेश पाहुचता है | 
  • वैज्ञानीको को कहना है सबसे अधिक फाइदा अपने बच्चो को स्पर्श करने पर होता है | विशेषज्ञो के अनुसार बच्चो की अबोधता हमारे मन मष्टिक पर काफी गहरा असर डालती है |